scorecardresearch
 

अगर अमित शाह संसद आ जाएं, तो मैं अपना सिर मुंडवा लूंगा: TMC सांसद डेरेक ओ ब्रायन का चैलेंज

इंडिया टुडे टीवी के कंसल्टिंग एडिटर राजदीप सरदेसाई के साथ खास इंटरव्यू में डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि विपक्ष कृषि कानूनों, अर्थव्यवस्था, रोजगार, महंगाई और पेगासस मामले पर चर्चा चाहता है. इसी दौरान उन्होंने अमित शाह को चैलेंज भी कर दिया.

 टीएमसी से राज्यसभा सांसद डेरेक ओ ब्रायन (फाइल फोटो) टीएमसी से राज्यसभा सांसद डेरेक ओ ब्रायन (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पेगासस पर भाग रहे अमित शाह- TMC सांसद
  • ब्रायन ने कहा- संंसद में चर्चा चाहता है विपक्ष

टीएमसी से राज्यसभा सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर पेगासस जासूसी मामले से भागने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा, अगर अमित शाह कल संसद आकर दिल्ली रेप केस पर बयान देते हैं तो वे अपना सिर मुंडवा लेंगे.

इंडिया टुडे टीवी के कंसल्टिंग एडिटर राजदीप सरदेसाई के साथ खास इंटरव्यू में डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि विपक्ष कृषि कानूनों, अर्थव्यवस्था, रोजगार, महंगाई और पेगासस मामले पर चर्चा चाहता है. इसी दौरान उन्होंने अमित शाह को चैलेंज भी कर दिया. 

जब डेरेक ओ ब्रायन से पूछा गया कि राहुल गांधी साइकिल से संसद जा रहे हैं, आप पेगासस पोस्टर लेकर आ रहे हैं, क्या आपको नहीं लगता कि विपक्ष को वास्तविक मुद्दों पर सरकार को घेरने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए? इस पर उन्होंने कहा, विपक्ष का रुख एकदम साफ है. 15-16 विपक्षी पार्टियां संसद में चर्चा चाहती हैं. ये चर्चाएं तीन विषयों पर हों. कृषि कानूनों पर चर्चा हो, इन्हें रद्द किया जाए. अर्थव्यवस्था, नौकरी, महंगाई पर चर्चा हो. राष्ट्रीय सुरक्षा (पेगासस मुद्दे) पर चर्चा हो. सबसे पहले पेगासस पर चर्चा की जानी चाहिए.

सवाल- आप ये कैसे तय कर सकते हैं कि चर्चा का ऑर्डर क्या होगा, यह स्पीकर का काम है. देश को कोरोना, अर्थव्यवस्था और स्नूपगेट पर बहस की जरूरत है. इन मुद्दों पर बिना किसी बहस के आप सरकार को यह कहने की अनुमति दे रहे हैं विपक्ष संसद नहीं चलने दे रहा?
 
टीएमसी सांसद ने कहा, यह गलत है. हमने कोरोना पर राज्यसभा में पहले भी चर्चा की है. इसके बाद कॉन्फ्रेंस रूम में एक प्रेजेंटेशन हुई थी. यह संसद है. आपको संसद के नियमों को मानना होगा. उन्होंने पूछा कि भाजपा का कोई प्रवक्ता बता दे कि 2016 से पीएम मोदी ने कितने सवालों का संसद में उत्तर दिया. कुछ भी नहीं. आप संसद में अपने नियम बनाना चाहते हैं. विपक्ष चर्चा चाहता है. 

ब्रायन ने कहा, मैं देश के हर युवा को बताना चाहता हू्ं मोदी का मास्टर स्टोक. संसद में 12 बिल 7 मिनट के औसत में पास हुए. गुजरात मॉडल का मतलब है कि वे दिल्ली में पापड़ी चाट बना रहे हैं. ये गंभीर कानून हैं. दोनों सदनों में भाजपा के पास बहुमत है, मैं मानता हूं. लेकिन विपक्ष को अपनी बात रखनी चाहिए. सरकार के पास अपना रास्ता होना चाहिए. लेकिन मोदी और शाह इसे नहीं समझते.

सवाल : राहुल गांधी ने विपक्ष को नाश्ते पर बुलाया, टीएमसी इसमें शामिल हुई, क्या टीएमसी कांग्रेस के एजेंडे में जाने के लिए तैयार है?

हमें साइकिल रैली का विचार पसंद आया. 14-15 विपक्षी पार्टियों ने इसमें हिस्सा लिया. यह अच्छा था. हमने यह 19 जुलाई को भी किया था. लेकिन उस पर चर्चा नहीं हुई. आप ये सब सवाल विपक्ष से क्यों पूछ रहे हैं. आप ये सवाल मोदी- शाह से पूछिए. क्या उन्होंने अर्थव्यवस्था, जॉब और चीन बॉर्डर विवाद पर कुछ जवाब दिया.

ब्रायन ने कहा, हम बंगाल में क्यों जीते? क्योंकि ममता बनर्जी ने सिर्फ दो बातें कहीं. उन्होंने कहा, मेरा 10 साल का ट्रेक रिकॉर्ड देखिए और ये देखिए कि कैसे टूरिस्ट गैंग यहां आ रही है और उन्होंने पिछले 7 साल में क्या दिया? आप हमारे नाश्ते के बारे में क्यों पूछ रहे हो? वैसे मैं पापड़ी चाट खा रहा हूं.

सवाल- अगर अमित शाह संसद में आते हैं तो क्या आप उन्हें बोलने देंगे?

टीएमसी सांसद ने कहा, मैं लापता व्यक्तियों का नोटिस लगा रहा हूं. हमें यह करना चाहिए, यदि हम एक जिम्मेदार विपक्ष हैं, तो हमें गुमशुदा व्यक्तियों का नोटिस लगाना चाहिए. मैंने गृह मंत्री अमित शाह को संसद में नहीं देखा. मैंने पीएम मोदी को संसद में नहीं देखा. उनके चहेते अफसर, जिन्हें दिल्ली पुलिस कमिश्नर बनाया गया है, नौ साल की दलित लड़की के साथ दिल्ली में सामूहिक बलात्कार किया गया, क्या गृह मंत्री को आकर सवालों का जवाब नहीं देना चाहिए?

ब्रायन ने कहा, अगर अमित शाह कल राज्यसभा या लोकसभा आते हैं और दिल्ली में 9 साल की दलित लड़की के साथ रेप के मामले में अपना बयान रखते हैं. तो मैं आपको कार्यक्रम में अपना सिर मुंडवा लूंगा. मैं अमित शाह को चुनौती देता हूं, क्योंकि वे पेगासस मामले में भाग रहे हैं.

पीएम की नाराजगी के बावजूद चाट पापड़ी खाते दिखे ब्रायन

डेरेक ओ ब्रायन मंगलवार को चाट पापड़ी खाते दिखे. दरअसल, तृणमूल कांग्रेस सांसद द्वारा एक दिन पहले दिए बयान पर पीएम मोदी ने नाराजगी जाहिर की थी. ब्रायन ने ट्वीट किया था कि सरकार संसद में विधेयक ऐसे पारित करा रही है मानों पापड़ी-चाट बना रही हो. इस बयान पर पीएम मोदी ने प्रतिक्रिया दी थी. केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने जानकारी दी थी कि पीएम ने ब्रायन के इस बयान को उन लोगों का अपमान बताया था, जो सांसदों को चुनकर संसद भेजते हैं. उन्होंने कहा था कि विपक्ष संसद नहीं चलने दे रहा. यह संसद संविधान, लोकतंत्र और देश की जनता का अपमान है. 
 

ये भी पढ़ें:

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें