scorecardresearch
 

जल्द शुरू हो सकती है मुंबई मेट्रो

महाराष्ट्र में कांग्रेस राकांपा सरकार को झटका देते हुए केंद्र ने रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर प्रवर्तित मुंबई मेट्रो को अपने किराए का ढांचा खुद तय करने की अनुमति दी है.

Symbolic photo Symbolic photo

महाराष्ट्र में कांग्रेस राकांपा सरकार को झटका देते हुए केंद्र ने रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर प्रवर्तित मुंबई मेट्रो को अपने किराए का ढांचा खुद तय करने की अनुमति दी है.

इस कदम से आर इंफ्रा को राज्य सरकार द्वारा अधिसूचित किराए से अधिक दर पर किराया तय करने की अनुमति होगी. कंपनी ने आज उम्मीद जताई कि वह मेट्रो को मई में परिचालन में लाने की स्थिति में होगी. उल्लेखनीय है कि जिन मुद्दों के चलते मेट्रो सेवाओं की शुरुआत में विलंब हुआ, उनमें किराया का भी मुद्दा शामिल है. मुंबई मेट्रोवन के मुख्य कार्यकारी अभय मिश्रा ने आज बताया कि केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय ने मुंबई मेट्रोवन को केंद्रीय मेट्रो कानून के तहत ला दिया है जिससे हमें किराए का ढांचा तय करने की अनुमति होगी. इसलिए, पूर्व में राज्य द्वारा अधिसूचित किराया अब लागू नहीं होगा.

राज्य सरकार की अधिसूचना के मुताबिक पहले साल न्यूनतम किराया 9 रुपये और अधिकतम किराया 13 रुपये रखा जाना था. बाद में हर चार साल में किराए में 11 प्रतिशत की वृद्धि की जानी थी और 35 साल की रियायती अवधि (2044.45) खत्म होने पर न्यूनतम किराया 24 रुपये और अधिकतम किराया 37 रुपये रखा जाना था.

लागत करीब दोगुनी होने का हवाला देते हुए आर इंफ्रा न्यूनतम किराया 22 रुपये और अधिकतम किराया 33 रुपये रखे जाने की मांग करती रही है और राज्य सरकार इसके खिलाफ थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें