scorecardresearch
 

राफेल: '65 करोड़ के कमीशन' के पीछे कौन? कांग्रेस-BJP के एक-दूसरे पर आरोप

राफेल डील पर आई फ्रेंच मीडिया की रिपोर्ट को लेकर सियासत गरमा गई है. 65 करोड़ की कमीशन को लेकर बीजेपी और कांग्रेस आमने-सामने आ गए हैं. कांग्रेस ने इसे सबसे बड़ा रक्षा घोटाला बताया तो बीजेपी ने कहा कि राहुल और प्रियंका ने कमीशनखोरी की है.

X
प्रियंका गांधी और संबित पात्रा (फाइल फोटो) प्रियंका गांधी और संबित पात्रा (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • राफेल डील पर फ्रेंच मीडिया के खुलासे पर बीजेपी-कांग्रेस आमने-सामने
  • प्रियंका बोलीं- बीजेपी राज में काले कारनामों को छुपाने की लाइन लगी
  • संबित पात्रा बोले- कांग्रेस पार्टी बिना कमीशन के कुछ नहीं करती

फ्रांस के साथ हुई राफेल डील को लेकर एक बार फिर से बवाल मच गया है. फ्रेंच पब्लिकेशन मीडियापार्ट ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि इस डील के लिए दसॉ एविएशन ने सुशेन गुप्ता नाम के बिचौलिए को 7.5 मिलियन यूरो (65 करोड़ रुपये) दिए. इस पर अब बीजेपी और कांग्रेस आमने-सामने आ गए हैं.

राफेल डील को लेकर हुए इस खुलासे पर राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी सरकार को घेरा है. कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसे सबसे बड़ा रक्षा घोटाला बताया. इसके बाद बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस की और आरोप लगाते हुए कहा कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने कमीशनखोरी की है.

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा कि राफेल घोटाला 60 से 80 करोड़ रुपये के कमीशन का नहीं है, बल्कि ये सबसे बड़ा रक्षा घोटाला है और स्वतंत्र जांच ही इसका खुलासा कर सकती है. उन्होंने सवाल किया कि क्या ये सही नहीं है कि 26 मार्च 2019 को ईडी ने छापेमारी में बिचौलियों से रक्षा मंत्रालय के गोपनीय दस्तावेज बरामद किए थे. ये राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डालने, देशद्रोह और ऑफिशियल सीक्रेट एक्ट का उल्लंघन है. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि नए खुलासे से राफेल भ्रष्ट्राचार को दफनाने के लिए मोदी सरकार, सीबीआई और ईडी के बीच सांठगांठ का पता चलता है. 

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट कर सरकार को घेरा. राहुल ने लिखा कि जब सत्य साथ है तो फिक्र की क्या बात है. उन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से अपील करते हुए कहा कि भ्रष्ट केंद्र सरकार के खिलाफ ऐसे ही लड़ते रहो. वहीं, प्रियंका गांधी ने लिखा कि कालेधन की सफाई का जुमला देकर भाजपा ने देश को लाइन में लगा दिया, लेकिन भाजपा राज में काले कारनामों को छुपाने जैसे कामों की लाइन लगी है.

पात्रा बोले- कांग्रेस ने भ्रष्टाचार का रिकॉर्ड तोड़ा

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने भी इस मामले को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की और कांग्रेस और गांधी परिवार को निशाने पर लिया. पात्रा ने कहा कि 2007 से 2012 के बीच दसॉ एविएशन ने एक बिचौलिए को कथित तौर पर 65 करोड़ रुपये दिए. उस समय कांग्रेस की सरकार थी. राहुल गांधी को इटली से जवाब देना चाहिए. साथ ही ये भी कहा कि राहुल गांधी जवाब दें कि आपने और आपकी पार्टी ने इतने सालों तक राफेल पर भ्रम फैलाने की इतनी कोशिश क्यों की, जबकि उन्हीं की सरकार में ये घोटाला हुआ था. पात्रा ने कहा कि 2007 से 2012 के बीच राफेल डील में भ्रष्टाचार हुआ. कांग्रेस ने भारत में कमीशन का रिकॉर्ड तोड़ा है. राफेल डील पर राहुल गांधी ने झूठ फैलाया.

उन्होंने राहुल गांधी और प्रियंका गांधी पर कमीशनखोरी का आरोप लगाया. संबित पात्रा ने आगे कहा कि अगर INC यानी इंडियन नेशनल कांग्रेस को रिनेम किया जाए और I Need Commission कहा जाए तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी. बिना कमीशन के ये कुछ नहीं करती है. राहुल गांधी, सोनिया गांधी, प्रियंका वाड्रा, रॉबर्ट वाड्रा सब कमीशन लेते हैं. उन्होंने कहा जीप घोटाला, बोफोर्स घोटाला, टेट्रा ट्रक का घोटाला, अगस्ता वेस्टलैंड का घोटाला, जहां कमीशन वहां कांग्रेस है. यूपीए सरकार के दौरान हर डील के अंदर एक डील थी और फिर भी डील नहीं हो पाती थी. 65 करोड़ रुपये लेने के बाद भी नेगोशिएशन नहीं हो पाया क्योंकि इतने में परिवार संतुष्ट नहीं था. धन्यवाद है मोदीजी को जो हमने सरकार से सरकार डील की और राफेल आया. 

उन्होंने कहा कि कौन कहता है कि भ्रष्टाचार का पता नहीं होता है. भ्रष्टाचार का पता है 10 जनपथ. जबसे बीजेपी आई है तब से भ्रष्टाचार बेघर हो गया है और गांधी परिवार बेबस हो गया है और इस बेबसी का आलम हमने कई बार देखा है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें