scorecardresearch
 

दिल्ली-आगरा रूट पर 10 नवंबर को शुरू होगी पहली हाई स्पीड ट्रेन

दिल्ली और आगरा के बीच 10 नवंबर को 160 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से चलने वाली पहली तेज रफ्तार ट्रेन के चलने की उम्मीद है, क्योंकि कपूरथला रेल फैक्टरी में 14 डिब्बों वाली ऐसी पहली ट्रेन लगभग तैयार होने को है.

Symbolic image Symbolic image

दिल्ली और आगरा के बीच 10 नवंबर को 160 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से चलने वाली पहली तेज रफ्तार ट्रेन के चलने की उम्मीद है, क्योंकि कपूरथला रेल फैक्टरी में 14 डिब्बों वाली ऐसी पहली ट्रेन लगभग तैयार होने को है.

रेल कोच फैक्ट्री (आरसीएफ) के महा प्रबंधक (जीएम) प्रमोद कुमार ने गुरुवार को बताया कि आरसीएफ ने अब तक हाई स्पीड वाली ट्रेन के चार डिब्बों का निर्माण कर लिया है और ट्रेन के बाकी 10 डिब्बों का निर्माण कार्य तेजी से जारी है जिसके 10 नवंबर तक पूरा होने की संभावना है.

शताब्दी और राजधानी के डिब्बों की तुलना में इस ट्रेन के अधिक सुचारू गमन के लिए आरसीएफ के इंजीनियरों ने आरडीएसओ (अनुसंधान विकास और मानक संगठन) के साथ विचार विमर्श कर डिब्बों के कपलर सिस्टम की डिजाइनिंग में बदलाव किया है. इसके अलावा ट्रेन में धुंआ और आग लगने का पता लगाने वाली प्रणाली और यात्री सूचना प्रणाली के अलावा भीतर के स्लाइडिंग दरवाजे भी शामिल होंगे.

जीएम ने बताया कि हाई स्पीड वाले कोच के निर्माण में लगभग 2.25 से 2.50 करोड़ रुपये की लागत आएगी. उन्होंने बताया कि शताब्दी और राजधानी एक्सप्रेस ट्रेनों के लिए आरसीएफ में निर्मित हाई स्पीड वाले कोच अधिकतम 160 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से दौड़ने में सक्षम होते हैं.

इनपुटः भाषा से

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें