scorecardresearch
 

परिवार में ना फैले कोरोना, दहशत में 108 एंबुलेंस ड्राइवर ने की आत्महत्या!

दिनेश गौड़, जो सीएमएचओ के अधीन अनुबंध पर लगी निजी एंबुलेंस का चालक था, सोमवार को उसने कोरोना की जांच के लिये सैंपल दिया था और उसे कोरोना पॉजिटिव होने का अंदेशा था. कोरोना संक्रमण घर के अन्य सदस्यों में नहीं फैले संभवतया इसी डर से दिनेश ने आत्महत्या कर ली.

झील में तैरता मिला शव झील में तैरता मिला शव

  • कोरोना पॉजिटिव होने की थी आशंका
  • परिवार में ना फैले इस डर से की आत्महत्या

राजस्थान के जोधपुर में दो दिन से गायब एंबुलेंस ड्राइवर का शव बुधवार सुबह कायलाना झील में तैरता मिला. आत्महत्या करने वाले शख्स का नाम दिनेश है, जिसने हाल ही में अनुबंध पर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग में 108 एंबुलेंस ड्राइवर के तौर पर नौकरी ज्वाइन की थी. बुधवार सुबह जैसे ही झील में दिनेश का शव दिखा, लोगों ने पुलिस को फोन कर इस बात की सूचना दी. जिसके बाद राजीव गांधी नगर थाना पुलिस मौके पर पहुंची और सिविल डिफेंस की मदद से शव को पानी से बाहर निकाला.

पुलिस के मुताबिक मृतक का नाम दिनेश गौड़ है जो देसुरिया विश्नोइयां, पुलिस थाना कड़वड़ का रहने वाला है. ये सोमवार से ही गायब था. इस संबंध में रातानाडा थाने में गुमशुदगी का केस भी दर्ज कराया गया था. मृतक दिनेश गौड़, सीएमएचओ के अधीन कोविड-19 में अनुबंध पर लगी गाड़ी का चालक था. फिलहाल पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर मामले की जांच शुरू कर दी है.

पुलिस के मुताबिक परिजनों ने संदेह जाहिर किया है कि दिनेश गौड़, जो सीएमएचओ के अधीन अनुबंध पर लगी निजी एंबुलेंस का चालक था, सोमवार को उसने कोरोना की जांच के लिये सैंपल दिया था और उसे कोरोना पॉजिटिव होने का अंदेशा था. कोरोना संक्रमण घर के अन्य सदस्यों में नहीं फैले संभवतया इसी डर से दिनेश ने आत्महत्या कर ली.

हाफ सेंचुरी से एक कदम दूर सोना, जानें- कितने दिन में रेट हो गया डबल

फिलहाल पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर अस्पताल की मोर्चरी में रखवया है और मामले की जांच में जुटी गई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें