scorecardresearch
 

अहमदाबाद में चीनी राष्‍ट्रपति जिनपिंग, भारत-चीन के बीच तीन समझौते

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग का विमान अहमदाबाद पहुंच गया है. पत्नी पेंग लिउआन के साथ वह अहमदाबाद एयरपोर्ट पर उतरे. यहां उन्हें 'गार्ड ऑफ ऑनर' दिया गया. हालांकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनकी अगवानी करने नहीं जा पाए. इस यात्रा से दोनों देशों के बीच कई समझौते होने के आसार हैं, वहीं सीमा विवाद को लेकर भी बातचीत होने की संभावना है.

X
Xi Jinping Xi Jinping

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग का विमान अहमदाबाद पहुंच गया है. पत्नी पेंग लिउआन के साथ वह अहमदाबाद एयरपोर्ट पर उतरे. यहां उन्हें 'गार्ड ऑफ ऑनर' दिया गया. हालांकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनकी अगवानी करने नहीं जा पाए. इस यात्रा से दोनों देशों के बीच कई समझौते होने के आसार हैं, वहीं सीमा विवाद को लेकर भी बातचीत होने की संभावना है.

 

दो घंटे के भीतर तीन बड़े समझौते
शी जिनपिंग के दौरे के महज दो घंटे के भीतर भारत-चीन के बीच तीन बड़े समझौते हुए. पीएम मोदी और जिनपिंग की मौजूदगी में चीन और गुजरात सरकार के बीच तीन समझौते पर हस्ताक्षर किए गए.
1. इंडस्ट्रियल पार्क को लेकर गुजरात सरकार के IEB और चीन डेवलपमेंट बैंक के बीच समझौता हुआ. यह समझौता द्विपक्षीय व्यापार को बढ़ावा देने और गुजरात में इंडस्ट्रियल पार्क बनाने को लेकर है.
2. ग्वांगडोंग प्रांत और गुजरात सरकार के बीच समझौता.
3. ग्वांझाऊ-अहमदाबाद नगर निगम के बीच ट्रेनिंग को लेकर समझौता. इन MoU के जरिए गुजरात और चीन के बीच सर्विस सेक्टर में साझेदारी बढ़ानी है.

प्रधानमंत्री का आज चौसठवां जन्मदिन भी है. सुबह ही उन्होंने गांधीनगर में मां का आशीर्वाद लिया और इसके बाद गुजरात सरकार के कार्यक्रम में शामिल हुए. नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए कई दफा चीन का दौरा कर चुके हैं. इस दौरान उन्होंने निवेशकों से मुलाकात कर गुजरात की झांकी भी पेश की थी. जाहिर तौर पर अब जब वो प्रधानमंत्री हैं तो चीन उनमें पार्टनर तलाश रहा है.

भारत को उम्मीद है कि शी की यात्रा से दोनों देशों के ‘हितों व चिंताओं’ का समाधान किया जाएगा और सीमा विवाद सहित द्विपक्षीय संबंधों के रास्ते बाधा बन रहे सभी महत्वपूर्ण मुद्दों को निपटाया जाएगा. भारत के साथ अपने व्यापारिक संबंधों को बढ़ाने का इच्छुक चीनी पक्ष पहले ही संकेत दे चुका है कि वह शी की यात्रा के दौरान भारत के रेलवे, विनिर्माण, ढांचागत परियोजनाओं में अरबों डॉलर का निवेश करने की प्रतिबद्धता जाहिर करेगा.

शाम को होगा स्पेशल डिनर
मोदी अहमदाबाद के होटल में शी और उनके साथ आ रहे उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल का स्वागत करेंगे. शी के प्रतिनिधिमंडल में पोलित ब्यूरो के वरिष्ठ सदस्य व चीन के वाणिज्य मंत्री भी शामिल हैं. शी महात्मा गांधी के साबरमती आश्रम जाएंगे और वहां मोदी के साथ कुछ समय बिताएंगे. मोदी साबरमती के तट पर चीनी राष्ट्रपति को एक निजी भोज देंगे.

उद्योग जगत के साथ होने वाली बैठक में दोनों देशों के शीर्ष उद्योगपति शामिल होंगे. रात्रिभोज में सिर्फ गुजराती व्यंजन होंगे जिसमें 22 वीवीआईपी शामिल होंगे. गुजरात डीजीपी पीसी ठाकुर ने कहा, 'सुरक्षा के लिहाज से यह काफी महत्वपूर्ण बात है क्योंकि चीनी राष्ट्रपति और हमारे प्रधानमंत्री अहमदाबाद में होंगे. हमारी सुरक्षा व्यवस्था उस दिन राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दोनों स्तर की होगी ताकि चूक की कोई गुंजाइश नहीं हो.' शी देर शाम दिल्ली रवाना हो जाएंगे.

भारत को मिलेगी निवेश की सौगात!
समझा जा रहा है कि जिनपिंग की झोली में सबसे बड़ी योजना भारतीय रेलवे को लेकर है. एक लंबे चौड़े नेटवर्क पर आबादी का अच्छा खासा दबाव होने के बावजूद, चीनी रेलवे बेहद सक्षम है. ऐसा पहली बार हुआ है कि चीन ने भारत को हाई स्पीड रेल नेटवर्क बिछाने के लिए आर्थिक सहायता की पेशकश की है. चीन का कहना है कि भौगोलिक समानता की वजह से उसका साथ भारत के लिए बेहतर है. ये भी कहा कि जापान, फ्रांस या जर्मनी के मुकाबले लागत आधी ही होगी.

चीन के अधिकारियों ने कहा कि चीन भारत में 100 अरब डॉलर से 300 अरब डॉलर के निवेश की घोषणा कर सकता है. यह निवेश भारतीय रेल के आधुनिकीकरण, औद्योगिक पार्कों की स्थापना के अलावा बड़ी बुनियादी ढांचा परियोजनाओं में निवेश शामिल है. चीन का विदेशी मुद्रा भंडार दुनिया में सबसे अधिक 3,950 अरब डॉलर का है. उसने अगले पांच साल में दूसरे देशों में 500 अरब डॉलर के निवेश की योजना बनाई है.

ये चाहते हैं मोदी
- मोदी ने कहा कि भारत चीन से प्रगाढ़ संबंध चाहता है, लेकिन साथ ही ‘चिंता के मुद्दों’ पर प्रगति चाहता है.
- पीएम ने कहा कि इन चिंताओं के समाधान से संबंधों में माहौल बदलेगा.
- प्रधानमंत्री ने कहा, 'मैं सभी क्षेत्रों में भारत और चीन के द्विपक्षीय संबंधों को गहरा करने की संभावना देखता हूं.

ये है उम्मीद
- समझा जा रहा है कि जिनपिंग की झोली में सबसे बड़ी योजना भारतीय रेलवे को लेकर है.
- ऐसा पहली बार हुआ है कि चीन ने भारत को हाई स्पीड रेल नेटवर्क बिछाने के लिए आर्थिक सहायता की पेशकश की है.
- चीन का कहना है कि भौगोलिक समानता की वजह से उसका साथ भारत के लिए बेहतर है. ये भी कहा कि जापान, फ्रांस या जर्मनी के मुकाबले लागत आधी ही होगी.
- चीन के अधिकारियों ने कहा कि चीन भारत में 100 अरब डॉलर से 300 अरब डॉलर के निवेश की घोषणा कर सकता है.
- यह निवेश भारतीय रेल के आधुनिकीकरण, औद्योगिक पार्कों की स्थापना के अलावा बड़ी बुनियादी ढांचा परियोजनाओं में निवेश शामिल है.
- चीन का विदेशी मुद्रा भंडार दुनिया में सबसे अधिक 3,950 अरब डॉलर का है.
- उसने अगले पांच साल में दूसरे देशों में 500 अरब डॉलर के निवेश की योजना बनाई है.
 
शानदार होगा डिनर
- शी जिनपिंग अहमदाबाद में साबरमती रिवर फ्रंट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ डिनर करेंगे.
- डिनर में 22 वीवीआईपी शामिल होंगे.
- जिनपिंग को बाजरे की रोटी और मसाला खिचड़ी सहित 100 से ज्या दा डिश सर्व की जाएगी.
- बैंगन का भर्ता, लहसुन-आलू की सब्जी, सेव-टमाटर की सब्जी, ढोकली की सब्जी, थेपला, केरी का अचार.
- दाल-चावल, कढ़ी, मसाला खिचड़ी, पुलाव.
- भाखरी, बिस्किट, रोटला, वघारेलो रोटला, हांडवा, ढोकला, पात्रा, लीलवानी की कचौड़ी.
- पूरण पूरी, श्रीखंड-मठो, आम रस, ड्राइफ्रूट हलवा, रस मलाई.
- 10 से ज्यादा वैरायटी की आइसक्रीम, पहाड़ी खीर, लस्सी, मसाला छाछ और फ्रेश फ्रूट जूस.

जानदार होगी मुलाकात
- गुजरात सरकार के न्योते पर भारत के 120 व्यापारिक प्रतिनिधि चीनी राष्ट्रपति से हयात होटल में मुलाकात करेंगे.
- इनमें मुकेश अंबानी, अनिल अंबानी, साइरस मिस्त्री, गौतम अडानी और अजीम प्रेमजी जैसे नाम शामिल हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें