scorecardresearch
 

रोहिंग्या केसः SC ने खारिज की याचिका, तय प्रक्रिया पूरी होने तक प्रत्यर्पण नहीं

सुप्रीम कोर्ट ने आज गुरुवार को कहा कि जम्मू में हिरासत में लिए गए रोहिंग्या मुसलमानों को निर्धारित प्रक्रिया का पालन किए बगैर म्यांमार प्रत्यर्पित नहीं किया जाएगा.

सुप्रीम कोर्ट (PTI) सुप्रीम कोर्ट (PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जम्मू में रह रहे रोहिंग्या लोगों को कोई राहत नहीं
  • सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र के आदेश पर स्टे नहीं लगाया
  • रोहिंग्या शरणार्थी सलीमुल्ला की याचिका पर फैसला

सुप्रीम कोर्ट की ओर से जम्मू में रह रहे रोहिंग्या लोगों को कोई राहत नहीं मिली है. देश की सबसे बड़ी अदालत ने मामले में फैसला सुनाते हुए कहा कि जम्मू में रोहिंग्या मुसलमानों का प्रत्यर्पण तय प्रक्रिया पूरी होने तक नहीं होगा. इस तरह के कोर्ट ने केंद्र के आदेश पर कोई स्टे नहीं लगाया.

सुप्रीम कोर्ट ने आज गुरुवार को कहा कि जम्मू में हिरासत में लिए गए रोहिंग्या मुसलमानों को निर्धारित प्रक्रिया का पालन किए बगैर म्यांमार प्रत्यर्पित नहीं किया जाएगा.

मुख्य न्यायाधीश जस्टिस एसए बोबडे की अगुवाई वाली बेंच ने उस याचिका पर यह आदेश पारित किया जिसमें जम्मू में हिरासत में लिए गए रोहिंग्या शरणार्थियों को तत्काल रिहा करने और उन्हें म्यांमार प्रत्यर्पित करने से रोकने को लेकर केंद्र को निर्देश देने के लिए अनुरोध किया गया था.

जम्मू-कश्मीर में अवैध रूप से रह रहे रोहिंग्या मुसलमान को हिरासत में रखने के खिलाफ दाखिल याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने आज अपने आदेश में कहा कि रोहिंग्या मुस्लिमों को तब तक म्यांमार वापस भेजा नहीं जा सकता. जब तक उनको वापस भेजने की द्विपक्षीय तय प्रक्रिया का पालन नहीं कर लिया जाता.

कोर्ट ने इस आदेश के साथ ही याचिका का निपटारा किया. रोहिंग्या शरणार्थी मोहम्मद सलीमुल्ला की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला दिया.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें