scorecardresearch
 

बीजेपी को हराना है तो कार्यकर्ताओं और नागरिकों की आकांक्षाओं को समझे कांग्रेस: कपिल सिब्बल

कपिल सिब्बल ने कहा कि हम कांग्रेस को मजबूत करना चाहते हैं. भारत के लोग बीजेपी को नहीं चाहते, वे एक प्रभावी विकल्प चाहते हैं और हम उन्हें वह विकल्प देना चाहते हैं.

X
कपिल सिब्बल (फाइल फोटोः पीटीआई) कपिल सिब्बल (फाइल फोटोः पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • गांधी के लिए था डिनर का निमंत्रण- कपिल सिब्बल
  • कहा- बीजेपी को रोकना मेरा सपना, करूंगा पूरा

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने अपने जन्मदिन के अवसर पर विपक्षी दलों के नेताओं को डिनर पर बुलाया. सिब्बल के डिनर से गांधी परिवार नदारद था तो वहीं कांग्रेस के जी-23 समूह के नेता भी मौजूद थे. कपिल सिब्बल ने डिनर के एक दिन बाद इंडिया टुडे टीवी के कंसल्टिंग एडिटर राजदीप सरदेसाईं से बात करते हुए एक सवाल के जवाब में कहा कि इसका गांधी परिवार से कोई लेना-देना नहीं है. जनता हमसे सवाल पूछ रही है कि हम बीजेपी विरोधी हैं लेकिन विकल्प क्या है? मैं बस बातचीत को शुरू करना चाहता था. एक बहुजन समाज पार्टी को छोड़कर हर राजनीतिक दल की मौजूदगी थी.

कपिल सिब्बल ने कहा कि अब समय आ गया है जब विपक्षी दलों को एक-दूसरे से बात करने की जरूरत है. हम कांग्रेसी हैं, इस बातचीत में कांग्रेस को बाहर नहीं किया गया है. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी विपक्ष को एकजुट करने के लिए पहल कर रहे हैं. राहुल गांधी ठीक वही कर रहे हैं जो उन्हें बेस्ट लगता है. हम उनका हर संभव तरीके से समर्थन करते हैं. सिब्बल ने कहा कि हमारे अन्य राजनीतिक दलों के साथ भी संबंध हैं और हम उनके साथ गठबंधन भी कर सकते हैं. सिब्बल ने कांग्रेस की दुर्दशा और कार्यकर्ताओं की निराशा पर भी बात की.

उन्होंने कहा कि पार्टी में संवादहीनता है. कार्यकर्ताओं से बात नहीं की जा रही जिससे उनमें निराशा है. मेरी ही पार्टी के नेतृत्व से 2019 से बात नहीं हुई है. आज हम 2021 में हैं. संवादहीनता को सिब्बल ने बड़ी खामी बताया. उन्होंने कहा कि उमर अब्दुल्ला ने विपक्ष को एक साथ लाने की कोशिश को अच्छा बताते हुए ये कहा कि जब तक कांग्रेस को 120 सीटें नहीं मिलतीं, हम बीजेपी का विकल्प नहीं बन पाएंगे. कपिल सिब्बल ने कहा कि हम कांग्रेस को मजबूत करना चाहते हैं. भारत के लोग बीजेपी को नहीं चाहते, वे एक प्रभावी विकल्प चाहते हैं और हम उन्हें वह विकल्प देना चाहते हैं.

सरकार पर बरसे कपिल सिब्बल

कपिल सिब्बल ने कहा कि व्यवस्था में बहुत सारे अंतर्विरोध हैं जिन्हें हमें एक मंच पर आने के लिए हल करना होगा. जहां तीन-चार दलों के हित की बात हो, वहां हमें पहले उन क्षेत्रों को चिह्नित करना होता है जहां उनके बीच कोई संघर्ष न हो. कपिल सिब्बल केंद्र सरकार पर भी बरसे और कहा कि इस सरकार ने वह सब नष्ट कर दिया जिसपर लोकतंत्र खड़ा था. उन्होंने जंतर मंतर पर एक समुदाय विशेष के खिलाफ नारेबाजी का भी जिक्र किया और कहा कि सभी संस्थाएं सरकार ने नष्ट कर दी हैं. डिनर में इसी को लेकर चर्चा हुई. यह सरकार जिन नीतियों पर चल रही है, क्या उनका विरोध करने का मैं हकदार नहीं हूं? क्या ये कहने का हकदार नहीं हूं कि पेट्रोल, डीजल और दूध के दाम कहां पहुंच गए?

नहीं पैदा होंगे ममता-येचुरी जैसे विरोधाभास

कपिल सिब्बल ने कहा कि जब हम बातचीत शुरू करते हैं तो आने वाले कल को देख रहे होते हैं, गुजरे हुए कल को नहीं. इसपर सभी दलों ने सहमति भी जताई. उन्होंने कहा कि भारत के ताने-बाने को नष्ट करने वाली सरकार को हराने के लिए एकबार हम मिलकर काम करना तय कर लेंगे तो फिर सीताराम येचुरी और ममता बनर्जी जैसे विरोधाभास सामने नहीं आएंगे. कपिल सिब्बल ने बताया कि डिनर के दौरान 2024 के लोकसभा चुनाव के साथ ही 2022 के यूपी चुनाव पर भी चर्चा हुई. सभी दलों ने कहा कि यूपी में बीजेपी को हराने के लिए सबसे मजबूत कौन सा दल है. फिर जो सबसे मजबूत दल होगा हम उसके साथ गठबंधन करें क्योंकि कांग्रेस वहां बहुमत पाने की उम्मीद नहीं कर सकती.

कपिल सिब्बल ने बताया रोडमैप

कपिल सिब्बल ने एक सवाल के जवाब में कहा कि बिना रोडमैप के कोई बातचीत शुरू नहीं हो सकती. रोडमैप बताते हुए उन्होंने कहा कि लोगों के विचार प्राप्त करें, रुचि की समानता का पता लगाएं, आगे बढ़ें और यदि किसी भी तरह का विरोधाभास हो तो उसे हल करने का प्रयास करें. रोडमैप विपक्षी दलों के एकसाथ आने का है, 2024 में बीजेपी को हराने का है. सिब्बल ने दुख व्यक्त करते हुए यह भी कहा कि 125 साल की विरासत वाली कांग्रेस के पास पिछले दो साल से कोई अध्यक्ष नहीं है. बिना अध्यक्ष के कोई राजनीतिक दल कैसे आगे बढ़ सकता है. पार्टी का एक अध्यक्ष होना चाहिए. हमारे पास अंशकालिक अध्यक्ष भी नहीं है. सोनिया गांधी अंतरिम अध्यक्ष हैं. उन्होंने साथ ही यह भी साफ किया कि हम कांग्रेस पार्टी के लिए बल्लेबाजी कर रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे.

नागरिकों की आकांक्षा को समझना होगा

कपिल सिब्बल ने कहा कि सबसे पहले कांग्रेस कार्यकर्ता और देश के नागरिकों की आकांक्षा को समझना होगा कि वे कल के लिए क्या चाहते हैं. हमें चुनाव वाले राज्यों में लोगों की मांग पर चर्चा करने और ये बताने की जरूरत है कि हम उस आकांक्षा को हासिल करने में कैसे मदद कर सकते हैं. राज्यों में बीजेपी की सरकार क्या कर रही है, इसका पर्दाफाश करने की भी जरूरत है. उन्होंने कहा कि हम बातचीत के जरिए पुल बनाने की कोशिश कर रहे हैं. राहुल गांधी भी यही कर रहे हैं. हमारी कोशिशें उनके खिलाफ नहीं हैं. सिब्बल ने पूर्णकालिक अध्यक्ष मिलने की उम्मीद जताई और कहा कि हमने 2004 और 2009 में बिना किसी चेहरे के चुनाव जीता था. 2024 के चुनाव में अभी तीन साल का समय है. 

बीजेपी को रोकना है मेरा सपना

कपिल सिब्बल ने कहा कि मेरा सपना बीजेपी को रोकना है जो हर एक चीज नष्ट करने की कोशिश कर रही है जिसके लिए हम जीते हैं. इसे साकार करूंगा. उन्होंने ये विश्वास भी व्यक्त किया कि मेरे जैसे सपने देखने वाले और भी हैं. भारत को भविष्य के लिए जीना है. कपिल सिब्बल ने कहा कि भारत को दुनिया में सबसे सशक्त, पारदर्शी लोकतंत्र का उदाहरण बनना चाहिए जहां लोग मायने रखते हैं, सरकारें नहीं. उन्होंने कांग्रेस के फिर से मजबूत होकर उभरने की उम्मीद जताई और ये विश्वास व्यक्त किया कि समान विचारधारा वाले सभी लोग हमारे साथ आएंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें