scorecardresearch
 

PAK ने हमारे दावों की उड़ाई धज्ज‍ियां, कहा- पठानकोट हमले में जैश का हाथ नहीं

पाकिस्तान के इस जवाब पर फिलहाल भारत की तरफ कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. बता दें कि भारत पाकिस्तान को हमले में जैश के आतं‍कियों के शामिल होने को लेकर सबूत दे चुका है.

पठानकोट में 2 जनवरी को किया गया था आतंकी हमला पठानकोट में 2 जनवरी को किया गया था आतंकी हमला

पठानकोट आतंकी हमला में पाकिस्तान ने भारत को बड़ा झटका दिया है. पड़ोसी मुल्क की तरफ से मामले की जांच करने वाली टीम ने दावा किया है कि एयरबेस पर हमले में जैश-ए-मोहम्मद का हाथ नहीं था. पाकिस्तानी टीम का कहना है कि ऐसे कोई सबूत नहीं मिले हैं जिसके आधार पर कहा जा सके कि हमले के पीछे जैश का हाथ है. जबकि भारत लगातार आरोप लगाता रहा है कि हमले का मास्टरमाइंड जैश चीफ मौलाना मसूद अजहर है.

एक टीवी चैनल की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान के इस जवाब पर फिलहाल भारत की तरफ कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. बता दें कि भारत पाकिस्तान को हमले में जैश के आतं‍कियों के शामिल होने को लेकर सबूत दे चुका है. जबकि पाकिस्तान के ताजा रवैये से साफ जाहिर है कि वह मौलाना मसूद अजहर पर कार्रवाई करने की मुद्रा में नहीं है. भारत ने कहा है कि एयरबेस में घुसने वाले 6 आतंकियों को मौलाना मसूद अजहर ने भेजा था.

फोन रिकॉर्ड की जांच नहीं
गौरतलब है कि मौलाना मसूद अजहर आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का प्रमुख है. भारत ने पाकिस्तान को इस बाबत जो सबूत सौंपे हैं, उनमें पठानकोट में घुसे आतंकियों के फोन रिकॉर्ड भी शामिल हैं. हालांकि, पाकिस्तान ने कहा है कि फोन रिकॉर्ड समेत कुछ सबूतों की अभी तक जांच नहीं की गई है.

सात जवान हुए थे शहीद
साल की शुरुआत में ही 2 जनवरी को तड़के 3:30 बजे हुए इस आतंकी हमले में 7 सैनिक शहीद हो गए थे. पाकिस्तान ने हमले के तुरंत बाद इसमें अपने लोगों के शामिल होने से इनकार कर दिया था. हमले के बाद पाकिस्तानी पीएम नवाज शरीफ ने पीएम नरेंद्र मोदी को फोन कर हमले की जांच में सहयोग का वादा किया था. शरीफ ने मामले की जांच के लिए एक उच्च सदस्यीय जांच टीम भी बनाई है. इसमें सेना समेत कई उच्च सरकारी अफसर शामिल हैं. यह टीम भारत की तरफ से दिए गए सबूतों के आधार पर मामले की जांच कर रही है.

एनआईए चीफ फिर कर सकते हैं पठानकोट का दौरा
दूसरी ओर, पठानकोट हमले में आतंकियों की संख्या के बारे में उठ रहे सवालों के बीच खबर है कि एनआईए चीफ शरद कुमार एक बार फिर पठानकोट एयरबेस का दौरा कर सकते हैं. शरद कुमार एक्सपर्ट्स के साथ उन सबूतों की जांच करेंगे, जो एयरबेस पर हमले के बाद इकट्ठा किए गए हैं. तीन जनवरी को होम सेक्रेटरी राजीव महर्षि और एयर मार्शल अनिल खोसला ने कहा था कि चार आतंकियों के एयरबेस में घुसने के पहले ही दो आतंकी एयरबेस में एंट्री कर चुके थे.

गुरदासपुर के पूर्व एसपी सलविंदर सिंह ने भी जांच एजेंसियों को आतंकियों की संख्या चार ही बताई थी. सलविंदर को कथित तौर पर आतंकियों ने हमले से पहले किडनैप किया था. जांच टीम को अब तक आतंकियों की चार असॉल्ट राइफलें और एक पिस्टल ही मिली है. ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि अगर छह आतंकी थे तो उनके हथियार कहां हैं? एनआईए इन सवालों के ही जवाब ढूंढ़ रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें