scorecardresearch
 

बंगाल की खाड़ी में तैयार तूफान गज, 36 घंटे में तबाही का खतरा

गज चक्रवात के 15 नवंबर को उत्तरी तमिलनाडु और दक्षिणी आंध्र प्रदेश के तटों को पार करते हुए धीरे-धीरे कमजोर होने की संभावना है.

प्रतीकात्मक तस्वीर (रॉयटर्स) प्रतीकात्मक तस्वीर (रॉयटर्स)

चक्रवाती तूफान गज चेन्नई की ओर तेजी से बढ़ रहा है. सोमवार सुबह गज की स्थिति चेन्नई से 740 किलोमीटर पूर्व-पूर्वोत्तर और नागापट्टिनम से 840 किलोमीटर पूर्व-पूर्वोत्तर बताई गई है.

अगले 24 घंटे में तूफान में और तेजी आने का खतरा है. फिलहाल इसकी रफ्तार दक्षिण-पश्चिम की ओर ज्यादा बढ़ रही है. 15 नवंबर तक पश्चिम दक्षिण-दक्षिण दिशा में आगे बढ़ते हुए इसके नागापट्टिनम और चेन्नई पार करने की संभावना है. इसके बाद गज तूफान कुछ नरम पड़ सकता है.

मौसम विभाग ने 14 नवंबर को तूफान की वजह से तमिलनाडु की अधिकांश जगहों पर औसत बारिश की संभावना जताई है. इसके अलावा उत्तरी तटीय इलाके और आंध्र से सटे तटीय क्षेत्रों में भारी बारिश की आशंका जताई गई है.

तूफान के बारे में जानकारी देते हुए आंध्र प्रदेश राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने कहा, 'अधिकांश जगहों पर औसत बारिश और कुछ जगहों पर भारी बारिश हो सकती है. उत्तरी तमिलनाडु की छिटपुट जगहों पर भी भारी बारिश की आशंका है. 15 नवंबर को दक्षिण तमिलनाडु, दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश और रायलसीमा में भारी बारिश हो सकती है.'

मौसम विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, 14 नवंबर की सुबह के बाद तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों में समुद्री उथल-पुथल देखी जा सकती है. इसलिए मछुआरों को 12 और 13 नवंबर को समुद्री इलाके खासकर बंगाल की खाड़ी में न जाने की सलाह दी गई है.

अमेरिका की ज्वॉइंट टायफून वार्निंग सेंटर (जेटीडब्लूसी) ने भी चेन्नई से 270 किलोमीटर दक्षिण में गज के सक्रिय होने की सूचना दी है. जेटीडब्लूसी के मुताबिक, तूफान 110 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से नागापट्टिनम क्रॉस कर सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें