scorecardresearch
 

मणिपुर में सेना के काफिले पर आतंकी हमला, CO समेत 7 की गई जान, कैसे हुआ ये अटैक?

इस हमले में कमांडिंग ऑफिसर कर्नल विप्लव त्रिपाठी, उनकी पत्नी और बेटे ने मौके पर ही दम तोड़ दिया. वहीं बाद में चार और जवान शहीद हो गए. ऐसे में आतंकियों की इस नापाक साजिश ने 7 लोगों की जिंदगी छीन ली.

X
आतंकी हमले में कर्नल विप्लव त्रिपाठी और उनकी पत्नी की भी मौत आतंकी हमले में कर्नल विप्लव त्रिपाठी और उनकी पत्नी की भी मौत
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मणिपुर में आतंकियों का सेना पर बड़ा हमला
  • कर्नल समेत परिवार के दो सदस्यों की मौत
  • चार जवान भी शहीद हुए

मणिपुर में शनिवार को बड़े आतंकी हमले को अंजाम दिया गया. सुबह करीब दस बजे मणिपुर के चुराचांदपुर जिले के सिंघाट में आतंकियों ने इस हमले को अंजाम दिया. उनकी तरफ से  46 असम राइफल्स के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल विप्लव त्रिपाठी को निशाना बनाया गया और उनके काफिले पर ये जानलेवा हमला हुआ.

मणिपुर में सेना पर आतंकी हमला

इस हमले में कमांडिंग ऑफिसर कर्नल विप्लव त्रिपाठी, उनकी पत्नी और बेटे ने मौके पर ही दम तोड़ दिया. वहीं बाद में चार और जवान शहीद हो गए. ऐसे में आतंकियों की इस नापाक साजिश ने 7 लोगों की जिंदगी छीन ली. अभी तक इस हमले की आधिकारिक तौर पर किसी ने जिम्मेदारी नहीं ली है, लेकिन कहा जा रहा है कि मणिपुर की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने इसे अंजाम दिया है. इस आतंकी संगठन का जन्म 1978 में हुआ था और तभी ये कई मौकों पर ऐसे हमले कर चुका है. लेकिन शनिवार को हुए इस हमले को अब तक का सबसे घातक अटैक माना जा रहा है. 

( शहीद कर्नल विप्लव त्रिपाठी )

कैसे किया गया ये हमला?

जानकारी मिली है कि आतंकियों ने इस हमले को उस समय अंजाम दिया जब 6 असम राइफल्स के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल विप्लव त्रिपाठी फॉरवर्ड कैंप से वापस लौट रहे थे. उस समय उनके काफिले में उनका परिवार भी मौजूद था. लेकिन क्योंकि आतंकियों को उनकी मूवमेंट की पूरी जानकारी थी, ऐसे में एक तय रणनीति के तहत सिंघाट में उनके काफिले को निशाना बनाया गया और ये बड़ा हमला हो गया.

अभी क्या स्थिति है?

मौके पर स्थिति को नियंत्रण में कर लिया गया है लेकिन अभी भी रुक-रुक कर फायरिंग होती दिख रही है. ऐसे में सेना ने पूरे इलाके को घेर रखा है और उन दहशतगर्दों को पकड़ने का प्रयास है. बताया गया है हमले के तुरंत बाद दो संदिग्ध  Lallianmang और Thangzamang को हिरासत में लिया गया था, लेकिन बाद में उन्हें छोड़ दिया गया. ऐसे में अभी के लिए जांच जारी है और इस हमले की पीछे की साजिश समझने का प्रयास है.

इस आतंकी हमले की हर तरफ निंदा हो रही है और मुंहतोड़ जवाब देने पर जोर दिया जा रहा है. मणिपुर सीएम बिरेन सिंह ने ट्वीट किया कि 46 असम राइफल्स के काफिले पर कायरतापूर्ण हमले की कड़ी निंदा करता हूं, इसमें सीओ और उनके परिवार समेत कुछ कर्मियों की मौत हो गई. राज्य के बल और अर्धसैनिक बल पहले से ही आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन चला रहे हैं. दोषियों पर कड़ी कार्रवाई होगी. 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी इस हमले की कड़े शब्दों में आलोचना की है. उन्होंने कहा कि मणिपुर में असम राइफल्स के काफिले पर कायराना हमला बेहद दर्दनाक और निंदनीय है. देश ने सीओ और उनके परिवार के दो सदस्यों समेत 5 सैनिकों को खो दिया. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें