scorecardresearch
 

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत पर फेसबुक के लाइक खरीदने का आरोप

अशोक गहलोत राजस्थान के मुख्यमंत्री हैं, लेकिन उनके सबसे ज्यादा चाहने तुर्की के इस्तांबुल शहर में हैं. कम से कम उनके फेसबुक पेज से तो यही लगता है. बीजेपी ने दावा किया है कि लोकप्रियता पाने के लिए राजस्थान के मुख्यमंत्री फेसबुक पर 'लाइक' खरीद रहे हैं.

अशोक गहलोत का फेसबुक पेज अशोक गहलोत का फेसबुक पेज

अशोक गहलोत राजस्थान के मुख्यमंत्री हैं, लेकिन उनके सबसे ज्यादा चाहने तुर्की के इस्तांबुल शहर में हैं. कम से कम उनके फेसबुक पेज से तो यही लगता है. बीजेपी ने दावा किया है कि लोकप्रियता पाने के लिए राजस्थान के मुख्यमंत्री फेसबुक पर 'लाइक' खरीद रहे हैं.

बीजेपी प्रवक्ता ज्योति किरण ने दावा किया कि 1 जून तक अशोक गहलोत के ऑफिशियल फेसबुक पेज पर 1,60,077 लाइक थे. लेकिन सिर्फ 30 दिनों में (30 जून तक) यह आंकड़ा 2,14,639 तक पहुंच गया.

लेकिन पेज पर की गई चालाकी पेज के ही एक फीचर से सामने आ गई. 'मोस्ट पॉपुलर सिटी' फीचर के मुताबिक, गहलोत के पन्ने पर इस वक्त सबसे ज्यादा लाइक तुर्की के इस्तांबुल से हैं. इस वक्त उनके पेज को इस्तांबुल के 63 हजार 440 लोगों ने लाइक किया है. यह आंकड़ा 20 जून से 7 जुलाई के बीच का है. खास बात यह है कि 5 मई तक गहलोत जयपुर में ही सबसे ज्यादा लोकप्रिय थे.

बीजेपी ने इसे सोशल मीडिया स्कैम बताते हुए दावा किया कि प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष वसुंधरा राजे से लाइक के मामले में पिछड़ने के बाद गहलोत ने यह कदम उठाया.

किरण ने दावा किया कि कई आईटी कंपनियां थोक में लाइक बेचने के काम में लगी हुई हैं. उन्होंने सवाल उठाए कि राजस्थान का मुख्यमंत्री होते हुए गहलोत को इस्तांबुल में इतने प्रशंसक कैसे मिल गए. उन्होंने इस्तांबुल की आईटी फर्म से लाइक खरीदे जाने का आरोप लगाया और कहा कि कांग्रेस सोशल मीडिया पर भी अपनी गलत छवि पेश कर रही है.

लेकिन कांग्रेस प्रवक्ता अर्चना शर्मा ने आरोपों को नकार दिया है. उन्होंने कहा, 'फेसबुक पर कोई कहीं भी बैठकर लाइक कर सकता है. इस पर संदेह करने की क्या बात है. मुख्यमंत्री लोकप्रिय हस्ती हैं. लोकप्रियता पाने के लिए उन्हें इस स्तर तक गिरने की जरूरत नहीं है.'

कांग्रेस ने पलटवार करते हुए कहा कि जयपुर में बैठकर अगर अपना लोकेशन इस्तांबुल डालेगा तो पेज इस्तांबुल ही दिखाएगा. ऐसे में यह किसी साजिश का हिस्सा हो सकता है और बीजेपी बदनाम करने के लिए यह काम भी कर सकती है.

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, 'आप जानते हैं कि बीजेपी के लोग साइबर वर्ल्ड में कितने माहिर हैं और ये सब करने की उनकी आदत रही है.'

राजस्थान में दिसंबर में चुनाव हैं और ऐसे में गहलोत और वसुंधरा अपनी-अपनी यात्रा लेकर जनता के बीच निकले हुए हैं और उनके साइबर एक्सपर्ट साइबर वॉर रूम में अपनी अलग लड़ाई जारी रखे हुए हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें