scorecardresearch
 

बिहार में बाढ़ से हाहाकार, 1000 से ज्यादा गांव डूबे, जानिए किन इलाकों में खतरा बरकरार

Bihar Flood Alert 2020, Assam Flood Relief, Ganga And Brahmaputra At Danger Mark: मॉनसून जिस तरह संकट बनकर डटा है, वो अभी बड़ी तबाही की ओर इशारा कर रहा है. बिहार, असम, बंगाल समेत कई राज्यों की तस्वीरें डराने वाली हैं. असम एवं बिहार में आई बाढ़ के कारण बुधवार को 6 लोगों की मौत हो गई.

Bihar Flood Alert 2020, Assam Flood Relief, Ganga And Brahmaputra At Danger Mark Bihar Flood Alert 2020, Assam Flood Relief, Ganga And Brahmaputra At Danger Mark

मॉनसून जिस तरह संकट बनकर डटा है, वो अभी बड़ी तबाही की ओर इशारा कर रहा है. बिहार, असम, बंगाल समेत कई राज्यों की तस्वीरें डराने वाली हैं. असम एवं बिहार में आई बाढ़ के कारण बुधवार को 6 लोगों की मौत हो गई. बाढ़ के कारण 55 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं.

बिहार प्रदेश आपदा विभाग के मुताबिक राज्य में बाढ़ के कारण 3 और लोगों की मौत हो गई है. सभी 3 मौतें दरभंगा जिले में हुई हैं. इसी के साथ इससे मरने वालों की संख्या बढ़ कर 11 हो गई है. बाढ़ के कारण करीब 40 लाख लोग प्रभावित हुए हैं. बिहार प्रदेश के 12 जिलों के एक हजार गांव इस आपदा से प्रभावित हुए हैं.

लोगों के खाते में पहुंचा पैसा

बिहार आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि अबतक बाढ़ प्रभावित 60,000 परिवारों के खाते में 6,000 रूपये की राहत राशि अंतरित कर दी गई है. कल तक और 40,000 लोगों के खाते में राशि अंतरित हो जाएगी. उन्होंने बताया कि 8-10 अगस्त तक सभी बाढ़ प्रभावित परिवारों के खाते में राशि अंतरित कर दी जाएगी.

इन जिलों में खतरा बरकरार

बिहार के इन जिलों में बाढ़ का कारण गंगा के अलावा लखनदेई, रातो, मरहा, मनुसमारा, बागमती, कमला बलान, अधवारा, गंडक, बूढ़ी गंडक, कदाने, नून, वाया, सिकरहना, लालबेकिया, तिलावे, धनौती, मसान, कोसी एवं करेह नदी के जलस्तर बढना है. जल संसाधन विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक बागमती नदी सीतामढी, मुजफ्फरपुर एवं दरभंगा में, बूढी गंडक नदी मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर एवं खगडिया में, कमला बलान नदी मधुबनी में, गंगा नदी भागलपुर में, अधवारा नदी सीतामढी में, खिरोई दरभंगा में और महानंदा नदी पूर्णिया में मंगलवार को खतरे के निशान से उपर है. हालांकि, सभी तटबंध सुरक्षित हैं.

बिहार के 12 जिलों सीतामढ़ी, शिवहर, सुपौल, किशनगंज, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज, पूर्वी चम्पारण, पश्चिम चंपारण, खगडिया, सारण एवं समस्तीपुर जिले के 102 प्रखंडों के 901 पंचायतों की 38,47,531 आबादी बाढ़ से प्रभावित हुई है, जहां से सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाए गए 3,09,511 लोगों में से 25,116 व्यक्ति 19 राहत शिविरों में शरण लिए हुए हैं.

बाढ़ के कारण विस्थापित लोगों को भोजन मुहैया कराने के लिए 989 सामुदायिक रसोई की व्यवस्था की गई है. दरभंगा जिले में सबसे अधिक 14 प्रखंडों के 173 पंचायतों की 13,51,200 आबादी बाढ़ से प्रभावित हुई है. बिहार के बाढ़ प्रभावित इन जिलों में बचाव और राहत कार्य चलाए जाने के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की कुल 26 टीमें तैनात की गई हैं.

बिहार के इन जिलों में बाढ़ का कारण गंगा के अलावा लखनदेई, रातो, मरहा, मनुसमारा, बागमती, कमला बलान, अधवारा, गंडक, बूढ़ी गंडक, कदाने, नून, वाया, सिकरहना, लालबेकिया, तिलावे, धनौती, मसान, कोसी एवं करेह नदी का जलस्तर बढ़ सकता है.

गोपालगंज में तबाही

बिहार के गोपालगंज में घोघारी तबाही मचा रही है. कई जगहों पर तटबंद टूटने से आसपास के इलाकों में पानी भर गया है. तेज बहाव की वजह से कई मकान क्षतिग्रस्त हो गए हैं. गोपालगंज में करीब 55 ग्राम पंचायत के लोग बाढ़ से जूझ रहे हैं. अबतक करीब सवा लाख लोगों का रेस्क्यू किया गया है.

flood-gopalganj_073020103343.jpgगोपालगंज में बाढ़ पीड़ित लोग

दरभंगा में नाव का सहारा

दरभंगा में बाढ़ का पानी तेजी से बढ रहा है. गांव जलमग्न हो गए हैं और लोगों ने दरभंगा-समस्तीपुर रोड पर शरण ली है. बाढ़ का पानी स्टेट हाईवे के ऊपर से बह रहा है जिसकी वजह से वाहनों की आवाजाही फिलहाल रोक दी गई है. जिले में एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए लोगों को नाव का सहारा लेना पड़ रहा है.

flood-odisha_073020103436.jpgओडिशा में भारी बारिश के बाद डूबी सड़क

मुजफ्फरपुर में भूख से लोग परेशान

मुजफ्फरपुर में टेनी बांध टूटने से मुख्य बांध पर दबाव बढ़ गया है और कई जगहों से पानी का रिसाव हो रहा है. पहले ही बाढ़ की त्रासदी झेल रहे ग्रामीण दहशत में हैं. हालांकि प्रशासन बांध के पानी को रोकने के इंतजाम में जुटा है. वहीं ग्रामीणों का कहना है कि वो चारों तरफ से पानी में घिरे हैं लेकिन उनके खाने पीने तक का इंतजाम नहीं किया गया है.

flood-assam-2_073020103519.jpgअसम में बाढ़

असम में हाहाकार

असम में बुधवार को राज्य में बाढ़ के पानी में तीन लोगों की डूबने से मौत हो गई जबकि प्रदेश में बाढ़ की स्थिति में सुधार के बावजूद प्रदेश के 21 जिलों के करीब 17 लाख लोग अब भी प्रभावित हैं. असम प्रदेश आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने दैनिक बाढ़ रिपोर्ट में कहा है कि बरपेटा, कोकराझाड़ एवं कामरूप में जिलों में एक एक व्यक्ति की डूबने से मौत हो गई है.

इसके साथ ही इस साल प्रदेश में बाढ़ एवं भूस्खलन के कारण करने वालों की संख्या बढ़ कर 133 हो गई है. इनमें से 107 की मौत बाढ़ संबंधी कारणों से जबकि 26 की मौत भूस्खलन के कारण हुई है. बाढ़ के कारण सबसे अधिक प्रभावित जिला गोलापाड़ा है जहां चार लाख 19 हजार से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं. मौजूदा समय में 1536 गांवों में बाढ़ की समस्या है और पूरे प्रदेश में 92,899 हेक्टेयर से अधिक जमीन में लगी फसल बर्बाद हो गई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें