scorecardresearch
 

कारगिल पर जनता को गुमराह करना बंद करें शरीफ: मुशर्रफ

पाकिस्तान के पूर्व सैन्य शासक परवेज मुशर्रफ ने पीएमएल-एन प्रमुख नवाज शरीफ के करगिल असफलता के लिए उन्हें जिम्मेदार ठहराने वाले आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री कश्मीर और कारगिल मुद्दों पर जनता को गुमराह करना बंद करें.

परवेज मुशर्रफ परवेज मुशर्रफ

पाकिस्तान के पूर्व सैन्य शासक परवेज मुशर्रफ ने पीएमएल-एन प्रमुख नवाज शरीफ के करगिल असफलता के लिए उन्हें जिम्मेदार ठहराने वाले आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री कश्मीर और कारगिल मुद्दों पर जनता को गुमराह करना बंद करें.

मुशर्रफ ने शनिवार रात लाहौर में ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एपीएमएल) के पार्टी कार्यकर्ताओं को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये संबोधित करते हुए शरीफ से कहा कि वे कश्मीर और कारगिल को लेकर जनता को गुमराह करना बंद करें.

पाकिस्तान पर आठ वर्ष तक शासन करने वाले मुशर्रफ ने कहा, ‘‘नवाज शरीफ यह कहकर झूठ बोल रहे हैं कि कश्मीर मुद्दे के हल के लिए वर्ष 1999 में भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजवेयी और उनके बीच एक सहमति हुई थी. वे कारगिल मुद्दे पर सच नहीं बोल रहे हैं.’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं आपसे कहता हूं कि उन्हें (शरीफ) इसकी जानकारी थी कि कारगिल मोर्चे पर क्या होने वाला है. अब वह ऐसा जता रहे हैं कि उन्हें उस पूरे प्रकरण की जानकारी ही नहीं थी और वे उसका ठीकरा दूसरे के मत्थे पर फोड़ रहे हैं.’’

मुशर्रफ ने कहा, ‘‘लाहौर घोषणापत्र में कश्मीर के बारे में एक शब्द का भी उल्लेख नहीं है और वे (शरीफ) दावा कर रहे हैं कि उन्होंने कश्मीर मुद्दे को सुलझाने के लिए प्रयास किये थे. ऐसा करके वे चौंका नहीं रहे हैं.’’ उन्होंने पत्रकार सैयद सलीम शाहजाद की हत्या की स्वतंत्र जांच कराने की भी मांग की.

उन्होंने कहा, ‘‘वरिष्ठ पत्रकार की हत्या के शामिल लोगों को सजा मिलनी चाहिए और कोई भी कानून से ऊपर नहीं है. ऐसे कृत्यों से मीडिया पर पाबंदी लगाने की कोशिश नहीं की जानी चाहिए.’’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें