scorecardresearch
 

राजस्थानः खत्म होगा गहलोत-पायलट विवाद? CM ने सोनिया पर छोड़ा मंत्रिमंडल विस्तार का फैसला

अशोक गहलोत की सहमति के बाद अब सोनिया गांधी की ओर से इस संबंध में जल्द ही फैसला ले लिया जाएगा और जुलाई महीने में ही मंत्रिमंडल का विस्तार, फेरबदल होने की भी पूरी संभावना है.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (फाइल फोटो) राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • वेणुगोपाल, अजय माकन पहुंचे थे सीएम आवास, देर रात तक चली बैठक
  • दोनों को गहलोत का संदेश- सोनिया गांधी को लेना है फैसला, मुझे मंजूर

पंजाब के बाद कांग्रेस राजस्थान में विवाद खत्म कराने के लिए एक्टिव मोड में आ गई है. सीएम अशोक गहलोत और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट के बीच सियासी खींचतान के समाधान को कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल और राजस्थान प्रभारी अजय माकन जयपुर पहुंचे हैं. वेणुगोपाल और माकन ने शनिवार को मुख्यमंत्री आवास पहुंचकर सीएम गहलोत से मुलाकात की.

सीएम अशोक गहलोत और दोनों नेताओं के बीच मंत्रिमंडल में फेरबदल और विस्तार को लेकर करीब ढाई घंटे तक बैठक चली. इस हाई लेवल मीटिंग के बाद सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि फैसले का अधिकार सोनिया गांधी पर छोड़ दिया है. माना जा रहा है कि अशोक गहलोत की सहमति के बाद अब सोनिया गांधी की ओर से इस संबंध में जल्द ही फैसला ले लिया जाएगा और जुलाई महीने में ही मंत्रिमंडल का विस्तार, फेरबदल होने की भी पूरी संभावना है. 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दोनों नेताओं से स्पष्ट कह दिया कि मंत्रिमंडल फेरबदल और विस्तार का फैसला सोनिया गांधी को करना है. सोनिया गांधी जो फैसला लेंगी, उसके लिए वे तैयार हैं. बैठक में केसी वेणुगोपाल और अजय माकन ने मंत्रिमंडल विस्तार और फेरबदल को लेकर बनाए गए सुलह के फॉर्मूले पर चर्चा की.

इसके अलावा प्रदेश में लंबित बोर्ड, कॉरपोरेशन में नियुक्तियों के मुद्दे पर भी दोनों नेताओं और सीएम गहलोत के बीच चर्चा हुई. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दोनों नेताओं से कहा कि राजनीतिक नियुक्तियों को लेकर जो भीफैसला लिया जाए उसमें पार्टी के वरिष्ठ नेताओं, कांग्रेस के जनप्रतिनिधियों और स्थानीय नेताओं की सहमति होनी जरूरी है.

अगले हफ्ते मेनिफेस्टो कमेटी की बैठक

इस बैठक में घोषणा पत्र के क्रियान्वयन को लेकर भी मंथन हुआ. तीनों नेताओं की सहमति के बाद प्रदेश में अगले सप्ताह एआईसीसी की मेनिफेस्टो कमेटी की बैठक बुलाई गई है. कमेटी के अध्यक्ष ताम्रध्वज साहू अगले हफ्ते जयपुर आएंगे और मेनिफेस्टो कमेटी की बैठक लेंगे.

दरअसल, तय कार्यक्रम के मुताबिक केसी वेणुगोपाल और अजयमाकन का आज दोपहर एक बजे दिल्ली जाने का कार्यक्रम है. ये दोनों नेता दिल्ली जाकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ हुई बैठक का ब्यौरा पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को देंगे. माना जा रहा है कि अब जब अशोक गहलोत की सहमति बन गई है तब इस संबंध में जल्द फैसला ले लिया जाएगा और इस बातकी पूरी संभावना है कि जुलाई महीने में ही मंत्रिमंडल विस्तार हो जाए.

गौरतलब है कि केसी वेणुगोपाल और प्रभारी अजय माकन रात 10 बजे जयपुर पहुंचे थे दोनों नेताओं ने मुख्यमंत्री आवास पर सीएम के साथ डिनर किया. इसके बाद देर रात तक तीनों नेताओं के बीच बैठक चली. केसी वेणुगोपाल और अजय माकन का स्वागत करने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा भी मुख्यमंत्री आवास पहुंचे थे लेकिन बैठक शुरू होने से पहले डोटासरा सीएम आवास से रवाना हो गए. केसी वेणुगोपाल और अजय माकन आज पीसीसी में पार्टी के पदाधिकारियों और विधायकों से मुलाकात करेंगे. दोनों नेता पीसीसी अध्यक्ष के साथ जिलाध्यक्षों की नियुक्तियों को लेकर भी बैठक करने वाले हैं.

सरकार-संगठन के कामकाज को लेकर लेंगे फीडबैक

प्रदेश कांग्रेस कमेटी में पार्टी के पदाधिकारी और विधायक वरिष्ठ नेताओं वेणुगोपाल और माकन का स्वागत करेंगे. अजय माकन और वेणुगोपाल सरकार और संगठन के कामकाज को लेकर पदाधिकारियों से फीडबैक भी लेंगे. प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सचिन पायलट और उनके खेमे के विधायकों के भी पीसीसी पहुंचने की संभावना है. इससे पहले कल रात पीसीसी में बुलाई गई बैठक को लेकर गफलत की स्थिति बन गई थी. दरअसल, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने विधायकों को फोन कर जयपुर में मौजूद विधायकों से पीसीसी आने के लिए कहा था.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें