scorecardresearch
 

राजनाथ बोले- हुर्रियत से बातचीत को तैयार, पत्थरबाजों को बताया ‘बच्चा’

कश्मीर में पत्थरबाजी पर सवाल का जवाब देते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि पत्थरबाजी के मामले में 9-10 हजार छोटे बच्चों के खिलाफ एफआईआर दर्ज थी, हमारी सरकार ने फैसला कर उन्हें रियायत दी ताकि उन्हें सभलने का मौका मिले. आगे उन्होंने कहा कि बच्चे बच्चे होते हैं, हो सकता है उन्हें किसी ने गुमराह किया हो. हम एकाएक उन्हें आतंकवादी मान लेना गलत है.

'पंचायत आजतक' कार्यक्रम में केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह 'पंचायत आजतक' कार्यक्रम में केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह

'पंचायत आजतक' कार्यक्रम में केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि कश्मीर मुद्दे को सुलझाने के लिए हम किसी से भी बात करने को तैयार हैं. अगर हुर्रियत या फिर पाकिस्तान आगे आता है तो हम उनसे बात करने को तैयार हैं. साथ ही पत्थरबाजों के सवाल पर उन्होंने कहा कि बच्चे बच्चे होते हैं पहली बार में उन्हें आतंकी नहीं माना जाना चाहिए.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान हमारा पड़ोसी देश है और हमारी पड़ोसियों को लेकर हमारी नीति बिल्कुल स्पष्ट रही है कि पड़ोसियों से हमारे संबंध अच्छे होने चाहिए. लेकिन पाकिस्तान अपनी जमीन से आतंकवाद को प्रमोट करना बंद करे, क्योंकि ऐसी सूरत में पाकिस्तान के साथ बातचीत नहीं हो सकती. उन्होंने कहा कि हम आतंकवाद को समाप्त करना चाहते हैं इसके लिए हमें जो भी कदम उठाना पड़े उठाएंगे. आतंकवाद का सफाया करने में थोड़ा समय लगेगा.

कश्मीर में पत्थरबाजी पर सवाल का जवाब देते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि पत्थरबाजी के मामले में 9-10 हजार छोटे बच्चों के खिलाफ एफआईआर दर्ज थी, हमारी सरकार ने फैसला कर उन्हें रियायत दी ताकि उन्हें संभलने का मौका मिले. आगे उन्होंने कहा कि बच्चे बच्चे होते हैं, हो सकता है उन्हें किसी ने गुमराह किया हो. हम एकाएक उन्हें आतंकवादी मान लेना गलत है.

उन्होंने कहा, 'हम कश्मीर और कश्मीरियों को अपना दुश्मन नहीं मानते हैं. वहां के लोग भी भारतीय हैं. यदि कोई बच्चा पत्थरबाजी में लिप्त है तो हम उसे आतंकवादी नहीं करार दे सकते. वह गुमराह हुआ है और उसे वापस लाना हमारी जिम्मेदारी है.'

वहीं कश्मीर मुद्दे पर हुर्रियत से बातचीत करने के सवाल पर राजनाथ सिंह ने कहा कि सरकार किसी भी स्टेक होलडर से बात करने के लिए लिए तैयार है. यहां तक कि सरकार से बातचीत के लिए कश्मीर से कोई भी संगठन आएगा, भारत सरकार उससे बात करेगी. सरकार पाकिस्तान से भी बातचीत करने के लिए तैयार हैं, लेकिन हम पहले पाकिस्तान को अपनी जमीन से आतंकवाद को बंद करने के लिए कहेंगे. उन्होंने कहा कि हुर्रियत की तरफ से बातचीत को लेकर अभी तक किसी प्रकार की पहल नहीं हुई है.

मोदी सरकार के कार्यकाल के चार साल पूरे होने पर आजतक ने पंचायत का आयोजन किया है. नई दिल्ली के होटल ताज पैलेस में दिनभर चलने वाली इस पंचायत में केंद्र सरकार के वरिष्ठतम मंत्रियों समेत विपक्ष के कई बड़े नेता मोदी सरकार के कामों का हिसाब दे रहे हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें