scorecardresearch
 

गतिमान एक्सप्रेस का लास्ट ट्रायल भी 'फेल', 20 मिनट लेट पहुंची आगरा

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन एके मित्तल ने बताया कि दुनियाभर में जहां भी हाई स्पीड ट्रेन चलती है. वहां सीधा ट्रैक होता है. घुमावदार ट्रैक को इसके लिए मुफीद नहीं माना जाता. घुमाव ट्रेन की स्पीड पर असर डालता है. यहां के हालात में इस बात का भी फर्क है.

गतिमान एक्सप्रेस का सपना पूरा होने में अड़चनें गतिमान एक्सप्रेस का सपना पूरा होने में अड़चनें

रेलवे के जरिए देश की विकास की गति बढ़ाने के लिए गतिमान एक्सप्रेस का सपना पूरा होने में अड़चनें आ रही हैं. इस ट्रेन की स्पीड को लेकर किए जा रहे दावे कामयाब नहीं हो पा रहे हैं. 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से नई दिल्ली से आगरा के बीच 90 मिनट में पहुंचाने का इसका दावा फीका पड़ता जा रहा है.

सुरक्षा कारणों से भी धीमी हुई स्पीड
अब तक हुए ट्रायल के आंकड़ों के मुताबिक यह ट्रेन वक्त को लेकर सवालों में घिरने लगी है. सातों ट्रायल में गतिमान एक्सप्रेस की टाइमिंग बढ़ती गई. ट्रेन के चलने के दौरान सुरक्षा को लेकर भी कई चुनौतियां है. नई दिल्ली से आगरा के बीच अभी भी कई किलोमीटर तक सुरक्षा दीवार नहीं बनाई जा सकी है. कमिश्नर ऑफ रेलवे सेफ्टी (सीआरएस) इस मामले में लगातार बेहतर करने की कोशिश में हैं.

ट्रायल्स में पिछड़ा गतिमान का दावा
गतिमान एक्सप्रेस के ट्रायल आंकड़ों के मुताबिक 3 जुलाई 2014 को पहले ट्रॉयल में नई दिल्ली से आगरा तक पहुंचने में इसे 100 मिनट का समय लगा था. दूसरी बार में 103 मिनट, तीसरी बार में 148 मिनट, चौथी बार में 150 मिनट, पांचवी बार में 168 और छठी में 115 मिनट में दूरी तय कर पाई थी. इनको देखने के बाद सवाल खड़ा होता है कि जब ट्रेन में यात्री भी होंगे तो 90 मिनट में ट्रेन आगरा तक कैसे पहुंच पाएगी. रेल अधिकारियों ने इस सवाल पर चुप्पी साध रखी है.

शताब्दी ने बनाया समय का रिकॉर्ड
नई दिल्ली से आगरा की ओर चलने वाली सबसे तेज ट्रेन भोपाल शताब्दी है. 1988 में माधवराव सिंधिया ने इस ट्रेन को हरी झंडी दिखाई थी. 28 सालों से चल रहे इस ट्रेन को नई दिल्ली से आगरा 194 किलोमीटर तय करने में 117 मिनट लगता है. वहीं सातवीं ट्रायल में गतिमान एक्सप्रेस को इस दूरी को तय करने में 110 मिनट का वक्त लगा.

जरूर पढ़ेंः भारतीय रेलवे से जुड़ी 10 दिलचस्प बातें

भोपाल शताब्दी से बहुत कम अंतर
यात्रियों को आगरा तक जाने के लिए अब दो घंटे के अंतर पर दो हाई स्पीड ट्रेन मिल जाएगी. नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से भोपाल शताब्दी सुबह 6:00 बजे आगरा के लिए रवाना होती है और 7:57 बजे आगरा पहुंचती है. दोनों शहरों के बीच रेलवे ट्रैक पर 19 कॉशन वाले स्थानों को छोड़कर यह ट्रेन 150 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार से निकलती है. वहीं गतिमान एक्सप्रेस सुबह 8:05 बजे रवाना होगी और 9:55 बजे आगरा पहुंचेगी. दोनों के आगरा पहुंचने में लगने वाले वक्त में सात मिनट का फर्क होगा.

कई ट्रेन पर गतिमान एक्सप्रेस की मार
गतिमान एक्सप्रेस का चलना शुरू हो जाने से तीन पैंसेंजर ट्रेन पर असर पड़ेगा. इनमें अमृतसर से मुंबई जाने वाली गोल्डन टैंपल, श्रीगंगानगर से हावड़ा जाने वाली तूफान एक्सप्रेस और आगरा पैसेंजर शामिल हैं. इसके अलावा कई माल गाड़ियों पर भी गतिमान के परिचालन का असर पड़ेगा.

ट्रेन की स्पीड पर घुमावदार ट्रैक का असर
रेलवे बोर्ड के चेयरमैन एके मित्तल ने बताया कि दुनियाभर में जहां भी हाई स्पीड ट्रेन चलती है. वहां सीधा ट्रैक होता है. घुमावदार ट्रैक को इसके लिए मुफीद नहीं माना जाता. घुमाव ट्रेन की स्पीड पर असर डालता है. यहां के हालात में इस बात का भी फर्क है. वहीं बोर्ड के पूर्व चेयरमैन अमरेंद्र कुमार ने कहा कि हम इस ट्रेन की गति बनाए रखने के लिए रास्ते की दिक्कतों पर विचार कर रहे थे. इस पर काम भी हो रहा है. हमें बेहतर परिणाम मिलेंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें