scorecardresearch
 

अफगानिस्‍तान के पूर्व राष्‍ट्रपति बुरहानुद्दीन रब्‍बानी की हत्‍या

अफगानिस्‍तान के पूर्व राष्‍ट्रपति बुरहानुद्दीन रब्‍बानी की हत्‍या कर दी गई है. काबुल में उनके आवास पर बम विस्‍फोट कर उनकी हत्‍या कर दी गई.

बुरहानुद्दीन रब्बानी बुरहानुद्दीन रब्बानी

अफगानिस्‍तान के पूर्व राष्‍ट्रपति बुरहानुद्दीन रब्‍बानी की हत्‍या कर दी गई है. काबुल में उनके आवास पर बम विस्‍फोट कर उनकी हत्‍या कर दी गई.

जिस समय यह विस्‍फोट हुआ उस वक्‍त दो लोग उनसे मिलने आए हुए थे और रब्‍बानी उनके साथ बैठक कर रहे थे. आशंका जताई जा रही है कि यह एक आत्‍मघाती हमला था जिसमें रब्‍बानी की मौत हो गई.

रब्‍बानी पीस काउंसिल के अध्‍यक्ष थे. पीस काउंसिल अफगानिस्‍तान में तालिबान के साथ बातचीत के प्रयासों की अगुवाई कर रहा है.

पिछले कुछ महीनों में अफगानिस्‍तान में कई बड़ी हस्तियों की हत्या की जा चुकी है. इस साल जुलाई में अफगान राष्ट्रपति हामिद करजई के एक वरिष्ठ सलाहकार जान मोहम्मद खान की काबुल में गोली मार कर हत्या कर दी गई थी. जुलाई में ही हामिद करजई के सौतेले भाई अहमद वली करजई को उनके अपने ही सुरक्षा प्रमुख ने गोली मार दी थी जिसमें उनकी मौत हो गई थी.

रब्बानी तालिबान के जाने के बाद अफगान सरकार के राष्ट्रपति बने थे. 1996 में उन्हें काबुल से बाहर किए जाने के बाद वह नॉर्दन अलायंस के प्रमुख बन गए थे. इस अलायंस में ताजिक और उज्बेक शामिल थे जो तालिबान के पतन के बाद काबुल में सत्ता में आया था.

रब्बानी ताजिक मूल के थे. उनकी हत्या से तालिबान उग्रवादियों के साथ शांति वार्ता शुरू करने की उम्मीद को न केवल झटका लगा है बल्कि उन क्षेत्रीय और मूलनिवासी प्रतिद्वन्द्वियों को नियंत्रत करने के प्रयास भी बाधित होंगे जो उग्रवाद को बढ़ावा देते हैं. अफगान राजनीति में चतुर और तालिबान विरोधी नॉर्दन अलायंस के नेता रब्बानी की भूमिका अमेरिका के सहयोग से तालिबान तक पहुंचने और राजनीतिक समझौता करने में अहम थी और निकट भविष्य में इसकी भरपाई होना मुश्किल है.

उनकी मौत के बाद नॉर्दन अलायंस के कुछ वरिष्ठ सदस्यों में भी असंतोष उत्पन्न हो सकता है जो राष्ट्रपति हामिद करजई पर तालिबान के साथ मिलीभगत का आरोप लगाते रहे हैं. अफगानिस्तान के मूलनिवासी अल्पसंख्यकों ने तालिबान के साथ बातचीत को देखते हुए फिर से हथियार उठाना शुरू कर दिया है.

रब्बानी की मौत शायद यह प्रक्रिया तेज कर सकती है और वर्ष 2014 में अमेरिकी सैनिकों के देश से जाने के बाद गृह युद्ध के लिए नींव रखी जा सकती है. हमले में करजई के सलाहाकर मोहम्मद मासूम स्तानेकजई घायल हो गए. उनके एक परिजन ने बताया कि स्तानेकजई के जख्म जानलेवा नहीं हैं लेकिन वह अस्पताल में हैं. परिजन ने स्थिति की संवेदनशीलता देखते हुए अपना नाम नहीं बताया.

स्तानेकजई अफगानिस्तान शांति एवं पुन: एकीकरण कार्यक्रम के मुख्य कार्याधिकारी हैं. इस कार्यक्रम के लिए धन अमेरिका और गठबंधन सहयोगी मुहैया करा रहे हैं. कार्यक्रम का उद्देश्य मध्य एवं निचले स्तर के तालिबान को अफगान समाज से पुन: जोड़ना है.

अफगानिस्तान में करीब 25,000 से 40,000 उग्रवादी सक्रिय हैं लेकिन इस कार्यक्रम के तहत अब तक केवल 2,000 को ही पुन: एकीकरण की राह में लाने में सफलता मिली है. पुन:एकीकरण सुलह सहमति की प्रक्रिया का ही भाग है जिसका लक्ष्य तालिबान के वरिष्ठ नेतृत्व के साथ शांति समझौता करना है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें