scorecardresearch
 

रिहायशी इलाके में तेंदुआ घुसने से हड़कंप, आस-पास के स्कूलों की छुट्टी

वन विभाग के अधिकारी और पुलिसकर्मी तेंदुए की खोज में लगे लेकिन उसे ट्रेंकुलाइज नहीं किया जा सका और वो कहीं छुप गया. जिसके बाद स्कूलों में शुक्रवार की छुट्टी कर दी गई.

तेंदुए की तलाश जारी (प्रतीकात्मक तस्वीर) तेंदुए की तलाश जारी (प्रतीकात्मक तस्वीर)

  • शहर में तेंदुआ घुसने से लोगों में दहशत
  • ट्रेंकुलाइज करने के लिए तलाश जारी

राजस्थान की राजधानी जयपुर की एक पॉश कॉलोनी में तेंदुआ घुसने से अफरा-तफरी मच गई और लोगों में दहशत फैल गई. वन विभाग के अधिकारी और पुलिसकर्मी तेंदुए की खोज में लगे लेकिन उसे ट्रेंकुलाइज नहीं किया जा सका. जिसके बाद स्कूलों में शुक्रवार की छुट्टी कर दी गई.

दरअसल, तेंदुआ गुरुवार शाम के वक्त जयपुर के सवाई मानसिंह स्कूल की कैंटीन के सीसीटीवी कैमरे में कैद हुआ था. जिसके बाद पुलिस प्रशासन और वन विभाग के अधिकारियों ने उसे ट्रेंकुलाइज करने के लिए तलाश की लेकिन वह स्कूल परिसर में ही कहीं छिप गया और देर रात तक नहीं मिला.

तेंदुआ दिखने के बाद आस-पास के स्कूलों में भी शुक्रवार की छुट्टी कर दी गई. तेंदुए के खोजने के लिए ड्रोन कैमरे का भी इस्तेमाल किया गया. पूरे इलाके के लोगों को घर से निकलने से मना कर दिया गया.

वन विभाग के अधिकारियों के अनुसार राजस्थान विश्वविद्यालय और मोती डूंगरी गणेश के मंदिर के पीछे पहाड़ी पर जंगल है. वहां से घूमता हुआ तेंदुआ रिहायशी इलाके में घुस आया है. तेंदुए को पकड़ने के लिए स्कूल परिसर में पिंजरा और ट्रैप कैमरा भी लगाया गया.

जानिए कैसे पकड़ा गया तेंदुआ?

तेंदुआ शुक्रवार को लाल कोठी स्कीम के घर में एक कमरे में घुस गया था. उसके बाद कमरे को बंद करके खिड़की के जरिए वन विभाग के कर्मचारियों ने उसे ट्रेंकुलाइज कर बेहोश किया. उसके बाद उसे पिंजरे में डालकर जयपुर के चिड़ियाघर में ले गए. इससे पहले सुबह के वक्त तेंदुआ करीब 2 किलोमीटर तक हड़कंप मचाता हुआ मोती डूंगरी रोड से लाल कोठी स्कीम पहुंच गया था. इस दौरान उसने एक वन विभाग के कर्मचारी और दो-तीन लोगों को जख्मी भी कर दिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें