scorecardresearch
 

पूर्वांचल के वोटरों का बदलता रहा मिजाज, 2017 में ऐसे बना BJP का मजबूत गढ़

पूर्वांचल के वोटरों का बदलता रहा मिजाज, 2017 में ऐसे बना BJP का मजबूत गढ़

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन से पहले सियासी संग्राम छिड़ गया है. कल बीजेपी पूर्वांचल एक्सप्रेस की सौगात उत्तर प्रदेश को देगी लेकिन उससे पहले अखिलेश यादव ने पूर्वांचल एक्सप्रेस को लेकर नया दावा कर दिया है. आखिर पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे को लेकर क्यों तेरा-मेरा शुरू हो गया है. इधर बीजेपी तैयार है तो उधर अखिलेश यादव भी पूर्वांचल पर चुनावी रथ दौड़ने का एलान कर चुके हैं. जिस पूर्वांचल एक्सप्रेसवे पर पार्टीलाइन से ऊपर उठकर सबको नाज होना चाहिए था, उस पर सियासी घमासान शुरू हो चुका है. पूर्व सीएम अखिलेश यादव इसे समाजवादी पार्टी की देन बताकर बीजेपी का निशाना साध रहे हैं. उधर, यूपी के सीएम का दावा है कि पीएम मोदी से पहले किसी ने पूर्वी उत्तर प्रदेश के विकास की सुध ली ही नहीं. पूर्वांचल के वोटरों का मिजाज हर चुनाव में बदलता रहा है, हालांकि 2017 में पूर्वांचल बीजेपी का मजबूत गढ़ बनकर उभरा था. देखें ये वीडियो.

A political struggle broke out before the inauguration of the Purvanchal Expressway. This is the same area that was once a stronghold of the Samajwadi Party and BSP. But since 2014, BJP has strengthened its organization in this entire area. Former CM Akhilesh Yadav is targeting BJP by calling it a gift of the Samajwadi Party. On the other hand, the CM of UP claims that before PM Modi, no one took care of the development of eastern Uttar Pradesh. The mood of the voters of Purvanchal has been changing in every election, although in 2017 Purvanchal had emerged as a strong stronghold of BJP. Watch this video.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें