scorecardresearch
 

गुरुमूर्ति ने छोड़ा गडकरी का साथ, बोले पार्टी अध्यक्ष को नहीं होना चाहिए व्यापारी

भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी के लिए मुश्किलें खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही हैं. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के विचारक एस. गुरुमूर्ति ने ट्विटर पर लिखा है कि किसी पार्टी के अध्यक्ष को व्यापारी नहीं होना चाहिए.

नितिन गडकरी नितिन गडकरी

भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी के लिए मुश्किलें खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही हैं. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के विचारक एस. गुरुमूर्ति ने ट्विटर पर लिखा है कि किसी पार्टी के अध्यक्ष को व्यापारी नहीं होना चाहिए.

गुरुमूर्ति ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'मुझे ऐसा लगता है कि किसी भी पार्टी के अध्यक्ष को बिजनेस में नहीं होना चाहिए. इससे हमेशा ही मुश्किलों को न्योता मिलता है.'

गुरुमूर्ति ने आगे ट्वीट किया है, 'मुझे इस बात बहुत कम फर्क पड़ता है कि नितिन अध्यक्ष बने रहते हैं या नहीं. अगर मुझसे मेरी राय पूछी जाती तो मैं भी यही करता.'

गडकरी के बारे में उन्होंने ट्वीट किया, 'एनपीए मुद्दा खत्म होने के तुरंत बाद उन्होंने (गडकरी) कहा था कि वो 14 कंपनी और पूर्ती का ऑन रिकार्ड स्वामित्व चाहते हैं. दिसंबर 2010 में मैंने उन्हें पूर्ती से जुड़ते हुए देखा था.'

गौरतलब है गुरुमूर्ति बीजेपी और आरएसएस के थिंक टैंक माने जाते हैं. गुरुमूर्ति बीजेपी और संघ के बीच अक्सर मध्यस्थता करते रहे हैं. गुरुमूर्ति के देश के बड़े कॉरपोरेट घराने से करीबी रिश्ते हैं. उन्होंने कई कॉरपोरेट घरानों के घरेलू झगड़े तक सुलझाए हैं. एस गुरुमूर्ति काले धन पर बीजेपी की टास्क फोर्स के संयोजक और स्वेदशी जागरण मंच के संस्थापक सदस्य भी हैं.

गुरुमूर्ति ने गडकरी पर लगे व्यापारिक लेन-देन में गड़बड़ियों के आरोपों पर उन्हें क्लीन चिट दी थी. गडकरी अपने पूर्ति ग्रुप में कथित वित्तीय अनिमितताओं के चलते निशाने पर हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें