scorecardresearch
 

राहुल गांधी बोले- किसानों को लाल किले में किसने जाने दिया, गृह मंत्री से पूछिए

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को किसानों के मुद्दे पर केंद्र सरकार को घेरा. उन्होंने कहा कि किसानों के आंदोलन के साथ क्या चल रहा है? आप जानते हैं. किसानों को पीटा जा रहा है. उनको डराया जा रहा है. हम सब जानते हैं कि क्या चल रहा है.

X
राहुल गांधी ने केंद्र सरकार को घेरा (फोटो-PTI) राहुल गांधी ने केंद्र सरकार को घेरा (फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • किसानों को पीटा और डराया जा रहा-राहुल
  • 'कानून से मंडी व्यवस्था खत्म हो जाएगी'
  • हम किसानों के साथ, एक इंच पीछे न हटें-राहुल

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को किसानों के मुद्दे पर केंद्र सरकार को घेरा. उन्होंने कहा कि किसानों के आंदोलन के साथ क्या चल रहा है? आप जानते हैं. किसानों को पीटा जा रहा है. उनको डराया जा रहा है. 

हम सब जानते हैं कि क्या चल रहा है. राहुल गांधी ने कहा कि पहला कानून मंडी व्यवस्था को खत्म कर देगा. दूसरा कानून कृषि व्यवस्था को खत्म कर देगा. इससे सबसे बड़े उद्योगपति जितना भी अनाज जमा करना चाहते हैं, कर सकते हैं. इससे किसान दाम नेगोशिएट नहीं कर सकता है. 

तीसरा कानून ये है कि किसान इन मामलों को कोर्ट नहीं ले जा सकता. ये पूरी तरह से क्रिमिनल एक्ट है. राहुल गांधी ने कहा कि इस कानून को वापस लिया जाना चाहिए. हम चाहते हैं कि किसानों के साथ बातचीत कर इसका समाधान निकाला जाए. लाल किले पर निशान साहिब फहराने के सवाल पर राहुल गांधी ने कहा कि पचास किसानों को किसने लाल किले में जाने दिया. किसने प्रदर्शकारियों को लाल किले के अंदर जाने दिया. 

राहुल गांधी ने कहा कि किसानों को लाल किले में किसने जाने दिया, इसके लिए कौन जिम्मेदार है, गृह मंत्री से जाकर पूछिए. प्रधानमंत्री 5 लोगों के लिए काम करते हैं, उनके पास बोलने के लिए कुछ नहीं है. राहुल गांधी ने कहा कि हम चाहते हैं कि किसानों के साथ बातचीत कर इसका समाधान निकाला जाए. कांग्रेस सांसद ने किसानों से कहा कि आप एक इंच भी पीछे मत हटिये, हम आपके साथ हैं. हम किसानों के साथ हैं, एक इंच पीछे मत हटिए

देखें: आजतक LIVE TV

राहुल गांधी ने कहा कि हम यह भी मानते हैं कि कृषि प्रणाली में सुधार की जरूरत है. लेकिन आप इतने जिद्दी क्यों हो रहे हैं. अगर आप 2 साल के लिए कानून को ताक पर रख सकते हैं तो फिर उन्हें रद्द क्यों नहीं किया जाए. उसके बाद फिर से कोशिश करें. 


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें