scorecardresearch
 

कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर राष्ट्रवाद के नाम पर वोट बटोरने का लगाया आरोप, दिया ये तर्क

रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि एक तरफ तो स्वांग रच प्रधानमंत्री मोदी जी सेना के लिए दिया जलाने की बात करते हैं और दूसरी तरफ साहसी और बहादुर सैन्य अफसरों के जीवन में उनकी पेंशन काट अंधेरा फैलाने का दुस्साहस कर रहे हैं.

X
सुरजेवाला ने मोदी सरकार पर लगाए गंभीर आरोप (फाइल फोटो) सुरजेवाला ने मोदी सरकार पर लगाए गंभीर आरोप (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सैन्य अफसरो की पेंशन योजना को लेकर निशाना
  • 'पेंशन काटकर, अंधेरा फैलाने का दुस्साहस कर रहे'
  • सुरजेवाला बोले, यही बीजेपी का झूठा राष्ट्रवाद है

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सैन्य अफसरों की पेंशन योजना में होने वाले बदलाव को लेकर मोदी सरकार पर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि शहीद सैनिकों की वीरता और राष्ट्रवाद के नाम पर वोट बटोरने वाली मोदी सरकार देश के इतिहास की पहली सरकार बनने जा रही है, जो सीमा पर रोजाना अपनी जान की बाजी लगाने वाले सैन्य अफसरो की पेंशन काटने व ‘सक्रिय सेवा’ के बाद उनके दूसरे करियर विकल्प पर डाका डालने की तैयारी में है. 

उन्होंने कहा कि एक तरफ तो स्वांग रच प्रधानमंत्री मोदी जी सेना के लिए दिया जलाने की बात करते हैं और दूसरी तरफ साहसी और बहादुर सैन्य अफसरों के जीवन में उनकी पेंशन काट अंधेरा फैलाने का दुस्साहस कर रहे हैं. यही बीजेपी का झूठा राष्ट्रवाद है. 

उन्होंने अपना बयान जारी करते हुए बिंदुवार कई मुद्दे उठाए हैं. 

- सेना में भर्ती यानी ‘सैन्य कमीशन’ के समय ‘इंडियन मिलिटरी एकेडमी’ में हर अधिकारी से 20 साल का अनिवार्य सर्विस बॉन्ड भरवाया जाता है. 20 साल की सेवा के बाद सैन्य अफसर 'Last Drawn Salary' यानी 20 साल की सेवा पूरी होने पर जो मूल तनख्वाह मिल रही हो, उसकी 50 प्रतिशत पेंशन पाने के हकदार हैं. परंतु मोदी सरकार का ताजा सेना विरोधी प्रस्ताव उस 50 प्रतिशत पेंशन को भी आधी कर देने का है. 

उदाहरण के तौर पर यदि 20 साल की सेवा के बाद किसी सैन्य अधिकारी को आखिरी मूल तनख्वाह 1,00,000 रु. प्रति माह थी, तो पिछले 73 वर्षों से उसकी पेंशन 50,000 रु. प्रति माह मिलनी सुनिश्चित है, यानी आखिरी मूल तनख्वाह का 50 प्रतिशत. पर मोदी सरकार का नया प्रस्ताव अब सैन्य अधिकारी की पेंशन 50,000 रु. प्रतिमाह से घटाकर 25,000रु. प्रतिमाह कर देगा. अपनी जान की बाजी लगाकर देश की सेवा करने वाले अधिकारियों की आधी पेंशन काटने की ऐसी निर्मम और निर्दयी प्रस्तावना केवल सेना विरोधी मोदी सरकार ही कर सकती है. 

देखें: आजतक LIVE TV

- सेना में भर्ती हुए 100 अफसरों में से औसतन 65 प्रतिशत सैन्य अफसर लेफ्टिनेंट कर्नल के पद तक ही सीमित रह जाते हैं. केवल 35 प्रतिशत अधिकारी ही कर्नल या उससे ऊपर के पदों पर जा पाते हैं. ऐसे में 20 साल सेवा देने के बाद वो सैन्य अधिकारी पूरी पेंशन के साथ जिंदगी में एक दूसरा करियर विकल्प तलाश कर लेते हैं और प्रभावी तरीके से राष्ट्र निर्माण में अपना योगदान देते हैं. 

सेना को इसका सीधा फायदा यह है कि फौज सदा युवा बनी रहती है, जिसे मिलिटरी की भाषा में 'Lean & Mean Fighting Force' कहा जाता है. अगर मोदी सरकार की प्रस्तावना लागू हो जाएगी, तो सदा के लिए 65 प्रतिशत सैन्य अफसरों का दूसरा करियर विकल्प भी खत्म हो जाएगा और सेना से बाहर सिविलियन क्षेत्र में राष्ट्र निर्माण में उनका रचनात्मक सहयोग भी.

- मोदी सरकार की नई प्रस्तावना के मुताबिक केवल उस सैन्य अफसर को पूरी पेंशन मिलेगी, जिसने 35 साल से अधिक सेना की सेवा में बिताए हों. परंतु सेना के 90 प्रतिशत अफसर तो 35 साल की सेवा से पहले ही रिटायर हो जाते हैं. ऐसे में मोदी सरकार 90 प्रतिशत सेना के अफसरों को पूरी पेंशन से वंचित करने का षडयंत्र कर रही है.  

- सैन्य अफसरों की सेवाओं की शर्तों को भी 'Back Date' से संशोधित नहीं किया जा सकता. जब सेना में भर्ती होते हुए 20 साल की अनिवार्य सेवा और 20 साल के बाद फुल पेंशन पर रिटायरमेंट की शर्त रखी गई है, तो आज मोदी सरकार उन सारी सेवा शर्तों को कैसे संशोधित कर सकती है? इससे सैन्य अधिकारियों का मनोबल टूटेगा.

- भारत की तीनों सेनाओं में पहले से ही 9,427 अफसरों की कमी है. जून, 2019 के आंकड़े बताते हैं कि थल सेना में 7,399, नौसेना में 1,545 और वायु सेना में 483 अफसर कम हैं. मोदी सरकार की सेना का मनोबल तोड़ने वाली इस प्रस्तावना से देश के युवाओं का सेना में भर्ती होने के प्रति आकर्षण घटेगा तथा आखिर में देश का नुकसान होगा. 

कांग्रेस प्रवक्ता ने मोदी सरकार पर लगातार सेना विरोधी कार्य करने का आरोप लगाते हुए कुछ अहम आरोप लगाए हैं. 

1. मोदी सरकार ने आज तक ‘वन रैंक, वन पेंशन’ (OROP) लागू नहीं की.
2. मोदी सरकार ने सेना की ‘नॉन फंक्शनल यूटिलिटी बेनेफिट स्कीम’ खत्म कर दी, जिसे कांग्रेस की सरकार ने लागू किया था ताकि ऑटोमैटिक टाईम बाउंड पे प्रमोशन हो सके.
3. यहां तक कि मोदी सरकार ने सेना की कैंटीन (CSD) से सैनिकों द्वारा इस्तेमाल के लिए खरीदे जाने वाले सामान की मात्रा पर भी सीमा लगा दी. चार साल अदालती मुकदमों के बाद ही यह निर्णय वापस हो पाया.  
4. मोदी सरकार ने सियाचिन और लद्दाख में सैनिकों के लिए खरीदे जाने वाले सर्दी के इक्विपमेंट, जूते, बुलेटप्रूफ जैकेट की खरीद में भयंकर देरी की. 
5. मोदी सरकार ने ‘डिसएबिलिटी पेंशन’ पाने वाले सेना के अधिकारियों तथा सैनिकों पर टैक्स लगा दिया.
6. मोदी सरकार ने 'Short Service Commission' पर देश सेवा करने वाले अधिकारियों और सैनिकों की मेडिकल सुविधा खत्म कर दी।
7. यहां तक कि 70,000 सैनिकों वाली माउंटेन कोर का गठन भी मोदी सरकार ने पैसे की कमी बताकर खारिज कर दिया. इनकी तैनाती चीन की सीमा पर की जानी थी.  

रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि सेना पर मोदी सरकार के ताजे हमले की इस प्रस्तावना ने झूठे राष्ट्रवादियों का सेना विरोधी चेहरा उजागर कर दिया है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें