scorecardresearch
 

TRS को समर्थन के सवाल पर ओवैसी बोले- मुझे भारत की राजनीति की लैला बना दिया, मजनूं मंडरा रहे

असदुद्दीन ओवैसी आजतक के शो टक्कर में शिरकत कर रहे थे. इस दौरान उनसे सवाल किया गया कि अब मेयर का चुनाव होना है. उसमें टीआरएस को आपकी जरूरत पड़ेगी. क्या आप समर्थन देंगे.

असदुद्दीन ओवैसी (फोटो- PTI) असदुद्दीन ओवैसी (फोटो- PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • किंगमेकर की भूमिका में ओवैसी
  • मेयर, डिप्टी मेयर के लिए AIMIM पर नजर
  • क्या TRS को सपोर्ट करेगी ओवैसी की पार्टी?

तेलंगाना के ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम के चुनाव के नतीजे शुक्रवार को घोषित हो गए. परिणाम में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला. 150 सीटों वाले ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम में TRS 56, बीजेपी 48 और AIMIM 44 सीट जीतने में सफल रही. बहुमत का आंकड़ा 75 है, लेकिन तीनों ही पार्टियां इससे दूर हैं और अब मामला मेयर को लेकर फंस गया है. ऐसे में अब सबकी नजर AIMIM की ओर है.

क्या असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM केसीआर की पार्टी TRS को समर्थन देगी. इसे लेकर जब असदुद्दीन ओवैसी से सवाल किया गया तो उन्होंने सीधा जवाब नहीं दिया. बेबाकी से अपनी राय रखने वाले ओवैसी ने कहा कि मुझे भारत की राजनीति की लैला बना दिया गया और सारे मजनूं मंडरा रहे हैं. 

दरअसल, असदुद्दीन ओवैसी आजतक के शो टक्कर में शिरकत कर रहे थे. इस दौरान उनसे सवाल किया गया कि अब मेयर का चुनाव होना है. उसमें टीआरएस को आपकी जरूरत पड़ेगी. क्या आप समर्थन देंगे. इसपर ओवैसी ने कहा कि मुझे भारत की राजनीति की लैला बना दिया गया और मजनूं मेरे पीछे घूम रहे हैं. वक्त आने दीजिए, फैसला लेने के बाद हम बताएंगे.

देखें: आजतक LIVE TV

इस पर ओवैसी से सवाल किया गया कि लैला को ये तो देखना होगा कि टीआरएस ने तीन तलाक बिल पर सरकार का साथ दिया था. आप उस बिल के खिलाफ रहे हैं. ऐसे में आपका टीआरएस के साथ जाना तो मुश्किल होगा. आप बीच मंझधार में हैं.

इसका जवाब देते हुए AIMIM प्रमुख ने कहा कि इसी टीआरएस ने असेंबली में NPR (नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर) के खिलाफ प्रस्ताव पास करके कहा कि तेलंगाना में एनपीआर और एनआरसी नहीं लागू होगा. टीआरएस की नीति अलग है, हमारी अलग है. रहा सवाल मेयर और डिप्टी मेयर का, उसका नोटिफिकेशन आने दीजिए, हम पार्टी में चर्चा करेंगे और जो भी फैसला लिया जाएगा वो बताया जाएगा. 

किंगमेकर की भूमिका में ओवैसी

ग्रेटर हैदराबाद निकाय चुनाव के परिणाम के बाद ओवैसी किंगमेकर की भूमिका में नजर आ रहे हैं. 2016 में टीआरएस को बहुमत मिला था लेकिन इस बार मामला फंस गया. बीजेपी की एंट्री से टीआरएस को नुकसान हुआ और इस नुकसान की वजह से ओवैसी किंगमेकर बन गए हैं, यानी टीआरएस और ओवैसी मिलकर हैदराबाद का मेयर चुन सकते हैं, ऐसे समीकरण बन रहे हैं.
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें