scorecardresearch
 

किसान आंदोलन: पंजाब का ये पूरा गांव सड़क पर कर रहा विरोध, घरों में लटके ताले

दिल्ली की सीमा पर आंदोलन कर रहे किसानों को लगातार सात दिन हो गए हैं. पंजाब से बड़ी संख्या में किसान सीमा पर आए हुए हैं, कुछ जगह तो ऐसी हैं जहां पूरे का पूरा गांव ही खाली हो गया है.

X
पंजाब से बड़ी संख्या में आंदोलन करने आए हैं किसान
पंजाब से बड़ी संख्या में आंदोलन करने आए हैं किसान
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कृषि कानून के खिलाफ आक्रामक हुआ आंदोलन
  • पंजाब-हरियाणा से बड़ी संख्या में पहुंचे किसान

कृषि कानून के खिलाफ जारी किसानों के आंदोलन को काफी समर्थन मिल रहा है. पंजाब से शुरू हुआ आंदोलन हरियाणा, यूपी समेत अन्य राज्यों में फैल चुका है. हरियाणा की कई खाप पंचायत अपना समर्थन किसानों को जता चुकी हैं. पंजाब में तो ये हाल ही कि एक पूरा गांव इस वक्त सड़क पर आंदोलन करने के लिए उतर गया है. 

पंजाब के मोहाली रायपुर खुर्द गांव की आबादी करीब 8 हजार है लेकिन इन दिनों पूरे गांव में सन्नाटा पसरा है. घरों में ताले लगे हैं, क्योंकि यहां के ज्यादातर किसान दिल्ली में आंदोलन कर रहे हैं. 

क्लिक कर देखें: और तेज होगा किसान आंदोलन! पुलिस ने बंद किए कई रास्ते

गांव के किसानों के दिल्ली चले जाने की वजह से फसलें सूख रही हैं, क्योंकि यहां कोई गेहूं की की फसल में पानी चलाने वाला नहीं है. किसान चाह रहे हैं कि उनके खून पसीने की कमाई ना सूखे इसलिए वो आंदोलन के रास्ते पर खड़े हैं. किसानों का कहना है कि जब फसल पैदा करने से कोई फायदा नहीं होगा, तो फिर यहां रुकने का क्या फायदा.

देखें: आजतक LIVE TV 

राशन लेकर दिल्ली आए हैं किसान
आपको बता दें कि पंजाब से बड़ी संख्या में लोग अपने ट्रैक्टर, ट्रॉली लेकर दिल्ली की ओर आए हैं. अभी भी हजारों किसान पंजाब-हरियाणा बॉर्डर पर हैं तो बड़ी संख्या में किसान दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर डटे हैं.

किसानों का तर्क है कि वो लंबी लड़ाई के लिए यहां आए हैं और जबतक कानून वापस नहीं होते, तबतक वापस नहीं जाएंगे. किसान अपने साथ करीब तीन-चार महीने का राशन लाए हैं, रहने के लिए कंबल, झोपड़ी और अन्य सामान भी लेकर पहुंचे हैं.

इसके अलावा किसानों के इस आंदोलन को हरियाणा में खाप पंचायतों का खुला समर्थन मिल गया है. जींद में खाप महापंचायत में तय हुआ कि किसान आंदोलन का समर्थन करेंगे. हरियाणा में करीब 40 खाप पंचायत ऐसी हैं, जिन्होंने खुले तौर पर कृषि कानून का विरोध किया है और सरकार के खिलाफ आंदोलन का समर्थन किया है.

गौरतलब है कि पंजाब से किसान बड़ी संख्या में दिल्ली और हरियाणा की ओर कूच कर रहे हैं. करीब 30 से अधिक संगठन सिर्फ पंजाब से ही आंदोलन में शामिल हैं. इसके अलावा पंजाब की फिल्म इंडस्ट्री, म्यूजिक इंडस्ट्री किसानों के समर्थन में अपनी आवाज बुलंद कर रही है. सोशल मीडिया से लेकर सड़क तक पंजाब के किसानों का हल्ला बोल जारी है. जिन्हें अब यूपी, दिल्ली और हरियाणा के लोगों का भी समर्थन मिल रहा है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें