scorecardresearch
 

फिर चुनावी मोड में आए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, इन नेताओं संग की बैठक

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और देश के गृह मंत्री अमित शाह को लेकर कहा जाता है कि वह हमेशा चुनावी मोड में रहते हैं. लोकसभा चुनाव के परिणामों की घोषणा को अभी एक महीने भी नहीं हुए कि शाह फिर से चुनावी मोड में आ गए हैं. शाह ने रविवार को हरियाणा, महाराष्ट्र और झारखंड के नेताओं से मुलाकात कर सांगठनिक मुद्दों के साथ ही आगामी विधानसभा चुनाव के लिए रणनीति पर भी चर्चा की.

Amit Shah Amit Shah

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और देश के गृह मंत्री अमित शाह को लेकर कहा जाता है कि वह हमेशा चुनावी मोड में रहते हैं. लोकसभा चुनाव के परिणामों की घोषणा को अभी एक महीने भी नहीं हुए कि शाह फिर से चुनावी मोड में आ गए हैं. शाह ने रविवार को हरियाणा, महाराष्ट्र और झारखंड के नेताओं से मुलाकात कर सांगठनिक मुद्दों के साथ ही आगामी विधानसभा चुनाव के लिए रणनीति पर भी चर्चा की. गौरतलब है कि इन तीनों राज्यों में बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए की सरकारें हैं. इन राज्यों में विधानसभा चुनाव अक्टूबर में होने की संभावना है.

शाह ने सबसे पहले हरियाणा के नेताओं के साथ बैठक की. बैठक में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह और कृष्णपाल गुर्जर, राज्य सरकार में मंत्री अनिल विज, ओमप्रकाश धनकड़, राम विलास शर्मा, कैप्टन अभिमन्यु समेत अन्य नेता उपस्थित रहे. शाह ने तैयारियों के संबंध में जानकारी ली और रणनीति पर विमर्श किया. हालिया लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने हरियाणा में पहली बार सभी 10 सीटें जीतने में सफलता पाई थी. 2014 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 90 सदस्यीय विधानसभा में पहली बार 47 सीटें जीत पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई थी.

हरियाणा के बाद शाह ने झारखंड के पार्टी नेताओं के साथ बैठक की. इस बैठक में मुख्यमंत्री रघुबर दास, केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा और पार्टी के प्रदेश प्रभारी मंगल पाण्डेय शामिल हुए. सूत्रों के अनुसार बैठक में लोकसभा चुनाव 2019 के परिणाम को विधानसभा चुनाव में भी दोहराने के लिए पार्टी अध्यक्ष ने तैयारियों के संबंध में चर्चा की. गौरतलब है कि बीजेपी झारखंड की 14 संसदीय सीटों में से 12 पर विजयी रही थी. 2014 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 81 सदस्यीय विधानसभा की 42 सीटें जीती थीं.

महाराष्ट्र के जिन नेताओं के साथ शाह ने बैठक की, उनमें मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, प्रदेश प्रभारी सरोज पाण्डेय और प्रदेश अध्यक्ष रावसाहेब पाटिल दनवे शामिल थे.

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन ने महाराष्ट्र की 48 में से 41 संसदीय सीटों पर जीत दर्ज की थी. 2014 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी और शिवसेना ने अलग-अलग चुनाव लड़ा था. 288 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा ने 122 सीटें जीती थीं. शिवसेना के हिस्से में 63 सीटें आई थीं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें