scorecardresearch
 

BJP का ममता को जवाब- किसी की नाराजगी से अपनों को बुलाना नहीं करेंगे बंद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथग्रहण समारोह में ममता बनर्जी के हिस्सा लेने से इनकार करने पर भारतीय जनता पार्टी ने कहा,  'पश्चिम बंगाल से जिन 54 लोगों को बुलाया गया हैं, वो हमारी पार्टी के कार्यकर्ता हैं. हम अपनी पार्टी के लोगों को शपथग्रहण में बुला रहे हैं. इससे किसी को कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए? अगर किसी एक के बुलाने से दूसरा नाराज हो जाए और दूसरे को बुलाने से तीसरा नाराज हो जाए, तो ये ठीक नहीं हैं. इससे हम अपने लोगों को आमंत्रित करना तो बंद नहीं कर देंगे.'

कैलाश विजयवर्गीय (फोटो- ट्विटर) कैलाश विजयवर्गीय (फोटो- ट्विटर)

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथग्रहण समारोह में आने से मना कर दिया है, जिसको लेकर भारतीय जनता पार्टी ने प्रतिक्रिया दी है.

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने जवाब देते हुए कहा,  'पश्चिम बंगाल से जिन 54 लोगों को बुलाया गया हैं, वो हमारी पार्टी के कार्यकर्ता हैं. हम अपनी पार्टी के लोगों को शपथग्रहण में बुला रहे हैं. इससे किसी को कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए? अगर किसी एक के बुलाने से दूसरा नाराज हो जाए और दूसरे को बुलाने से तीसरा नाराज हो जाए, तो ये ठीक नहीं हैं. इससे हम अपने लोगों को आमंत्रित करना तो बंद नहीं कर देंगे.'

उन्होंने कहा,'ममता बनर्जी भी शपथग्रहण में आए उनका स्वागत हैं. हालांकि शपथग्रहण समरोह में किसको बुलाना हैं और किसको नहीं बुलाना है, ये हमारे अधिकार में नहीं आता है.'

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय महासचिव विजयवर्गीय ने आगे कहा, 'तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के अंदर ही ममता बनर्जी के खिलाफ बगावत हैं. लिहाजा उनकी पार्टी के नेता उनको छोड़कर हमारी पार्टी में शामिल हो रहे हैं. हम किसी को डरा कर नहीं ला रहे हैं. उनसे नाराज़ होकर लोग हमारे पास आ रहे हैं. कल तक जो काम ममता बनर्जी खुद करती थीं, अब वो हम पर आरोप लगा रही हैं. जो लोग उन्हें छोड़कर आ रहे हैं, वो बंगाल वापस जाने के लिए हमसे सुरक्षा मांग रहे हैं.'

ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, 'पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की जमीन खिसक चुकी है. साल 2021 में पश्चिम बंगाल में बीजेपी की सरकार बनेगी. जो लोग हमारी पार्टी में आना चाहते हैं, पहले हम उनकी जांच लोकल लेवल पर करते हैं, उसके बाद ही उन्हें पार्टी में शामिल कराते हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की राजनीति में विकास की एक नई लाइन खींच दी है. अभी उनकी पार्टी के कितने सांसद और विधायक हमारे संपर्क में हैं, ये राज की बात है.

आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथग्रहण समारोह में आने के लिए पहले हामी भर दी थी, लेकिन बाद में यूटर्न ले लिया. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खत लिखकर शपथग्रहण समारोह में नहीं आने की बात कही है. उन्होंने अपनी चिट्ठी में लिखा कि भारतीय जनता पार्टी ने पश्चिम बंगाल में मारे गए भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं के परिजनों को भी शपथग्रहण समारोह में बुलाया है. बीजेपी ने इनकी हत्या को राजनीतिक हत्या करार दिया है.

ममता बनर्जी ने कहा कि ये राजनीतिक हत्याएं नहीं हैं, बल्कि आपसी रंजिश के चलते हुए हैं. उन्होंने खत में लिखा, 'बधाई, नए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी. आपके संवैधानिक आमंत्रण को मैंने स्वीकार कर लिया था और आपके शपथग्रहण समारोह में मैं आने को तैयार थी, लेकिन पिछले कुछ समय में मैंने रिपोर्ट्स देखी हैं कि भारतीय जनता पार्टी कह रही है कि उन्होंने भाजपा के उन 54 कार्यकर्ताओं के परिवार को भी न्योता दिया है, जिनकी बंगाल में राजनीतिक हत्या कर दी गई है.’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें