scorecardresearch
 

गुजरात चुनाव कांग्रेस के लिए 'अच्छा' रहा तो राहुल के हाथ में होगी विपक्षी एकता की डोर?

विपक्षी दलों का मानना है कि गुजरात चुनाव में अगर कांग्रेस के पक्ष में अच्छे परिणाम आए तो वह विपक्ष की एकता में नई जान फूकेंगे. कुछ विपक्षी नेताओं का यह मानना है कि विपक्षी दलों पर इस बात का दबाव है कि अगर वह मिलजुल कर चुनाव नहीं लड़ेंगे तो उनके अस्तित्व पर खतरा आ सकता है.

राहुल गांधी (फाइल फोटो) राहुल गांधी (फाइल फोटो)

कांग्रेस अध्यक्ष पद पर राहुल गांधी की ताजपोशी लगभग तय होने के बीच अनेक विपक्षी दलों का मानना है कि वह बीजेपी को केंद्र की राजनीति में कड़ी टक्कर देने और क्षेत्रीय दलों की आपसी विसंगतियों को साधकर उन्हें साथ लेकर चलने में अपनी मां और मौजूदा पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी की तरह ही कारगर साबित होंगे.

विपक्षी दलों का मानना है कि गुजरात चुनाव में अगर कांग्रेस के पक्ष में अच्छे परिणाम आए तो वह विपक्ष की एकता में नई जान फूकेंगे. कुछ विपक्षी नेताओं का यह मानना है कि विपक्षी दलों पर इस बात का दबाव है कि अगर वह मिलजुल कर चुनाव नहीं लड़ेंगे तो उनके अस्तित्व पर खतरा आ सकता है. इसलिए राहुल को विपक्ष की एकता कायम करने में अधिक दिक्कत नहीं आनी चाहिए.

RJD और SP का राहुल को समर्थन

गौरतलब है कि राहुल गांधी कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए एकमात्र उम्मीदवार रह गए हैं. 11 दिसंबर को पार्टी अध्यक्ष पद के लिए नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि है. पार्टी संविधान के मुताबिक इसके बाद ही नए अध्यक्ष के निर्वाचित होने की घोषणा की जाएगी. राहुल के कांग्रेस अध्यक्ष बनने की औपचारिक घोषणा से पहले ही राजद प्रमुख लालू प्रसाद एवं सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने घोषणा कर दी है कि उन्हें राहुल के साथ काम करने में कोई कठिनाई नहीं है. विपक्षी एकता कायम रखने में राहुल कितने कारगर होंगे. इस सवाल पर द्रमुक नेता तिरूचि शिवा ने कहा कि राहुल गांधी एक होनहार युवा नेता हैं. वह कांग्रेस के लिए मूल्यवान साबित होंगे.

विपक्षी एकता को मिलेगी मजबूती

सपा नेता नरेश अग्रवाल का मानना है कि किसी के बारे में पहले से ही आकलन करना गलत है. उन्होंने कहा जब आदमी किसी पद पर बैठता है तो कुर्सी आदमी को खुद ही लायक बना देती है. इस काम में मुझे नहीं लगता कि कोई दिक्कत आनी चाहिए. जब सभी विपक्षी दलों का लक्ष्य है कि बीजेपी को हराओ तो इसमें दिक्कत क्या आएगी.

राज्यसभा सदस्य शिवा ने कहा कि राहुल गांधी की अगुवाई में यदि गुजरात में कांग्रेस का प्रदर्शन बेहतर रहता है तो निश्चित तौर पर इससे विपक्षी एकता को मजबूती मिलेगी. उन्होंने कहा कि विपक्षी एकता की मजबूती के लिए अन्य गैर भाजपा दलों के साथ-साथ कांग्रेस का मजबूत होना भी बहुत जरूरी है. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता तारिक अनवर ने कहा कि सभी विपक्षी दलों के साथ उनका राहुल का पहले से अच्छा संपर्क है. इसको वह आगे और मजबूत बनाएंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें