scorecardresearch
 

कैप्टन अमरिंदर से सियासी लड़ाई में हार गए नवजोत सिंह सिद्धू, देना पड़ा मंत्री पद से इस्तीफा

नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर लोकसभा चुनाव में अमृतसर से टिकट चाहती थीं,  माना जाता है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ऐसा होने नहीं दिया. सिद्धू दंपत्ति ने इसके लिए कैप्टन पर आरोप लगाया. इसके बाद सिद्धू  नेबठिंडा और गुरुदासपुर छोड़कर पंजाब में प्रचार ही नहीं किया.

पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू (पीटीआई फाइल फोटो) पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू (पीटीआई फाइल फोटो)

पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू का इस्तीफा सियासत के दो दिग्गजों की लड़ाई का नतीजा है. राजनीतिक रस्साकस्सी की इस लड़ाई में एक छोर पर थे पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह तो दूसरे छोर पर थे नवजोत सिंह सिद्धू. सिद्धू जुलाई 2016 में बीजेपी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए थे. तीन साल बाद जुलाई 2019 में उन्होंने मंत्री पद से अपना इस्तीफा सार्वजनिक किया. इस बीच कैप्टन की अगुवाई में कांग्रेस ने पंजाब में सरकार बनाई और सिद्धू शहरी विकास मंत्री बने, बावजूद दोनों कद्दावर नेताओं के बीच रिश्ते तनावपूर्ण रहे. पिछले एक साल में इसमें और भी तल्खी देखी गई. इसके पीछे वजह रही राजनीतिक महात्वाकांक्षा. कैप्टन अमरिंदर सिंह ने खुद कहा था कि सिद्धू को सीएम का पद चाहिए.

बाजवा को गला लगाकर निशाने पर आए थे सिद्धू

अगस्त 2018 में नवजोत सिंह सिद्धू कैप्टन अमरिंदर के निशाने पर तब आए थे जब उन्हें पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के शपथग्रहण में शामिल होने का न्योता मिला था. इस्लामाबाद पहुंचे सिद्धू ने इस कार्यक्रम में पाकिस्तान के आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा को गले लगाया था. सिद्धू के इस कदम के लिए बीजेपी ने तो उनकी कड़ी आलोचना की ही, कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी उन्हें खरी-खोटी सुनाई, कैप्टन ने कहा था कि सिद्धू भारतीय सेना के जवानों के बलिदान को भूल गए.

'मेरे कैप्टन तो राहुल गांधी हैं'

दिसंबर 2018 में नवजोत सिंह सिद्धू करतारपुर कॉरिडोर के आधारशिला कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे इस दौरान वे खालिस्तान समर्थक गोपाल चावला के साथ दिखे. माना जाता है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह सिद्धू के इस कार्यक्रम में जाने से नाखुश थे. कैप्टन ने इस कार्यक्रम में शामिल होने का न्यौता भी अस्वीकार कर दिया था. जब सिद्धू से पत्रकारों ने कैप्टन की नाराजगी के बारे में सवाल पूछा तो उन्होंने दो टूक कहा था, "आप किस कैप्टन की बात कर रहे हैं...ओह...कैप्टन अमरिंदर सिंह. वे आर्मी कैप्टन हैं. मेरे कैप्टन राहुल गांधी हैं. कैप्टन के कैप्टन भी राहुल गांधी हैं...जहां जरूरत लगी, उन्होंने मुझे भेजा."

पत्नी को टिकट न मिलने के लिए कैप्टन पर हमला

सिद्धू और कैप्टन के बीच सियासी दांवपेच तो लंबे समय से चला आ रहा था, लेकिन लोकसभा चुनाव के दौरान सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर को अमृतसर से टिकट न मिलने पर वे खासे नाराज हुए थे. सिद्धू की पत्नी अमृतसर से टिकट चाहती थीं, माना जाता है कैप्टन ने इस पर अड़ंगा लगा दिया. सिद्धू दंपत्ति ने इसके लिए कैप्टन पर आरोप लगाया. इसके बाद सिद्धू बठिंडा और गुरुदासपुर छोड़कर पंजाब में प्रचार ही नहीं किया. नवजोत सिंह सिद्धू अमृतसर पूर्व से विधायक हैं.

सिद्धू पर खराब प्रदर्शन की जिम्मेदारी

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने पंजाब में 8 सीटों पर जीत हासिल की थी. राज्य में लोकसभा की 13 सीटें हैं. चुनाव नतीजों पर प्रतिक्रिया देते हुए कैप्टन ने कहा था कि सिद्धू कांग्रेस की रीढ़ रहे शहरी वोट बैंक को वोटों में ट्रांसफर करने में नाकाम रहे. कैप्टन ने कहा कि नवजोत सिंह अपने कार्यकाल में विकास कार्य करने में फेल रहे और इसका नतीजा कांग्रेस को भुगतना पड़ा.

'मेरी जिम्मेदारी पंजाब की जनता के प्रति'

आम चुनाव में खराब प्रदर्शन के लिए कैप्टन अमरिंदर ने जब सिद्धू पर ठीकरा फोड़ा तो नवजोत सिंह बिफर पड़े. उन्होंने कहा कि पार्टी के प्रदर्शन की जिम्मेदारी सामूहिक होनी चाहिए, लेकिन उन्होंने निशाना बनाया जा रहा है, सिद्धू ने कहा था कि उन्हें हल्के में नहीं लिया जा सकता है. उन्होंने कहा कि वे परफॉर्म करने वाले नेता रहे हैं और उनकी जिम्मेदारी सिर्फ पंजाब की जनता के प्रति है.

कैबिनेट फेरबदल में सिद्धू दरकिनार

पंजाब के दोनों दिग्गजों की ये लड़ाई 6 जून को आखिरकार क्लाइमैक्स पर तब पहुंच गई जब कैबिनेट फेरबदल में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सिद्धू से शहरी विकास मंत्रालय छीन लिया गया. पंजाब की राजनीति में इस मंत्रालय को अहम माना जाता है. कैप्टन ने सिद्धू को ऊर्जा मंत्रालय सौंपा. इसके बाद सिद्धू ने कैबिनेट की बैठकों का बहिष्कार कर दिया, न तो वे  किसी मीटिंग में पहुंचे और न ही ऊर्जा मंत्रालय का चार्ज लिया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें