scorecardresearch
 

राजस्थान में मंत्रिमंडल के बाद अब संगठन में बड़े फेरबदल की तैयारी में जुटी कांग्रेस पार्टी

आगामी चुनावों पर नजर रखते हुए कांग्रेस पार्टी राजस्थान में बड़े बदलाव कर रही है. बीते दिनों गहलोत मंत्रिमंडल में फेरबदल किया गया. इसके बाद अब पार्टी संगठन के कायाकल्प की तैयारी कर रही है.

अशोक गहलोत और सचिन पायलट  (FILE) अशोक गहलोत और सचिन पायलट (FILE)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • चुनावों के मद्देनजर बदलावों में जुटी है कांग्रेस
  • पार्टी के अंतर्कलह को साधने की हो रही है कोशिश

कांग्रेस पार्टी राजस्थान में अब बड़े बदलाव करने की तैयारी में है. यह बदलाव राज्य के आगामी चुनावों के मद्देनजर किया जाने वाला है. राजस्थान में मंत्रिमंडल में किए गए बदलावों के बाद संगठन में यह फेरबदल बड़े स्तर पर करने की तैयारी है. बता दें कि राजस्थान में मंत्रिमंडल में पुनर्गठन के बाद भी पार्टी में अंदरूनी कलह खत्म होने का नाम नहीं ले रही है.

जानकारी के अनुसार, राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा प्रदेश प्रभारी अजय माकन से मिलने पहुंचे. कहा जा रहा है कि इस मुलाकात में प्रदेश में जिला अध्यक्ष की नियुक्ति को लेकर चर्चा की जानी है. हाल ही में राजस्थान मंत्रिमंडल का पुनर्गठन किया गया है.  इसके बावजूद कांग्रेस में प्रदेश संगठन की अंदरूनी कलह समाप्त नहीं हुई है.

कांग्रेस के राजस्थान में Mission 2023 के मद्देनज़र इन बदलावों को देखा जा रहा है. मंत्रिमंडल में बदलाव करने के बाद कांग्रेस पार्टी अब अब संगठन के स्तर पर भी बदलाव करना चाहती है. अब प्रदेश में कांग्रेस नए ज़िला अध्यक्षों की नियुक्तियां करेगी. इसको लेकर प्रदेश स्तर के जिम्मेदार रणनीति तैयार कर रहे हैं. नामों पर विचार किया जा रहा है.

ज़िला अध्यक्षों की नियुक्तियों के बाद की जाएंगी Political Appointments 

कांग्रेस राजस्थान में जिला अध्यक्षों की नियुक्ति करने के बाद पार्टी की अन्य राजनीतिक नियुक्तियां करेगी. इसके बाद फिर अगले साल राजस्थान कांग्रेस के संगठन में भारी फेरबदल किए जाएंगे. कांग्रेस ने राजस्थान में Membership Drive शुरू की है. 15 दिन में पांच लाख नए लोगों को सदस्यता दिलाई गई है.

कल कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिले थे गोविंद सिंह डोटासरा !

बता दें कि राजस्थान में कांग्रेस पार्टी में चल रही कलह के बीच सचिन पायलट ख़ेमे के पांच लोगों को जगह दी गई है. संगठन में सभी ख़ेमों के लोगों को जगह देकर एक साथ लाने की तैयारी की जा रही है. तीन दिन के प्रशिक्षण शिविर को आयोजित करने पर भी चर्चा की जा रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें