scorecardresearch
 

केंद्र के बातचीत के न्यौते के बाद भी क्यों नहीं जाने को तैयार? Rakesh Tikait ने खुद बताया

केंद्र के बातचीत के न्यौते के बाद भी क्यों नहीं जाने को तैयार? Rakesh Tikait ने खुद बताया

पीएम मोदी की नई टीम जरूर बन गई है लेकिन तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन पर सरकार और किसानों के बीच गतिरोध खत्म होता नजर नहीं आ रहा. केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कल एक बार फिर साफ कर दिया कि कृषि कानून वापस नहीं होंगे. कृषि मंत्री ने कहा कि कृषि कानून वापस लेने के अलावा सरकार किसानों से और किसी भी मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है. उधर किसान नेता टिकैत ने सरकार की शर्तों को मानने से मना कर दिया है और कहा कानून वापसी से कुछ भी कम मंजूर नहीं. आजतक से खास बातचीत में किसान नेता राकेश टिकैत ने बताया कि केंद्र की तरफ से न्यौते के बाद भी वे बातचीत के लिए क्यों नहीं तैयार.

Union Agriculture Minister Narendra Singh Tomar on Thursday reiterated that the government will not repeal the three farm laws in any condition. He said the government is ready to hold talks with the farmers to discuss other issues except repealing farm laws. In this video, Rakesh Tikait reveals why he is not willing to hold talks with the Centre.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें