scorecardresearch
 

शेयर ब्रोकर से सियासत के शहंशाह तक, ऐसा है अमित शाह का सफर

एक छोटे से शेयर ब्रोकर से भारतीय राजनीति के शहंशाह बनने की अमित शाह की कहानी किसी चमत्कार से कम नहीं है. अमित शाह गुजरात में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाले बीजेपी सरकार के समय से ही उनके साथ काम कर रहे हैं. उन्हें जय और वीरू की जोड़ी कही जाती है.

राजनीति में अमित शाह का कद लगातार बढ़ता गया (फोटो: रायटर्स) राजनीति में अमित शाह का कद लगातार बढ़ता गया (फोटो: रायटर्स)

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार को कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली. अमित शाह गुजरात में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाले बीजेपी सरकार के समय से ही साथ काम कर रहे हैं. उन्हें जय और वीरू की जोड़ी कही जाती है. एक छोटे से शेयर ब्रोकर से भारतीय राजनीति के शहंशाह बनने की अमित शाह की कहानी किसी चमत्कार से कम नहीं है.

अटल-आडवाणी के बाद अब मोदी-शाह की जोड़ी

अटल-आडवाणी के बाद मोदी-शाह की जोड़ी ने भारतीय राजनीति में जादू किया है. साल 2014 और 2019 के आम चुनाव में अमित शाह को बीजेपी के चाणक्य के रूप में माना गया. वह रणनीति बनाने और उसे सक्रियता से लागू करने में माहिर हैं. पीएम मोदी के शासनकाल में सिर्फ पीएम के अलावा और कोई भी राजनीतिज्ञ अमित शाह के कद से बड़ा नहीं हो पाया. इस बार के आम चुनाव में अमित शाह को गांधी नगर सीट से जबरदस्त 5.50 लाख वोट से जीत मिली. उन्होंने इस सीट से लालकृष्ण आडवाणी की जीत का भी रिकॉर्ड तोड़ दिया.

मुश्किलों का कर चुके हैं सामना

साल 2010 में अमित शाह को शोहराबुद्दीन शेख केस एनकाउंटर केस में जेल जाना पड़ा था. उन्हें गुजरात से बाहर रहने की शर्त पर जमानत मिली थी. इसके चार साल बाद ही वह बीजेपी के अध्यक्ष बन गए. राष्ट्रीय राजनीति में शाह का उदय किसी चमत्कार से कम नहीं है. जमानत मिलने के बाद साबरमती जेल से रिहा होने पर उन्होंने कहा था, 'मैं अभी जा रहा हूं, लेकिन मुझे अंडरस्टीमेट न करें, मैं लौटकर आऊंगा.'

संभाल चुके हैं 12 मंत्रालय

साल 1989 से अब तक अमित शाह 29 चुनाव लड़ चुके हैं (स्थानीय निकायों को लेकर) और उन्हें किसी में भी हार नहीं मिली है. वह गुजरात में चार बार लगातार 1997, 1998, 2002 और 2007 में विधायक बने. वह गुजरात की मोदी सरकार में भी उनके सबसे विश्वस्त सहयोगी थे. एक समय तो उनके पास 12 मंत्रालय रह चुका है- गृह, न्याय, जेल, सीमा सुरक्षा, नागरिक रक्षा, आबकारी, ट्रांसपोर्ट, निषेध, होमगार्ड, ग्राम रक्षक दल, पुलिस हाउसिंग और विधायी कार्य मंत्री. चाणक्य माने जाने वाली अमित शाह ने मोदी के साथ मिलकर बीजेपी को लोकसभा और विधानसभा की कई चुनावों में जीत मिलाई है.

उनके नेतृत्व में बीजेपी को महाराष्ट्र, हरियाणा, जम्मू- कश्मीर, झारखंड, असम विधानसभा चुनाव में 2016 में जीत मिली थी. हालांकि दिल्ली, बिहार, छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्य  प्रदेश के विधानसभा चुनावों में बीजेपी को जीत मिली. उन्होंने पार्टी को यूपी, उत्तराखंड, गुजरात में भारी जीत दिलाई और मणिपुर जैसे पूर्वोत्तर के राज्यों तक बीजेपी की पहुंच हुई.

शाह का जन्म 1964 में गुजरात के एक संपन्न वैष्णव परिवार में हुआ था. उनके दादा जी पूरे परिवार को मुंबई से वापस गुजरात के मनसा स्थ‍ित पूर्वजों के घर ले गए. उन्होंने एक छात्र नेता के तौर पर राजनीतिक करियर शुरू किया और 1986 में अहमदाबाद में पीएम नरेंद्र मोदी से मिले.

अमित शाह की शुरुआती पढ़ाई मेहसाना में हुई. फिर बायोकेमिस्ट्री में ग्रेजुएशन करने के लिए उन्होंने अहमदाबाद के सीयू शाह साइंस कॉलेज में एडमिशन लिया. बायोकेमिस्ट्री में बी.एससी करने की डिग्री लेने के बाद अमित शाह ने अपने पिता के बिजनेस को ज्वाइन कर लिया. यहां तक कि स्टॉक ब्रोकर के तौर पर भी उन्होंने काम किया और अहमदाबाद के को-ओपरेटिव बैंक में नौकरी भी की.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें