scorecardresearch
 

AMU में बोले पीएम मोदी- जो देश का है, वो हर देशवासी का है, सबको मिले लाभ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह में हिस्सा लिया. इस दौरान पीएम मोदी ने यहां एक खास डाक टिकट जारी किया, साथ ही अपने संबोधन में छात्रों को कई मंत्र भी दिए.

AMU कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी AMU कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • AMU के कार्यक्रम में पीएम मोदी का संबोधन
  • जो देश का है, वो हर देशवासी का है: PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह में हिस्सा लिया. इस दौरान पीएम मोदी ने यहां एक खास डाक टिकट जारी किया, साथ ही अपने संबोधन में छात्रों को कई मंत्र भी दिए. पीएम मोदी ने यहां बड़ी राजनीतिक लकीर भी खींच दी, जहां उन्होंने कहा कि जो भी देश का है वो हर नागरिक है और संविधान में नागरिकों के लिए जो अधिकार हैं, वो हर किसी को मिले हैं.

कोरोना काल में AMU ने की मदद
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि AMU की दीवारों में देश का इतिहास है, यहां से पढ़ने वाले छात्र दुनिया में देश का नाम रोशन कर रहे हैं. यहां से निकले छात्रों से कई बार विदेश में उनकी मुलाकात हुई, जो हमेशा हंसी-मजाक और शेर-ओ-शायरी के अंदाज में खोए रहते हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि AMU ने लाखों युवाओं को तराशा है और एक नई सोच जगाई है. कोरोना काल में AMU ने समाज की मदद की, मुफ्त टेस्ट करवाए गए, प्लाज्मा बैंक बनवाया और पीएम केअर्स फंड में बड़ी राशि का योगदान भी दिया गया.

AMU में बसता है मिनी इंडिया
पीएम मोदी ने बताया कि AMU के चांसलर ने उन्हें कुछ दिन पहले चिट्ठी लिख कोरोना वैक्सीन के मिशन के दौरान हर संभव मदद का भरोसा दिया है. AMU में एक मिनी इंडिया है, यहां उर्दू-हिन्दी-अरबी-संस्कृत पढ़ाई जाती है.

पीएम बोले कि यहां की लाइब्रेरी में कुरान है तो गीता-रामायण के अनुवाद भी हैं. AMU में एक भारत-श्रेष्ठ भारत की अच्छी तस्वीर है. यहां पर इस्लाम को लेकर जो रिसर्च होती है, उससे भारत का इस्लामिक देशों से संबंध अच्छा होता है. 

देखें- आजतक LIVE TV

‘जो देश का है, वो सबका है’ 
पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि सर सैयद का संदेश कहता है कि हर किसी की सेवा करें, चाहे उसका धर्म या जाति कुछ भी हो. ऐसे ही देश की हर समृद्धि के लिए उसका हर स्तर पर विकास होना जरूरी है, आज हर नागरिक को बिना किसी भेदभाव के विकास का लाभ मिल रहा है. पीएम बोले कि नागरिक संविधान से मिले अधिकारों को लेकर निश्चिंत रहे, सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास ही सबसे बड़ा मंत्र है. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जो देश का है, वो हर देशवासी है. पीएम मोदी ने कहा कि कुछ वक्त पहले AMU के एक पूर्व छात्र ने उनसे बात करते हुए बताया. कभी मुस्लिम बेटियों का स्कूल से ड्रॉप आउट रेट 70 फीसदी से अधिक था, कई दशकों से ऐसी ही स्थिति थी. लेकिन स्वच्छ भारत मिशन के बाद अब ये घटकर 30 फीसदी तक रह गया है. 

सियासत से बड़ा है समाज: PM मोदी
पीएम मोदी ने कहा कि समाज में वैचारिक मतभेद होते हैं, लेकिन जब बात राष्ट्र के लक्ष्य के प्राप्ति की हो तो सभी मतभेद को किनारे रख देने चाहिए. देश में कोई किसी भी जाति या मजहब का हो, उसे देश को आत्मनिर्भर बनाने की ओर योगदान देना चाहिए. पीएम मोदी ने कहा कि AMU से कई सेनानी निकले हैं, जिन्होंने अपने विचारों से हटकर देश के लिए जंग लड़ी. पीएम मोदी ने कहा कि सियासत सिर्फ समाज का एक हिस्सा है, लेकिन सियासत-सत्ता से अलग देश का समाज होता है. ऐसे में देश के समाज को बढ़ाने के लिए हमें काम करते रहना चाहिए.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जब हम एक लक्ष्य के साथ आगे बढ़ेंगे, तो कुछ तत्व ऐसे होते हैं जिन्हें इससे दिक्कत होगी. वो तत्व हर समाज में हैं, लेकिन हमें इन सबसे आगे बढ़कर देश के लिए काम करना चाहिए. पिछली शताब्दी में मतभेदों के नाम पर काफी वक्त जाया हो गया है, लेकिन अब वक्त ना गंवाते हुए नये भारत, आत्मनिर्भर भारत के लक्ष्य को पूरा करना है.

पीएम मोदी बोले कि AMU में भी अब 35 फीसदी तक मुस्लिम बेटियां पढ़ रही हैं. इसकी फाउंडर चांसलर की जिम्मेदारी बेगम सुल्तान ने संभाली थी. पीएम मोदी बोले कि अगर महिला शिक्षित होती है, तो पूरी पीढ़ी शिक्षित हो जाती है. पीएम मोदी ने बताया कि आज हमारी सरकार ने तीन तलाक से पीड़ित महिलाओं की मदद करने का फैसला लिया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति में भविष्य को ध्यान रखा गया है, नेशन फर्स्ट की भावना रखी गई है. 

पीएम मोदी ने छात्रों को दिए टास्क
पीएम मोदी ने कहा कि AMU के सौ साल पूरे हो रहे हैं, ऐसे में सौ हॉस्टल के छात्र कुछ रिसर्च करें. आजादी के 75 साल पूरे होने के मौके पर ऐसे स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में रिसर्च करें, जिनके बारे में अबतक काफी कम लोग जानते हैं. इनमें 75 आदिवासी स्वतंत्रता सेनानी, 25 महिला स्वतंत्रता सेनानी के बारे में जानकारी इकट्ठा करें. पीएम मोदी ने साथ ही पुरानी पांडुलिपी को डिजिटल क्षेत्र के जरिए दुनिया के सामने लाएं. 

पीएम मोदी ने अपने संदेश में कहा कि 1920 में तब के युवाओं ने एक लक्ष्य रखा, तो 1947 में देश आजाद हुआ. लेकिन 2020 से 2047 तक का वक्त अब काफी अहम है, क्योंकि देश अपनी आजादी के सौ साल पूरा करेगा. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें