scorecardresearch
 

राहुल गांधी ने कहा, अब से RSS को नहीं कहूंगा संघ परिवार, वजह भी बताई

राहुल गांधी ने गुरुवार को ट्वीट करके कहा, 'मेरा मानना है कि आरएसएस व सम्बंधित संगठन को संघ परिवार कहना सही नहीं, परिवार में महिलाएं होती हैं, बुजुर्गों के लिए सम्मान होता, करुणा और स्नेह की भावना होती है, जो आरएसएस में नहीं है.'

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • राहुल गांधी का संघ पर निशाना
  • कहा- न महिलाएं, न है सम्मान

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) को अब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी संघ परिवार नहीं कहेंगे. राहुल गांधी ने गुरुवार को ट्वीट करके कहा, 'मेरा मानना है कि आरएसएस व सम्बंधित संगठन को संघ परिवार कहना सही नहीं, परिवार में महिलाएं होती हैं, बुजुर्गों के लिए सम्मान होता, करुणा और स्नेह की भावना होती है, जो आरएसएस में नहीं है.'

वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने कहा, 'मेरा मानना है कि RSS व सम्बंधित संगठन को संघ परिवार कहना सही नहीं- परिवार में महिलाएं होती हैं, बुजुर्गों के लिए सम्मान होता, करुणा और स्नेह की भावना होती है- जो RSS में नहीं है, अब RSS को संघ परिवार नहीं कहूंगा!'

इससे पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा था, 'केरल के ननों पर यूपी में हमला संघ परिवार द्वारा एक समुदाय को दूसरे के खिलाफ खड़ा करने और अल्पसंख्यकों को रौंदने के लिए चलाए गए दुष्प्रचार का परिणाम है, एक राष्ट्र के रूप में आत्मनिरीक्षण करने और ऐसी विभाजनकारी ताकतों को हराने के लिए सुधारात्मक कदम उठाने का समय आ गया है.'

राहुल ने नीतीश पर साधा था निशाना
इससे पहले राहुल गांधी ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा था. राहुल ने कहा था, 'बिहार विधानसभा की शर्मनाक घटना से साफ़ है कि मुख्यमंत्री पूरी तरह RSS/BJP-मय हो चुके हैं, लोकतंत्र का चीरहरण करने वालों को सरकार कहलाने का कोई अधिकार नहीं है, विपक्ष फिर भी जनहित में आवाज़ उठाता रहेगा- हम नहीं डरते!'

कृषि कानून वापस लेने की मांग
आरएसएस और बीजेपी पर हमला बोलने के साथ ही राहुल गांधी इन दिनों खुलकर नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं. हाल में ही उन्होंने ट्वीट करके कहा था, 'वे किसानों को धर्म-मज़हब-राज्यों में बांटने चले हैं, लेकिन किसान राष्ट्र एकता के सिद्धांत पर डटे हैं, हर राज्य से एक ही आवाज़- कृषि विरोधी क़ानून वापस लो!'

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×