scorecardresearch
 

अमर सिंह के वो बयान और किस्से जिससे आया था राजनीति में भूचाल

भारतीय राजनीति में अमर सिंह एक ऐसा नाम थे जिनकी हर पार्टी के नेताओं से अच्छे संबंध थे. उत्तर प्रदेश से अपना राजनीतिक सफर शुरू करने वाले अमर सिंह कभी मुलायम सिंह के दाहिने हाथ माने जाते थे.

अमर सिंह (फाइल फोटो- PTI) अमर सिंह (फाइल फोटो- PTI)

  • समाजवादी पार्टी के पूर्व नेता का 64 साल की उम्र में निधन
  • सिंगापुर के एक अस्पताल में ली आखिरी सांस

समाजवादी पार्टी के पूर्व नेता और राज्यसभा सांसद अमर सिंह का शनिवार को निधन हो गया. बीते कुछ महीनों से बीमारी से जूझ रहे अमर सिंह ने सिंगापुर के एक अस्पताल में आखिरी सांस ली. भारतीय राजनीति में अमर सिंह एक ऐसा नाम थे जिनकी हर पार्टी के नेताओं से अच्छे संबंध थे. उत्तर प्रदेश से अपना राजनीतिक सफर शुरू करने वाले अमर सिंह कभी मुलायम सिंह के दाहिने हाथ माने जाते थे.

खराब सेहत के कारण अमर सिंह पिछले कुछ वर्षों से एक्टिव नहीं थे. लेकिन एक दौर था जब वो अपने बयानों से तहलका मचा देते थे. उन्होंने कई ऐसे बयान दिए जो चर्चा का विषय बने.

ये भी पढ़ें- अमर सिंह का सिंगापुर के अस्पताल में निधन, PM मोदी ने जताया शोक

अमिताभ बच्चन को लेकर दिया था ये बयान

अमर सिंह ने एक बार कहा था कि अमिताभ बच्चन को पद्म विभूषण दिया जाना दिलीप कुमार का अपमान है. एक म्यूजिक एल्बम की लॉन्चिंग पर अमर सिंह ने कहा था कि अमिताभ बच्चन एक ऐसे एक्टर हैं जो कई क्रिमिनल केसों में लिप्त हैं. यही नहीं, पनामा पेपर्स विवाद में भी उनका नाम आ चुका है.

जया बच्चन पर दिया था विवादित बयान

साल 2016 में देश में बीफ पर विवाद छिड़ा था तब अमर सिंह ने कहा था कि जया बच्चन ने बीफ खाया है. अमर सिंह ने पत्रकारों से बातचीत में कहा था कि कौन क्या पहनता है, क्या खाता है, इस बात पर झगड़ा और हत्या नहीं होनी चाहिए. एक प्रतिनिधिमंडल ग्लासगो गया था, उसमें जया बच्चन भी थीं. वहां सभी लोगों ने गाय और सूअर, दोनों का मांस खाया था. यूके के लिए वो गाय और सूअर नहीं, पोर्क और बीफ है.

ये भी पढ़ें- बागी विधायकों को गहलोत का संदेश- हाईकमान ने माफ किया तो मैं भी गले लगा लूंगा

आजम खान से नहीं थे अच्छे रिश्ते

अमर सिंह और आजम खान के रिश्ते जगजाहिर हैं. दोनों के संबंध मधुर नहीं रहे. अमर सिंह ने कुछ साल पहले आजम खान के एक बयान की कड़ी निंदा की थी. उन्होंने कहा कि आजम खान पर ईश-निंदा का केस चलना चाहिए. उन्हें जेल में रखना चाहिए. पता नहीं क्यों ये देश उन्हें बर्दाश्त कर रहा है. ऐसे कई मौके रहे जब अमर सिंह ने आजम खान पर सीधा निशाना साधा.

यूपीए सरकार बचाने के लिए आगे आए थे अमर सिंह

अमर सिंह को 2009 में सपा ने पार्टी से निकाल दिया था और 2011 में तथाकथित 'वोट फॉर कैश' घोटाले में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. उन पर यूपीए सरकार को बचाने के लिए सांसदों को घूस देने का आरोप था, जब यूपीए के सहयोगी वाम मोर्चे ने भारत-अमेरिका परमाणु समझौते से नाइत्तेफाकी की वजह से समर्थन वापस ले लिया था और लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव रखा था तो अमर सिंह ही मनमोहन सरकार को बचाने के लिए आगे आए थे.

सपा से नाराज हुए तो बीजेपी के करीब आए

साल 2017 के उस दौर को याद करिए जब सपा में जंग छिड़ी थी. पार्टी में इस लड़ाई के अखिलेश यादव ने अमर सिंह को जिम्मेदार ठहराया था और पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया. इसके बाद तो अमर सिंह अखिलेश पर हमलावर ही रहे. सपा से बाहर होने के बाद कई मौके पर उन्होंने पीएम मोदी की तारीफ की. जया प्रदा को बीजेपी में लाने के पीछे भी अमर सिंह का ही हाथ माना जाता है. अपने पूरे राजनीतिक जीवन में अमर सिंह बीजेपी पर हमलावर रहे, लेकिन आखिरी दिनों में वो जिस तरह से बीजेपी के करीब आए वो हर किसी को हैरान कर देने वाला था.

मुलायम से काफी नजदीक रहे

अमर सिंह ने मुलायम सिंह यादव के साथ अपने रिश्ते को खासी अहमियत दी. सपा से उनके निष्कासन के बाद भी नहीं टूटा. अमर सिंह ने इस रिश्ते को लेकर एक बार कहा था कि जब मुलायम ने कहा था कि मैं उनकी पार्टी में भले न होऊं पर उनके दिल में था, जब एक पुराना दोस्त कहता है कि ''मुझे तुम्हारी कमी खलती है", तो मैं भला कैसे न लौटता." अमर डंके की चोट पर कहते थे वे ''मुलायमवादी" हैं. उनकी वफादारी नेता के प्रति है, पार्टी के प्रति नहीं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें