scorecardresearch
 

विदेशी कंपनियों की जरूरत नहीं, IIT के स्टूडेंट लाएंगे 'मेड इन इंडिया' फ्लाइंग टैक्सी

भारत के कुछ होनहार युवा रिसर्चर स्वदेशी फ्लाइंग टैक्सी के प्रोजेक्ट पर काम शुरू करने जा रहे हैं. यह फ्लाइंग टैक्सी पूरी तरह से मेड इन इंडिया होगी और 2023 तक इसे तैयार करने का लक्ष्य है. 

प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

उबर एयर और कई अन्य विदेशी कंपनियां उड़ने वाली टैक्सी लॉन्च करने की तैयारी कर रही हैं. लेकिन इस बीच भारत के कुछ होनहार युवा रिसर्चर स्वदेशी फ्लाइंग टैक्सी शुरू करने के प्रोजेक्ट पर काम करने जा रहे हैं. यह फ्लाइंग टैक्सी पूरी तरह से मेड इन इंडिया होगी और 2023 तक इसे तैयार करने का लक्ष्य है.  

गौरतलब है कि सड़कों पर भारी ट्रैफिक और जाम रहने की वजह से अब विकसित देशों में परिवहन के वैकल्पिक साधन तैयार करने पर जोरशोर से काम हो रहा है. अब भारत भी इस दौड़ में शामिल हो गया है.  गूगल, एयरबस, उबर, वॉल्वो जैसी दिग्गज कंपनियां ड्राइवरलेस कार विकसित करने पर काम कर रही हैं. उबरएयर, एलोन मस्क की बोरिंग कंपनी और हायपरलूप वन जैसी कंपनियां एयरटैक्सी या अंडरग्राउंड ट्रांसपोर्ट सिस्टम विकसित करने पर काम कर रही हैं.

 हम भारतीयों के लिए खुशखबरी आई है आईआईटी कानपुर से, जिसने इसी महीने एक निजी कंपनी वीटीओएल एविएशन इंडिया के साथ एक करार किया है. 15 करोड़ रुपये के इस करार के तहत आईआईटी के 100 से ज्यादा रिसर्च स्टूडेंट एक प्रोटोटाइप हवाई टैक्सी विकसित करेंगे, जिसे कॉमर्श‍ियल फ्लाइंग टैक्सी के लिए इस्तेमाल किया जा सकेगा. यह प्रोजेक्ट 2023 तक पूरा होगा.

भारत में यह तकनीक अभी बहुत शैशव अवस्था में है, लेकिन अगर हमारे युवा रिसर्चर्स को सफलता मिल गई तो इससे दिल्ली, मुंबई जैसे महानगरों में बढ़ती ट्रैफिक समस्या से निजात मिल सकती है.

पांच साल में पूरा होगा प्रोजेक्ट

करार के तहत आईआईटी के रिसर्चर्स को यह प्रोजेक्ट अगले पांच साल में पूरा करना होगा. आईआईटी कानपुर के एयरोस्पेस इंजीनियरिंग और फ्लाइट लैब के प्रमुख अजोय घोष ने बताया, 'हम कॉन्सेप्ट पर काम करेंगे और प्रमुख टेक्नोलॉजी क्षेत्रों की पहचान करेंगे. अगले वर्षों में इस पर 100 से ज्यादा स्टूडेंट काम करेंगे.'

मेक इन इंडिया पर जोर

पीएम मोदी के मेक इन इंडिया अभियान को और गति देते हुए वीटीओएल एविएशन इंडिया ने एक प्रोजेक्ट शुरू किया है, जिसका नाम 'वीटीओएल एयर टैक्सी अभियान' रखा गया है. इसके तहत कंपनी अत्याधुनिक वीटीओएल एयरक्राफ्ट बनाएगी जिसके द्वारा किफायती और तीव्र यातायात सेवाएं दी जा सकेंगी. वीटीओएल का मतलब है वर्टिकल टेक-ऑफ ऐंड लैंडिंग. इस तकनीक का इस्तेमाल किसी विमान को सीधे जमीन पर उतारने और जमीन से ऊपर उड़ाने के लिए किया जाता है.

प्रस्तावित 'फ्लाइंग टैक्सी' विद्युत पावर से काम करेगी, इसलिए इसमें पूरी तरह से क्लीन एनर्जी का इस्तेमाल होगा. हालांकि इस तरह की टैक्सी की सेवा शुरू करने के लिए सरकार और नियामकों की मंजूरी की जरूरत होगी.

(businesstoday.in से साभार)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें