scorecardresearch
 

राजस्थान: MLA बोले- अफीम से नहीं होते थे एक्सीडेंट, सरकार ने खुलवा दिए ठेके

राजस्थान के निर्दलीय विधायक खुशवीर सिंह ने मोटर व्हीकल एक्ट पर बोलते हुए कहा कि यहां (राजस्थान) अफीम का नशा अच्छा था, इससे आज तक कोई हादसा नहीं हुआ है. सरकारों ने जगह-जगह शराब की दुकानें खुलवा दीं जिससे हादसे होते रहते हैं. आखिर डोडा खाने और अमल पीने वालों का क्या कसूर था जो इसे बंद कर दिया गया?

राजस्थान के निर्दलीय विधायक खुशवीर सिंह (फोटो-आजतक) राजस्थान के निर्दलीय विधायक खुशवीर सिंह (फोटो-आजतक)

  • राजस्थान में पहले अफीम के डोडा पोस्त के ठेके उठते थे
  • सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद इस पर रोक लगा दी गई

राजस्थान के निर्दलीय विधायक खुशवीर सिंह ने मोटर व्हीकल एक्ट पर बोलते हुए कहा कि यहां (राजस्थान) अफीम का नशा अच्छा था, इससे आज तक कोई हादसा नहीं हुआ है. सरकारों ने जगह-जगह शराब की दुकानें खुलवा दीं जिससे हादसे होते रहते हैं. आखिर डोडा खाने और अमल पीने वालों का क्या कसूर था जो इसे बंद कर दिया गया?

असल में, निर्दलीय विधायक एलानी गांव में ग्रामीणों से बातचीत कर रहे थे और उसी दौरान उन्होंने यह बात कही.

गौरतलब है कि राजस्थान में पहले अफीम के डोडा पोस्त के ठेके उठते थे और सरकारी दुकानें चलती थी जिसमें इसकी नशा करने के आदी लोगों को एक निश्चित मात्रा में डोडा पोस्त बेचा जाता था. गांव में अफीम का पानी अमल पीने के सामाजिक रस्म में हुआ करते थे. मगर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद राज्य में डोडा पोस्त के ठेके और दुकान बंद कर दिए गए.

पाली मारवाड़ जंक्शन के विधायक कांग्रेस के नेता रहे हैं. कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीतते रहे हैं. इस बार टिकट नहीं मिलने पर निर्दलीय चुनाव जीते थे. जयपुर में राहुल गांधी की रैली में शामिल होकर कांग्रेस के एसोसिएट मेंबर बने थे. मगर इस गांव में एक बार उन्हें फिर ऐलान कर दिया कि ना तो वह कांग्रेस के साथ हैं ना ही बीजेपी के साथ हैं.

खुशवीर सिंह का कहना है कि वह निर्दलीय जीते हैं और निर्दलीय रहेंगे. राज्य में पंचायत और निकाय के चुनाव से पहले कांग्रेस को समर्थन दे रहे एक विधायक के इस बयान को लेकर भी हर तरफ चर्चा है कि कहीं बीजेपी को मजबूत देख कांग्रेस का समर्थन दे रहे निर्दलीय विधायकों का मन तो नहीं बदल रहा है. कांग्रेस को समर्थन दे रहे निर्दलीय कांग्रेस के एसोसिएट मेंबर बन चुके हैं. ऐसे में कांग्रेस के एसोसिएट मेंबर के इस बयान को लेकर सियासी हलकों में चर्चा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें