scorecardresearch
 

राम मंदिर निर्माण में लगेगा बंशी पहाड़पुर का पत्थर, जानिए क्यों है खास?

हले भी भरतपुर से काफी मात्रा में राम मंदिर निर्माण के लिए पत्थर अयोध्या आ चुका है. भरतपुर के रुदावल क्षेत्र के बंशी पहाड़पुर के पत्थर का इस्तेमाल पहले भी कई प्राचीन इमारतों के निर्माण कार्य में इस्तेमाल हो चुका है. बंशी पहाड़पुर से निकलने वाले पत्थर की उम्र करीब 5000 वर्ष तक मानी जाती है.

राम मंदिर में इस्तेमाल होगा यह पत्थर (फोटो-आजतक) राम मंदिर में इस्तेमाल होगा यह पत्थर (फोटो-आजतक)

  • भरतपुर का पत्थर होगा इस्तेमाल
  • पानी डालने से पत्थर में आती है चमक

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए पांच अगस्त को भूमि पूजन होना है. प्रधानमंत्री मोदी खुद इसके लिए अयोध्या पहुंचने वाले हैं. जाहिर है लंबे समय से समाज के एक बड़े वर्ग में राम मंदिर को देखने की लालसा रही है. ऐसे में इस मंदिर को भव्य तो बनाया जाएगा ही, इसके साथ ही मंदिर निर्माण में प्रयोग किए जाने वाले पत्थर भी बेहद खास होने वाले हैं.

बताया जा रहा है कि मंदिर निर्माण के लिए राजस्थान के भरतपुर का पत्थर इस्तेमाल किया जाएगा. भरतपुर के बंशी पहाड़पुर के पत्थरों के बारे में मान्यता है कि इसकी गुणवत्ता काफी अच्छी होती है. साथ ही यह लंबे समय तक चमकता रहता है.

1_072720103546.jpg

इससे पहले भी भरतपुर से काफी मात्रा में राम मंदिर निर्माण के लिए पत्थर अयोध्या आ चुका है. भरतपुर के रुदावल क्षेत्र के बंशी पहाड़पुर के पत्थर का इस्तेमाल पहले भी कई प्राचीन इमारतों के निर्माण कार्य में इस्तेमाल हो चुका है.

बंशी पहाड़पुर से निकलने वाले पत्थर की उम्र करीब 5000 वर्ष तक मानी जाती है. कहा जाता है कि इन पत्थरों पर पानी पड़ने से ये और ज्यादा निखर जाता है और हजारों वर्षों तक एक रूप में ही कायम रहता है.

2_072720103600.jpg

जानकारी के मुताबिक राम मंदिर निर्माण के लिए 4 घन फुट पत्थर की जरुरत है, जो बंशी पहाड़पुर से जा रहा है. इस वजह से यहां के लोगों में भी काफी खुशी है. क्योंकि उनके क्षेत्र का पत्थर राम मंदिर निर्माण में काम आएगा.

पत्थर की नक्काशी करने वाले कारीगर भी काफी खुश हैं, क्योंकि उनके द्वारा बनाये जाने वाले पत्थर राम मंदिर बनाए जाने में इस्तेमाल होंगे.

4_072720103626.jpg

भरतपुर जिला मुख्यालय से करीब 55 किलोमीटर दूर बयाना उपखंड स्थित बंशी पहाड़पुर क्षेत्र में चारों तरफ पहाड़ियां हैं. जिसमें से लाल पत्थर निकलता है. इस पत्थर से देश की ज्यादातर ऐतिहासिक इमारतें बनाई गई हैं. यहां से राम मंदिर निर्माण के लिए कई वर्षों से पत्थर ले जाने का काम जारी है.

3_072720103611.jpg

साल 1990 में अयोध्या आंदोलन के दौरान भी बंशी पहाड़पुर काफी चर्चा में रहा था, क्योंकि राम शिला पूजन के लिए ''श्री राम'' लिखी विशेष प्रकार की ईंटों का निर्माण भी यहीं से कराया गया था.

5_072720103646.jpg

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राम मंदिर निर्माण के लिए पत्थर भेजने का काम एक बार फिर से तेज गति से शुरू हो गया है. इसके साथ ही भारी संख्या में यहां के कारीगर मंदिर निर्माण में काम आने वाले पत्थरों की नक्काशी के काम में लग गए हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें