scorecardresearch
 

दुनिया के कई देशों में कोरोना का कोहराम, वैक्सीन आने में लगेगा इतना वक्त

इंडिया टुडे से बातचीत करते हुए दुनिया के जाने-मानें वायरोलॉजिस्ट डॉ. इयान लिपकिन का कहना है कि इस वायरस का टीका मिलने में अभी वक्त लगेगा.

X
कोरोना वायरस की चपेट में कई देश (फोटो-पीटीआई) कोरोना वायरस की चपेट में कई देश (फोटो-पीटीआई)

  • कोरोना वायरस का टीका आने में अभी वक्त: लिपकिन
  • भारत में कोरोना वायरस के 25 ताजा मामलों की पुष्टि

चीन से फैले कोरोना वायरस की चपेट में दुनिया के कई देश आ चुके हैं. दुनिया में हजारों लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि हो चुकी है तो वहीं कई लोगों की मौत भी हो चुकी है. वहीं इस वायरस का टीका मिलने में एक साल तक का वक्त लग सकता है.

कोरोना वायरस को लेकर दुनिया भर के देश संकट का सामना कर रहे हैं. हालांकि कई देश अभी तक इस वायरस की काट खोज रहे हैं. लेकिन अभी तक इस वायरस का टीका (वैक्सीन) नहीं मिला है, जिसके कारण ये वायरस तेजी से अपने पैर पसार रहा है.

वहीं इंडिया टुडे से बातचीत करते हुए दुनिया के जाने-माने वायरोलॉजिस्ट डॉ. इयान लिपकिन का कहना है कि इस वायरस का टीका मिलने में अभी वक्त लगेगा. वायरोलॉजिस्ट डॉ. इयान लिपकिन का कहना है, 'इस वायरस के टीके की खोज के लिए अभी करीब एक साल का वक्त लगेगा.'

यह भी पढ़ें: क्या चीन को मिल गया कोरोना वायरस का तोड़? पीड़ितों को दी जा रही ये दवाई

लिपकिन का कहना है कि यह वायरस सबसे ज्यादा फैलने वाली बीमारियों में से एक है और हम अभी भी संक्रमित लोगों के पूरे उपचार को नहीं जानते हैं क्योंकि लक्षण या तो हल्के तौर पर दिखते हैं या उनका पता नहीं चलता है.

लिपकिन ने कहा, 'वायरस से संक्रमित लोगों के दायरे का परीक्षण करने के लिए एंटीबॉडी एकमात्र तरीका है. मुझे नहीं पता कि इसका कोई अंत होगा या नहीं, लेकिन इस वायरस के कारण हमें आगे भी जूझना पड़ सकता है. यह वायरस अगले सीजन में वापस लौट सकता है. उम्मीद है, हमारे पास तब तक एक टीका होगा. टीका लगभग एक साल दूर है.'

यह भी पढ़ें: सेक्स या किस करने से फैलता है कोरोना वायरस? जानिए क्या कहते हैं हेल्थ एक्सपर्ट्स

लिपकिन ने सलाह देते हुए कहा, 'अगर आपको लगता है कि आप बीमार हैं, तो आपको खुद को अलग करना होगा. हम सभी को इस लड़ाई पर काम करने की जरूरत है. वायरस हमेशा पर्यावरण के लिए विकसित, उत्परिवर्तित और अनुकूल होते हैं. कुछ वायरस ऐसे होते हैं जो इबोला की तरह मर जाते हैं और कुछ हर्पीज जैसे होते हैं जो मरते नहीं है.'

बचाव के तरीके

साथ ही इयान लिपकिन ने कोरोना वायरस से रोकथाम के उपाय भी बताए. उन्होंने कहा, 'अपने चेहरे को छूने से पहले अपने हाथों को जरूर धोएं. इससे आप वायरस से संक्रमित नहीं होंगे. इसके साथ ही लोगों को हम दस्ताने पहनने के लिए भी प्रोत्साहित कर रहे हैं. सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करते हुए दस्ताने पहनें.' साथ ही लिपकिन ने सुरक्षा के लिहाज से लोगों से हाथ मिलाने के लिए भी मना किया.

कितने लोग वायरस की चपेट में?

बता दें कि चीन से फैलना शुरू हुए इस वायरस ने दुनिया के कई देशों में कोहराम मचा दिया है. दुनिया भर में कोरोना वायरस के करीब 90 हजार से ज्यादा मरीज सामने आ चुके हैं. वहीं इस घातक वायरस के कारण 3 हजार से ज्यादा लोगों की मौत भी हो चुकी है.

भारत में कितने मामले?

भारत में कोरोना वायरस के फिलहाल 25 पॉजिटिव मामले सामने आए हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने बुधवार को इसकी पुष्टि की. उन्होंने कहा, 'भारत में कोविड-19 के अब तक 28 मामले पाए गए हैं. जिनमें से केरल में तीन मरीज पूरी तरह ठीक हो चुके हैं.' हर्षवर्धन के मुताबिक कम से कम नौ भारतीय और 16 विदेशी नागरिक कोरोना वायरस की चपेट में हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें