scorecardresearch
 

तीसरी लहर को लेकर सरकार ने चेताया, कहा- अभी हर्ड इम्युनिटी नहीं, अगले 125 दिन बेहद अहम

नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉक्टर वीके पॉल ने कहा कि हम अभी तक कोरोना के खिलाफ हर्ड इम्युनिटी तक नहीं पहुंच सके हैं. हम इसे वायरल संक्रमण के नए प्रकोप के रूप में देख सकते हैं जिसे अभी रोकने की जरूरत है.

देश में हाल के दिनों में मास्क के इस्तेमाल में कमी आई (सांकेतिक-पीटीआई) देश में हाल के दिनों में मास्क के इस्तेमाल में कमी आई (सांकेतिक-पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 'लोग फेस मास्क के उपयोग को सामान्य प्रक्रिया में शामिल करें'
  • 'मलेशिया-बांग्लादेश में तीसरी लहर का अलर्ट, दूसरी लहर से ज्यादा'
  • सामुदायिक गतिशीलता में वृद्धि से संक्रमण का खतराः स्वास्थ्य मंत्रालय

कोरोना के कम होते केस के बीच लोगों की ओर से बढ़ती जा रही लापरवाही के बीच केंद्र सरकार ने शुक्रवार को कहा कि भारत अभी तक कोविड-19 के खिलाफ हर्ड इम्युनिटी हासिल नहीं कर सका है जिससे वायरल संक्रमण के नए प्रकोप की संभावनाओं से इंकार नहीं किया जा सकता है. साथ ही यह भी कहा कि महामारी को रोकने के लिए अगले 125 दिन बहुत महत्वपूर्ण होंगे.

नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉक्टर वीके पॉल ने कहा कि हमें अब संक्रमण को फैलने से रोकने की जरूरत है और यह कोविड-उपयुक्त व्यवहार को अपनाकर ही संभव है.

उन्होंने कहा कि हम अभी तक कोरोना के खिलाफ हर्ड इम्युनिटी तक नहीं पहुंच सके हैं. हम इसे वायरल संक्रमण के नए प्रकोप के रूप में देख सकते हैं लेकिन हमें इसे अभी रोकने की जरूरत है. यह संभव है यदि हम सुरक्षित क्षेत्र में रहने के लिए कोरोना-उपयुक्त व्यवहार का पालन करते हैं. उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में भारत के लिए अगले 125 दिन "बेहद महत्वपूर्ण" होंगे.

तीसरी लहर को लेकर डॉक्टर वीके पॉल ने कहा कि अधिकांश क्षेत्रों में स्थिति बद से बदतर हो गई है. कुल मिलाकर दुनिया तीसरी लहर की तरफ बढ़ रही है. डब्ल्यूएचओ की तीसरी लहर पर चेतावनी को हल्के में नहीं लिया जा सकता है, यह एक लाल झंडा है.

मास्क के इस्तमेाल में गिरावटः स्वास्थ्य मंत्रालय

कोरोना के मामलों में गिरावट के बाद कई तरह के प्रतिबंधों में ढील दी गई है और आम जनजीवन को पटरी पर लाने की कोशिश की जा रही है, लेकिन अनलॉक के दौरान बड़ी संख्या में लोग कोरोना गाइडलाइंस का पालन नहीं कर रहे हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि हाल के दिनों में मास्क का इस्तेमाल में गिरावट आई है.
 
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि आंकड़े बताते हैं कि गतिविधियों को फिर से शुरू करने के बाद फेस मास्क के उपयोग में अनुमानित गिरावट आई है. हमें अपने जीवन में फेस मास्क के उपयोग को सामान्य प्रक्रिया के रूप में शामिल कर लेना चाहिए.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि दूसरी लहर के दौर में देश में 4 लाख से अधिक के मामले आ रहे थे. लेकिन अब देश में एक्टिव केस लोड घटकर 4.3 लाख तक आ गया है. इस बीच देश में टीकाकरण का लक्ष्य 39 करोड़ डोज तक पहुंच गया है.

इसे भी क्लिक करें --- महाराष्ट्र और दक्षिण के सीएम को Modi ने दिया Corona की तीसरी लहर से लड़ने का मंत्र

लव अग्रवाल ने कहा कि एक बार फिर कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं. पड़ोसी मुल्कों में भी नए मामलों में तेजी देखी जा रही है. म्यांमार, इंडोनेशिया, मलेशिया और बांग्लादेश में मामले बढ़ रहे हैं. मलेशिया और बांग्लादेश में तीसरी लहर की चेतावनी दी गई है. और यह लहर दूसरी लहर की पीक से भी ज्यादा होगी.

6 राज्यों के CM से पीएम मोदी की चर्चा

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से कहा गया कि पीएम ने आज 6 राज्यों (केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडुन और ओडिशा) के मुख्यमंत्रियों से बात की. पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि कुछ राज्यों में अभी भी ज्यादा नए मामले दर्ज किए जा रहे हैं. पीएम ने कोविड की रणनीतियों पर जोर दिया है.

पीएम मोदी ने इन राज्यों से कहा है कि पीएम केयर्स ने पीएसए प्लॉन्टस को मंजूरी दी है. इस काम की देखरेख के लिए एक नोडल अधिकारी नियुक्त किया जाएगा और इन्हें अगले 15 दिनों में स्थापित कर दिया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि बच्चे भी अतिसंवेदनशील हो सकते हैं और उनकी सुरक्षा के लिए उचित योजना की आवश्यकता है.

नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ वीके पॉल ने कहा कि वैक्सीन की डोज मृत्यु दर को 82% तक कम करने में सक्षम थी. जबकि दूसरी लहर के दौरान कोरोना के कारण होने वाली 95% मौतों को रोकने में वैक्सीन की दो डोज सफल रहीं.

स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों का कहना है कि भारत सरकार के आंकड़ों से पता चलता है कि जिन क्षेत्रों में सामुदायिक गतिशीलता में वृद्धि हुई है. लाल रंग के जिलों में गतिशीलता के फिर से शुरू होने का स्तर कोरोना से पूर्व कोरोना ​​समय के करीब चला गया है. भारत सरकार का कहना है कि इससे इन जिलों में संक्रमण के प्रसार पर असर पड़ सकता है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें