scorecardresearch
 

पायलट बोले: बीजेपी के सारे तेवर को राजस्थान की जनता ने ढीले कर दिए हैं

राज्य की जनता ने बीजेपी के सारे तेवर ढीले कर दिए हैं. केंद्र और राज्य सरकार ने पूरी ताकत लगा दी थी. इसके बाद भी उपचुनाव हार रही है. जबकि पिछले 30-40 सालों राजस्थान का उपचुनाव हमेशा से सत्ताधारी पार्टी जीतती रही है, लेकिन वसंधुरा सरकार में हार हो रही है.

कांग्रेस नेता अशोक गहलोत, सचिन पायलट और पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी कांग्रेस नेता अशोक गहलोत, सचिन पायलट और पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी

राजस्थान के दो लोकसभा और एक विधानसभा सीट पर हुई उपचुनाव के नतीजों पर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने आजतक से खास बातचीत करते हुए कहा कि राज्य की जनता ने बीजेपी के सारे तेवर ढीले कर दिए हैं. केंद्र और राज्य सरकार ने पूरी ताकत लगा दी थी. इसके बाद भी उपचुनाव हार रही है. जबकि पिछले 30-40 सालों राजस्थान का उपचुनाव हमेशा से सत्ताधारी पार्टी जीतती रही है, लेकिन वसंधुरा सरकार में हार हो रही है. राजस्थान की जनता उपचुनाव के जरिए आठ महीने के बाद होने वाले विधानसभा चुनाव का संदेश दे रही है.

उन्होंने कहा कि उपचुनाव के शुरूआती रुझान हमारे पक्ष में आए हैं. जैसे जैसे मतगणना होती जाएगी वैसे वैसे पक्ष हमारी लीड और बढे़गी. पायलट ने कहा कि कांग्रेस राहुल गांधी के नेतृत्व में पार्टी मजबूत थी और रहेगी. हम लोगों को अलग अलग जिम्मेदारी दी गई है. मैं पार्टी का अध्यक्ष हूं, तो निश्चित रूप से हमारी जिम्मेदारी बनती है कि हर चुनाव हम जीते. चाहे वो नगर पालिका हो या फिर लोकसभा का. अब तक के पांच उपचुनाव हुई हैं, उनमें से कांग्रेस ने तीन जीता है.

पायलट ने कहा, 'आज जिन लोकसभा और एक विधानसभा सीट पर मतगणना हो रही है. वो सभी सीटें बीजेपी के पास थी. इसके बावजूद जनता ने वसुंधरा राजे की सरकार के दरकिनार किया है. जबकि पूरी कैबिनेट ने डेरा जमा रखा था.

उन्होंने बीजेपी की केंद्र और राज्य में दोनों जगह सरकार है. ऐसे में दोनों सरकार की हार है. बीजेपी से जनता का मोहभंग हो चुका है. उन्होंने कहा कि बीजेपी के सारे तेवर को जनता ने ढीला कर दिया है. बीजेपी को राज्य की जनता ने घुटने पर ला दिया है. बीजेपी जो अपने आपको चुनाव वीनिंग मशीन कहती थी. जनता से बड़ा कोई नहीं होता है.

पार्टी की गुटबाजी के सवाल पर पायलट ने कहा कि राहुल गांधी के नेतृत्व में हम सब काम कर रहे हैं. पार्टी के सभी नेताओं को अलग-अलग जिम्मेदारी दी गई है. हम  मिलकर चुनाव जीतेंगे. हमारी पहली प्राथमिकता है कि चुनाव जीतने की है. किसे क्या पद मिलता है ये हमारे लिए महत्वपूर्ण नहीं है. पायलट ने कहा कि गहलोत जी बहुत सुलझे और अनुभवी नेता है. वो किसी भी तरह से हमारे खिलाफ नहीं है.

उन्होंने कहा कि जब हमें राजस्थान में पार्टी जिम्मेदारी दी गई थी, तो उस समय कांग्रेस के मात्र 21 MLA थे. हम सब हाशिए पर आ गए थे. उसके बाद हम सब ने मिलकर और एकजुट होकर मेहनत की है. इसी का नतीजा है कि आज हम चुनाव जीत रहे हैं.

पायलट ने कहा कि राजस्थान विधानसभा चुनाव राहुल गांधी के नेतृत्व में लड़ेंगे और जीतेंगे. कांग्रेस में सीएम कौन बनेगा, इसका फैसला विधायक करेंगे. किसे क्या पद मिलेगा इसका परवाह कांग्रेस में किसी नेता को तो नहीं है. बीजेपी के नेताओं में हो तो हो.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें