scorecardresearch
 

चमकी बुखार का कहर जारी, 15 दिन तक स्वागत समारोह का आयोजन नहीं करेगी BJP

बिहार में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (चमकी बुखार) से मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. अब तक 69 बच्चों की मौत हो चुकी है. इस बीच बीजेपी ने अगले 15 दिन तक प्रदेश में किसी भी कार्यक्रम में फूल माला और स्वागत समारोह का आयोजन नहीं करने का फैसला लिया है.

चमकी बुखार से अब तक 69 बच्चों की मौत चमकी बुखार से अब तक 69 बच्चों की मौत

बिहार में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (चमकी बुखार) से मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. अब तक 69 बच्चों की मौत हो चुकी है. इस बीच बीजेपी ने अगले 15 दिन तक प्रदेश में किसी भी कार्यक्रम में फूल माला और स्वागत समारोह का आयोजन नहीं करने का फैसला लिया है. बिहार बीजेपी अध्यक्ष और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने इसकी जानकारी दी.

उन्होंने कहा कि प्रदेश में बीजेपी अगले 15 दिन तक होने वाले किसी भी कार्यक्रम में फूल माला और स्वागत समारोह का आयोजन नहीं करेगी. मुजफ्फरपुर घटना के मद्देनजर लिया गया फैसला. नित्यानंद राय फिलहाल चमकी बुखार से प्रभावित बच्चों को देखने के लिए मुजफ्फरपुर के अस्पताल जा रहे हैं.

मुजफ्फरपुर के सिविल सर्जन डॉ. शैलेष प्रसाद सिंह ने कहा कि चमकी बुखार से अब तक मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर 69 हो गया है. जिसमें श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में 58 और केजरीवाल अस्पताल में 11 बच्चों की मौत हुई है.

बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने आजतक से खास बातचीत में कहा, स्थिति से निपटने के लिए हम हर संभव कोशिश और कड़ी मेहनत कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि राज्य में जागरुकता फैलाने के लिए कार्यक्रमों का भी आयोजन किया जा रहा है.

बता दें कि 15 वर्ष तक की उम्र के बच्चे इस बीमारी की चपेट में आ रहे हैं. मरने वाले बच्चों की उम्र एक से सात साल के बीच ज्यादा है. डॉक्टरों के मुताबिक, इस बीमारी का मुख्य लक्षण तेज बुखार, उल्टी-दस्त, बेहोशी और शरीर के अंगों में रह-रहकर कंपन (चमकी) होना है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें