scorecardresearch
 

तिनसुकिया हत्याकांड के विरोध में क्षेत्र में 12 घंटे का बंद, हमले को लेकर ULFA की सफाई

असम में बीती रात अज्ञात लोगों ने कुछ लोगों को घर से बाहर बुलाया और फिर उन्हें गोलियों से भून दिया. हमले का शक उग्रवादी संगठन उल्फा पर है, लेकिन उसका कहना है कि इस घटना में वह शामिल नहीं था.

सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

असम के तिनसुकिया जिले के खेरोनी में गुरुवार रात उल्फा (इंडिपेंडेंट) के उग्रवादियों की ओर से 5 लोगों की हत्या करने के बाद क्षेत्र में तनाव बना हुआ है, लेकिन उल्फा (इंडिपेंडेंट) ने इस हमले में शामिल होने से इनकार किया है. दूसरी ओर, इस हत्याकांड के विरोध में जिले में 12 घंटे का बंद बुलाया गया है.

घटना से क्षेत्र में बेहद नाराजगी और तनाव है. ऑल असम बंगाल यूथ स्टूडेंट्स फेडरेशन ने हत्याकांड के विरोध में जिले में 12 घंटे का बंद बुलाया है. जिले में पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है और हर ओर गश्त लगा रही है.

घटना के बाद शुक्रवार को यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम (इंडिपेंडेंट) ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए सफाई दी. उल्फा का कहना है कि संगठन यह साफ करना चाहता है कि तिनसुकिया जिले के सादिया साइखोवाघाट के पास 1 नवंबर की रात को फायरिंग की घटना में उसकी कोई भूमिका नहीं थी.

इससे पहले बीती रात तिनसुकिया जिले के खेरोनी में गुरुवार रात फायरिंग कर 5 लोगों की हत्या कर दी गई. हत्या का शक संदिग्ध उल्फा (इंडिपेंडेंट) के उग्रवादियों पर है. इस फायरिंग में दो अन्य लोग भी घायल हो गए.

घटना पर पुलिस ने बताया कि मारे गए पांच लोगों में से तीन एक ही परिवार के सदस्य थे. अत्याधुनिक हथियारों से लैस हमलावरों का एक समूह ढोला-सादिया पुल के करीब इस गांव में आया और उन्होंने रात करीब आठ बजे पांच से छह लोगों को उनके घर से बाहर बुलाया. एक पुलिस अधिकारी के अनुसार, हमलावरों ने उन लोगों पर अंधाधुंध गोलियां चलाईं और फिर रात के अंधेरे में फरार हो गए.

मुख्यमंत्री ने की निंदा

हालांकि पुलिस को संदेह है कि बंदूकधारी उल्फा (इंडिपेंडेंट) उग्रवादी संगठन से जुड़े थे. मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने 'मासूम लोगों की हत्या' की निंदा की और पीड़ित परिवारों के प्रति संवेदनाएं प्रकट की. उन्होंने कहा, 'इस कायरतापूर्ण हिंसा के अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. हम इस तरह की कायराना हरकत को बर्दाश्त नहीं करेंगे.'

मुख्यमंत्री सोनोवाल ने कहा कि उन्होंने राज्य के मंत्रियों तपन गोगोई और केशव महंत को डीजीपी कुलाधार साइकिया के साथ मौके पर जाने के निर्देश दिए हैं. केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी घटना पर दुख जताते हुए कहा कि इस घृणित अपराध के दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी. गृहमंत्री ने मुख्यमंत्री सोनोवाल से बात करके हालात का जायजा लिया.

पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई, विपक्षी पार्टी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रिपुन बोरा ने घटना की भर्त्सना की. इस बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्वीट के जरिए सवाल किया कि कहीं यह हमला राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) से जुड़े घटनाक्रम से संबंधित तो नहीं था. उन्होंने ट्वीट किया, 'क्या यह हालिया एनआरसी घटनाक्रम का परिणाम है.' बनर्जी ने घटना की कड़ी निंदा करते हुए मृतकों के शोकाकुल परिवारों के प्रति सहानुभूति प्रकट की.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें