scorecardresearch
 

पुलवामा चार्जशीटः जवानों के शव का वीडियो बनाकर कश्मीरी युवाओं को प्रेरित करना चाहता था उमर

NIA के मुताबिक उमर से उसके चाचा अम्मार अल्वी ने कहा कि आदिल अहमद डार का कोई पुराना ऑडियो वीडियो भेजो जिसको एडिट करके कश्मीरी भाषा में भेजकर ISI की मदद से प्रोपेगैंडा करवाया जाए, जिससे कश्मीरी युवा उसके फर्जी वीडियो देखकर जेहाद के लिए निकल पड़े.

X
चार्जशीट के अनुसार उमर कश्मीरी युवकों को प्रोत्साहित करना चाहता था
चार्जशीट के अनुसार उमर कश्मीरी युवकों को प्रोत्साहित करना चाहता था
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पुलवामा आतंकी हमले को लेकर एनआईए ने कल दाखिल की चार्जशीट
  • जैश आतंकी उमर फारुख मार्च में सुरक्षा बलों के हाथों मारा गया
  • उमर चाहता था कि दोनों देशों के बीच युद्ध हो जिससे घुसपैठ कराई जा सके

पुलवामा आतंकी हमले को लेकर राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) की ओर से दाखिल चार्जशीट में खुलासा हुआ है कि जैश आतंकी उमर फारूख ने अन्य आतंकियों के साथ बातचीत के दौरान कश्मीरी युवाओं को प्रेरित करने के लिए भारतीय सुरक्षा बलों के क्षत-विक्षत शरीर दिखाने वाला एक वीडियो बनाए जाने को लेकर चर्चा की थी.

NIA की ओर से दाखिल पुलवामा चार्जशीट पर मिली जानकारी के मुताबिक पुलवामा हमले का मास्टरमाइंड उमर फारूख जो कि इस साल मार्च के महीने सुरक्षा बलों के ऑपरेशन में ढेर कर दिया गया था. उसके मोबाइल से कई चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं.

उमर तक कैसे पहुंचे पैसे
NIA ने जो उमर फारूख के मोबाइल से वॉयस क्लिप निकाली है उसके मुताबिक उमर फारूख ने अपने दोनों चाचा, रऊफ असगर और अम्मार अल्वी से पैसे मांगे थे, उसके चाचा ने जो पैसे भेजे हैं उसकी भी जानकारी आजतक के पास मौजूद है.

जानकारी के मुताबिक 5 लाख 70 हजार रुपये पुलवामा हमले से पहले पाकिस्तान में उमर के खाते में डाला गया. NIA ये जानकारी हासिल कर रही है कि ये पैसे कैसे उमर तक कश्मीर में पहुंचा.

NIA के मुताबिक पुलवामा हमले के बाद मसूद अजहर का भतीजा उमर फारूख ये चैटिंग करता है कि कश्मीरी युवाओं को प्रोत्साहित करने और जेहाद करने के लिए सुरक्षा बलों के क्षत-विक्षत हुए शरीर का वीडियो बनाकर सर्कुलेट किया जाए.

NIA के मुताबिक उमर से उसके चाचा अम्मार अल्वी ने कहा कि आदिल अहमद डार का कोई पुराना ऑडियो वीडियो भेजो जिसको एडिट करके कश्मीरी भाषा मे भेजकर ISI की मदद से प्रोपेगैंडा करवाया जाए, जिससे कश्मीरी युवा उसके फर्जी वीडियो देखकर जेहाद के लिए निकल पड़े.

भारत-पाक में चाहता था युद्ध उमर
आतंकी उमर फारूख कश्मीर घाटी में पुलवामा में हमला करने से पहले इस बात की भी चर्चा जैश के आतंकियों के बीच में कर रहा था कि सुरक्षाबलों पर बड़ा हमला किया जाए जिससे कि भारत और पाकिस्तान के बीच में युद्ध हो जाए और इस युद्ध का फायदा उठाकर पाक अधिकृत कश्मीर और अफगानिस्तान में जो जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ट्रेनिंग ले रहे हैं उनकी घुसपैठ कश्मीर घाटी में करवा ली जाए.

एनआईए ने आजतक को यह एक्सक्लूसिव जानकारी दी है कि पाकिस्तान की आर्मी और ISI पुलवामा हमले के बाद बालाकोट में एयर स्ट्राइक होने से डरे हुए थे इसलिए मसूद अजहर के भाई रऊफ असगर के जरिए कश्मीर में उमर से फाइटर प्लेन के उड़ने की जानकारी ले रहे थे.

एनआईए ने इस बात का भी खुलासा किया है कि पुलवामा हमले के बाद भारत ने जब पाकिस्तान पर एयर स्ट्राइक किया तो वहां के हुक्मरानों ने यह प्रोपेगैंडा फैलाया कि जैश के आतंकियों को पाकिस्तान में डिटेन कर लिया गया, लेकिन आतंकी उमर की बातचीत ने पाकिस्तान के इस दावे की भी पोल खोल दी उमर पाकिस्तान में बैठे जैश के कमांडरों से चैट करता है तो उसमें वहां के कमांडर यह कहते हैं कि यह सिर्फ दिखावा है एनआईए ने यह पूरी जानकारी अपने चार्जशीट में दी है.

इसे भी पढ़ें --- पुलवामा हमले पर NIA का बड़ा खुलासा, ISI ने रची थी फिदायीन हमले की साजिश

एनआईए सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पुलवामा हमले के बाद फिदायीन आतंकी आदिल अहमद डार के घर जब विदेशी मीडिया से जुड़े पत्रकार गए तो आतंकी उमर पाकिस्तान में बैठे अपने आकाओं से उन पर हमला करने की परमिशन ले रहा था, लेकिन ऑडियो चैट में अम्मार अल्वी जोकि उमर का चाचा है उसने कहा कि अभी किसी विदेशी पत्रकार पर हमला करना ठीक नहीं है अंतरराष्ट्रीय मुद्दा बन जाएगा.

एनआईए सूत्रों ने आजतक को एक्सक्लूसिव जानकारी दी है कि जम्मू इंटरनेशनल बॉर्डर पर पाकिस्तान के शकरगढ़ लॉन्च पैड से घुसपैठ करने से पहले आतंकवादियों ने वहां पर जश्न मनाया था, जश्न मनाने के साथ-साथ एक बड़ी दावत पाकिस्तान के जैश के कमांडरों ने और पाक रेंजर्स के साथ मिलकर हुई थी उसी के बाद लॉन्च पैड से आतंकवादियों को कठुआ सांबा बॉर्डर से घुसपैठ कराई गई.

इसे भी पढ़ें --- पुलवामा हमला: मसूद अजहर दे रहा था उमर फारूख को निर्देश, NIA का खुलासा

एक महिला ओवरग्राउंड वर्कर 
जानकारी के मुताबिक आतंकी उमर ने 2016 में अफगानिस्तान के हेलमंड प्रांत में तालिबानी, अफगानी और हक्कानी आतंकवादियों के साथ हथियारों की ट्रेनिंग ली है.

आजतक को एनआईए के सूत्रों से जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक इस हमले में एक महिला ओवरग्राउंड वर्कर भी काम कर रही थी. एनआईए ने इंशा जान को अपनी चार्जशीट में शामिल किया है.

सूत्रों ने जानकारी दी है कि पाकिस्तानी आतंकी उमर इंशा जान को प्यार के जाल में फंसा कर उसके घर में ही कई बार जाकर रहता था. जब पुलवामा हमला हुआ और 40 जवान शहीद हो गए तो हमले के 2 दिन बाद उमर फारुख ने इंशा जान और उसके पिता को हमले पर बधाई दी थी और उसके घर पर भी गया था.

आदिल अहमद डार जोकि फिदायीन हमलावर था उसको रेडिकलाइज करने के लिए उमर फारुख ने बड़ा कदम उठाया था. एनआईए से मिली जानकारी के मुताबिक आदिल अहमद डार मार्च 2018 में अपने घर से भाग जाता है.

इसे भी पढ़ें --- J-K: बारामूला में फिर आतंकियों ने की फायरिंग, एक जवान शहीद, एक घायल

अप्रैल 2018 में उमर जब उससे मिलता है तो वह मसूद अजहर के भाषण सुना करके उसको रेडिकलाइज करता है. उसके बाद उमर फिदायीन हमले के लिए उसका ब्रेनवाश अपने चाचा अब्दुल रऊफ और अम्मार अल्वी का वॉइस मैसेज सुना कर करता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें