scorecardresearch
 

फरीदाबाद में चार्टर्ड विमान क्रैश, 10 लोग मरे

हरियाणा के फरीदाबाद जिले में पर्वतीय कालोनी के सघन आबादी वाले रिहायशी इलाके में बुधवार रात एक चार्टर्ड विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया. इस हादसे में विमान में सवार सात लोगों सहित 10 लोग मारे गए.

चार्टर्ड विमान दुर्घटनाग्रस्त चार्टर्ड विमान दुर्घटनाग्रस्त

हरियाणा के फरीदाबाद जिले में पर्वतीय कालोनी के सघन आबादी वाले रिहायशी इलाके में बुधवार रात एक चार्टर्ड विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया. इस हादसे में विमान में सवार सात लोगों सहित 10 लोग मारे गए.

फरीदाबाद के एसडीएम प्रदीप ने बताया कि दिल्ली स्थित एयर चार्टर्ड सर्विसेज इंडिया प्रा लि का ‘पीसी 12’ विमान यहां रात करीब दस बज कर 35 मिनट पर भारतीय वायु सेना के स्टेशन के समीप जवाहरनगर इलाके में एक मकान पर गिर कर दुर्घटनाग्रस्त हुआ. यह विमान पटना से एक मरीज को लेकर दिल्ली आ रहा था.

बताया जाता है कि विमान में सात लोगों के अलावा जो 3 व्यक्ति मारे गए वह उसी मकान में रहने वाले थे जिस पर विमान गिरा.

दिल्ली हवाईअड्डा के सूत्रों ने बताया कि विमान ने उतरने से करीब 15 मिनट पहले ही, लगभग 8000 फुट की उंचाई पर नियंत्रण खो दिया. उसी दौरान धूल भरी तेज आंधी भी चली. विमान के दुर्घटनाग्रस्त होते ही उसमें आग लग गई. विमान को रात करीब पौने ग्यारह बजे दिल्ली पहुंचना था.

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि विमान वास्तव में एम्बुलेन्स फ्लाइट थी जिसमे एक मरीज सहित सात लोग थे. उन्होंने बताया कि विमान में एक मरीज राहुल राज (20 वर्ष), पायलट कैप्टन हरप्रीत, सह पायलट कैप्टन मंजीत कटारिया, डॉ अर्शद एवं डॉ राजेश, सिरील नामक एक पुरूष नर्स और मरीज का चचेरा भाई रत्नेश कुमार सवार थे.

पटना के जयप्रकाश नारायण अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के निदेशक अरविंद दुबे ने बताया कि विमान ने वहां से मरीज राहुल राज को लेकर दिल्ली के लिए शाम करीब साढ़े सात बजे उड़ान भरी. विमान करीब दस बज कर 35 मिनट पर दुर्घटनाग्रस्त हुआ.

डीजीसीए और नागरिक विमानन मंत्रालय के अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं. फायरब्रिगेड की गाड़ियां और पुलिस प्रशासन का अमला भी पहुंच गया और उन्होंने घटनास्थल पर उमड़ी भीड़ को काबू किया.

फरीदाबाद के पुलिस आयुक्त पी के अग्रवाल ने बताया कि दस शव इस कदर जले हुए हैं कि उनकी शिनाख्त मुश्किल है.

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि रात करीब साढ़े दस बजे एकाएक धूल भरी आंधी आई. उसी दौरान आसमान में धूं-धूं की आवाज सुनकर लोग घबरा गए लेकिन बादलों के कारण लोगों को विमान साफ साफ नजर नहीं आया. इससे पहले कि लोग कुछ समझ पाते, विमान पर्वतीय कालोनी के एक मकान पर जा गिर.

पटना स्थित जगदीश मेमोरियल अस्पताल के डॉ आलोक कुमार ने भाषा को बताया कि 20 वर्षीय राहुल जिगर की बीमारी से पीड़ित था और 22 मई को इस अस्पताल में उसे भर्ती कराया गया था. उसकी हालत बिगड़ने पर उसके चचेरे भाई रत्नेश कुमार ने दिल्ली स्थित अपोलो अस्पताल से संपर्क किया और वहां के दो डॉक्टरों साथ उसने एंबुलेन्स फ्लाइट बुलवाई थी. इसी फ्लाइट से राहुल को दिल्ली स्थित अपोलो अस्पताल लाया जा रहा था.

बताया जाता है कि पश्चिमी चंपारन जिले के बेतिया निवासी राजेश कुमार का पुत्र राहुल कोमा में था.

पीसी 12 विमान आपात चिकित्सा स्थिति के लिए उपयुक्त माना जाता है और गंभीर रूप से बीमार मरीजों को लाने ले जाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है. हरियाणा के डीजीपी रंजीव दलाल ने बताया ‘राहत और बचाव दल मलबा हटाने की कोशिश कर रहे हैं और पता लगा रहे है कि कोई जीवित व्यक्ति मलबे में न फंसा हो.’ घटना स्थल पर करीब 25 दमकल वाहनों ने पहुंच कर उस मकान में लगी आग बुझाई जिस पर विमान गिरा. दो घंटे में आग पर काबू पाया जा सका.

फरीदाबाद के एक बड़े इलाके में रात दस बजे से ही बिजली गुल है, जिसकी वजह से राहत एवं बचाव कार्य में भारी दिक्कतें आ रही हैं. रात करीब 12 बज कर 35 मिनट पर उस मकान में फिर से आग लग गई जिस पर विमान गिर कर दुर्घटनाग्रस्त हुआ.

स्थानीय लोगों का आरोप है कि हादसे के बाद कम से कम घंटे बाद तक वहां पुलिस और प्रशासन का कोई अधिकारी नहीं पहुंचा. दमकल वाहन भी देर से पहुंचे. फरीदाबाद के कई अस्पतालों सहित वायुसेना की एम्बुलेंसों का इस्तेमाल भी हताहतों को निकालने के लिए किया गया. घटना स्थल पर अफरातफरी का माहौल है और कई बार स्थानीय लोगों की पुलिस के साथ तीखी नोंकझोंक हुई.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें