scorecardresearch
 

राजस्थान के इन गांवों में लड़कियों की शादी पर है बैन, देना पड़ता है 1 लाख का जुर्माना!

राजस्थान के बूंदी (Rajasthan Bundi) जिले के 3 गांवों में पंच पटेलों (Panch patel) का तुगलकी फरमान चल रहा है. यहां इन पंच पटेलों ने कंजर समाज की युवतियों की शादी पर पाबंदी लगा रखी है. इसके चलते युवतियां गलत काम करने को मजबूर हैं.

X
राजस्थान के तीन गांवों में पंच पटेल नहीं होने देते लड़कियों की शादी. (Representative image) राजस्थान के तीन गांवों में पंच पटेल नहीं होने देते लड़कियों की शादी. (Representative image)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बूंदी जिले के 3 गांवों में चल रहा है पंच पटेलों का तुगलकी फरमान 
  • जिस्मफरोशी के लिए मजबूर हैं कंजर समाज की युवतियां

राजस्थान के बूंदी (Rajasthan Bundi) में पंच पटेलों का तुगलकी फरमान चल रहा है. यहां पर यह पंच पटेल 3 गांव में रहने वाली युवतियों की शादी भी नहीं होने देते और कंजर समाज की युवतियों को जिस्मफरोशी के लिए मजबूर करते हैं. पंच पटेल विवाह करने पर लाखों रुपए की पेनाल्टी भी लगा देते हैं. यानी विवाह करने पर लाख रुपए लड़की वालों को देने पड़ते हैं.

इन पंच पटेलों की मनमानी के चलते यहां पर युवतियां चंद रुपयों के लिए वेश्यावृत्ति करती हैं. ऐसी युवतियों को वेश्यावृत्ति के इस दल दल से निकालने के लिए जिला कलेक्टर रेणु जयपाल ने ऑपरेशन अस्मिता चलाया है. इसके तहत अब कंजर समाज की युवतियां अपने प्रेमी के साथ विवाह रचाने लगी हैं. पंच पटेलों पर भी नकेल कसी जा रही है.

यह भी पढ़ेंः 'अपनी मर्जी से शादी की तो लगाया 11 लाख जुर्माना, जीना हुआ मुहाल', पीड़ितों की पुलिस से गुहार

पंच पटेल और इस कुरीति को दूर करने के लिए बूंदी की जिला कलेक्टर रेनू जयपाल ने ऑपरेशन अस्मिता शुरू किया है. इसके तहत अब तक जिस्मफरोशी के लिए मजबूर होने वाली युवतियों ने अपने प्रेमी के साथ विवाह भी किए हैं. बूंदी कलेक्टर रेनू जयपाल ने इन युवतियों के लिए ऑपरेशन अस्मिता चलाते हुए इनके विवाह और घर बसाने और विवाह बंधन में बंधने की शुरुआत कर दी है. बूंदी के 3 गांव दबलाना शंकरपुरा, बूंदी के नजदीक रामनगर और इंदरगढ़ मोहनपुरा में कंजर समाज के लोग निवास करते हैं.

यहां चंद रुपयों में युवतियां अपना जिस्म बेचने को मजबूर होती हैं, क्योंकि पंच पटेलों के सामने इनके परिवार और इनकी एक नहीं चलती है. यहां पर लड़कियां बचपन से ही वेश्यावृत्ति के धंधे में धकेल दी जाती हैं. इस धंधे में इन युवतियों के लिए पाबंदियां भी बहुत होती हैं. अगर कोई शादी करना चाहता है तो पंच पटेल आदेश देते हैं कि पहले 1 लाख रुपए की पेनाल्टी जमा करो, इसके बाद ही शादी कर सकते हैं. इस पाबंदी की वजह से यह शादी भी नहीं कर पातीं.

सामूहिक विवाह की तैयारी कर रहा है प्रशासन

अब ऑपरेशन अस्मिता के तहत इनके विवाह और घर बसाने  की राह आसान हुई है. बूंदी में अब तक 3 से 4 विवाह कंजर बालाओं की उनके प्रेमियों के साथ  जिला प्रशासन की मौजूदगी में शादी कराई गई है, अपना घर भी बसाया है. जिला कलेक्टर ने कहा कि इस अभियान से धीरे-धीरे कुरीति को दूर करने के लिए विवाह पर ज्यादा से ज्यादा ध्यान दिया जाएगा. इसके अलावा सामूहिक विवाह की भी प्रशासन तैयारी कर रहा है. एक-एक विवाह तो होने ही लगे हैं , लेकिन सामूहिक विवाह एक साथ होने से कई युवतियों को इस कुरीति से निकाला जाएगा. वहीं पंच पटेलों पर भी नकेल कसी जाएगी.

रिपोर्ट: भवानी सिंह हाड़ा

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें