scorecardresearch
 

PM मोदी से मुलाकात के बाद बोले कोविंद- मिली है बड़ी जिम्मेदारी, सभी दलों से मांगूंगा समर्थन

दिल्ली पहुंचते ही कोविंद ने राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार घोषित किए जाने से पीएम मोदी, अमित शाह और संसदीय बोर्ड के सदस्यों का धन्यवाद कहा. 

एयरपोर्ट में रामनाथ कोविंद का स्वागत एयरपोर्ट में रामनाथ कोविंद का स्वागत

एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार और बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद पटना से दिल्ली पहुंचने के बाद कहा कि वह प्रमुख राजनीतिक दलों के नेताओं से मुलाकात करेंगे और अपने लिए उनसे समर्थन मांगेंगे. कोविंद ने दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात की.

कोविंद बीजेपी प्रमुख के आवास पर करीब एक घंटे तक रहे और समझा जाता है कि दोनों ने राष्ट्रपति चुनाव की औपचारिकताओं पर चर्चा की. यहां बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं ने उनका स्वागत किया. कोविंद ने कहा कि वह एक छोटे से नागरिक हैं जिसे बड़ी जिम्मेदारी सौंपी गई है.

उन्होंने कहा, 'जो भी निर्वाचक मंडल के सदस्य हैं, मैं प्रमुख राजनीतिक दलों के नेताओं से मिलूंगा और उनका समर्थन मांगूंगा. मुझे उम्मीद है कि प्रत्येक नागरिक मेरा समर्थन करेगा.' पीएम मोदी से मुलाकात के बाद कोविंद ने बिहार निवास का संक्षिप्त दौरा किया जहां उन्होंने मीडिया के किसी भी प्रश्न का उत्तर नहीं दिया और केवल इतना कहा, 'मैं सभी का शुक्रिया अदा करता हूं. बीजेडी, टीआरएस और वाईएसआरसीपी जैसे गैर-राजग दलों ने दलित नेता कोविंद को अपना समर्थन देने की घोषणा की है. वह 23 जून को अपना नामांकन दाखिल कर सकते हैं.

इससे पहले दिल्ली एयरपोर्ट पर प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे पी नड्डा, बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, कैबिनेट मंत्री थावरचंद गहलोत उन्हें रिसीव करने पहुंचे. दिल्ली पहुंचते ही कोविंद ने राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार घोषित किए जाने से पीएम मोदी, अमित शाह और संसदीय बोर्ड के सदस्यों का धन्यवाद कहा. 

इससे पहले उनके नाम की घोषणा होते ही बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कोविंद से मिलने पहुंचे. नीतीश ने अपनी मुलाकात को सामान्य शिष्टाचार बताया और कहा कि कोविंद की उम्मीदवारी के ऐलान से वे खुश हैं.

मायावती पसोपेश में
वहीं बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने कहा है कि अगर कोई अन्य दलित उम्मीदवार मैदान में नहीं आता है तो वो कोविंद को सपोर्ट कर सकती हैं. मायावती ने कहा कि अमित शाह और वेंकैया नायडू ने कोविंद के विषय में अपने फैसले की जानकारी देने के लिए मुझे फोन किया. मैं उनकी पसंद से पूरी तरह सहमत नहीं हूं. लेकिन मैं बहुत निगेटिव भी नहीं हूं. इसलिए बीएसपी अब तक पॉजीटिव है. लेकिन ये सब यूपीए के पसंद पर निर्भर करता है.

रामनाथ कोविंद के बारे में
रामनाथ कोविंद स्वयंसेवक हैं. भाजपा के पुराने नेता हैं. संघ और भाजपा में कई प्रमुख पदों पर रहे हैं. सांसद रहे हैं. एससीएसटी प्रकोष्ठ के प्रमुख का दायित्व भी निभाया है और संगठन की मुख्यधारा की ज़िम्मेदारियां भी. वो कोरी समाज से आने वाले दलित हैं. यानी उत्तर प्रदेश में दलितों की तीसरी सबसे बड़ी आबादी. पहली जाटव और दूसरी पासी है.

कोविंद को दिल्ली हाईकोर्ट के अधिवक्ता के तौर पर उनका एक अच्छा खासा अनुभव है. सरकारी वकील भी रहे हैं. राष्ट्रपति पद के लिए जिस तरह की मूलभूत आवश्यकताएं समझी जाती हैं, वो उनमें हैं. और मृदुभाषी हैं. कम बोलना और शांति के साथ काम करना कोविंद की शैली है.

अगर योगी को छोड़ दें तो मोदी ऐसे लोगों को ज़्यादा पसंद करते आए हैं जो बोलें कम और सुनें ज़्यादा. शांत लोग मोदी को पसंद आते हैं क्योंकि वो समानांतर स्वरों को तरजीह देने में यकीन नहीं रखते. संघ भी इस नाम से खुश है क्योंकि कोविंद की जड़ें संघ में निहित हैं. लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि कोविंद उत्तर प्रदेश से आते हैं और मोदी के लिए राजनीतिक रूप से मध्य प्रदेश के दलित की जगह उत्तर प्रदेश के दलित को चुनना हर लिहाज से फायदेमंद है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें