scorecardresearch
 

बिहारः भारी बारिश से रक्सौल में सीमा सुरक्षा करने वाले जवान संकट में, जलमग्न हुआ अस्थायी पोस्ट

रक्सौल के पनटोका गांव के 393 पिलर जो सिरिसवा नदी के तट पर हैं वहां जवान सीमा की सुरक्षा करते हैं. इन दिनों नेपाल के साथ-साथ बिहार में लगातार बारिश भी हो रही है, जिससे नेपाली पहाड़ी नदियां उफान पर हैं. ऐसे में जवानों के लिए अपना काम करना मुश्किल हो रहा है.

भारी बारिश की वजह से अस्थायी पोस्ट भी जलमग्न हुआ (फोटो-गणेश) भारी बारिश की वजह से अस्थायी पोस्ट भी जलमग्न हुआ (फोटो-गणेश)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पिलर पर टिका है ssb का अस्थायी पोस्ट
  • लगातार बारिश के कारण पानी से घिरा अस्थायी पोस्ट
  • 'पोस्ट के जलमग्न होने के बाद भी अलर्ट हैं जवान'

कोरोना संकट के बीच लगातार बारिश की वजह से बिहार नेपाल से सटे कई सीमावर्ती इलाके बाढ़ की चपेट में हैं. इस वजह से सीमा की सुरक्षा में तैनात जवानों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. बिहार नेपाल सीमा के रक्सौल अनुमंडल में सीमा सुरक्षा की जिम्मेदारी एसएसबी की 47वीं बटालियन की है, जिनका काम कोरोना काल में मुख्य सड़क के अलावा अन्य रास्तों पर अवैध आवाजाही को रोकना है लेकिन कई इलाकों के जलमग्न होने से उनके काम में बाधा आ रही है.

रक्सौल के पनटोका गांव के 393 पिलर जो सिरिसवा नदी के तट पर हैं वहां जवान सीमा की सुरक्षा करते हैं. इन दिनों नेपाल के साथ-साथ बिहार में लगातार बारिश भी हो रही है जिससे नेपाली पहाड़ी नदियां उफान पर हैं. इस कारण नेपाल से निकलने वाली नदियां बिहार होते हुए अन्य राज्यों में अपना रौद्र रूप दिखा रही हैं.

एक बार फिर से बिहार नेपाल सीमा के रक्सौल बीरगंज को जोड़ने वाली सिरिसवा नदी ऊफान पर है. ऐसे में नदियों के किनारे रहने वालों का जीना दूभर हो गया है.

पानी से घिरा अस्थायी पोस्ट
पानी से घिरा अस्थायी पोस्ट

रक्सौल में बने एसएसबी के अस्थायी पोस्ट भी बाढ़ की चपेट में घिर गया है. हम बात कर रहे हैं रक्सौल शहर के पनटोका गांव की, जहां पर 393 पिलर के पास सिरिसवा नदी के तट पर जवानों द्वारा रास्तों से अवैध आवाजाही को रोकने के लिए अस्थायी पोस्ट बनाया गया है, लेकिन जवानों के रहने के लिए बना अस्थायी पोस्ट ही बाढ़ में घिर गया है.

अस्थायी पोस्ट पिलर पर टिका हुआ है जो खुद जर्जर है. ऐसे में बेहद विषम परिस्थितियों में भी जवान सीमा की सुरक्षा कर रहे है. कोरोना महामारी को देखते हुए बिहार नेपाल सीमा सील कर दी गई है जिसके बावजूद आए दिन अवैध तरीके से लोगों के आवाजाही के साथ तस्करी की भी सूचना मिलती रहती है. रक्सौल से सटा नेपाल का बीरगंज शहर है.

इस संबंध में 47 बटालियान के कमांडेंट प्रियवर्त शर्मा ने बताया कि इनके अंतर्गत लगभग सभी पोस्ट नदी से घिरी है या नदी पर ही बनाए गए हैं, जिससे बाढ़ के समय इनके लिए काम करना मुश्किल हो जाता है. उसके बावजूद भी ये किसी परिंदा को पर मारने नहीं देंगे. हम सजग हैं किसी भी असामाजिक तत्व को सेंधमारी नहीं करने देंगे. (इनपुट- गणेश शंकर)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें