scorecardresearch
 

आजाद हिंद फौज में मेजर रहे ईश्वर लाल सिंह का सिंगापुर में निधन, राजनाथ सिंह ने उनकी मुलाकात को किया याद

भारतीय राष्ट्रीय सेना को आजाद हिंद फौज के नाम से भी जाना जाता है. भारतीय राष्ट्रवादियों द्वारा 1942 में इंपीरियल जापानी सेना के संरक्षण के माध्यम से भारत की स्वतंत्रता को सुरक्षित करने के लिए इस शस्त्र बल का गठन किया गया था.

X
सिंगापुर में ईश्वर लाल सिंह ने ली अंतिम सांस (फाइल फोटो) सिंगापुर में ईश्वर लाल सिंह ने ली अंतिम सांस (फाइल फोटो)

भारतीय राष्ट्रीय सेना में मेजर रहे ईश्वर लाल सिंह का सिंगापुर में शुक्रवार को 92 वर्ष की आयु में निधन हो गया. उनके परिवार के सदस्यों ने यह जानकारी दी. उन्होंने नेताजी सुभाष चंद्र बोस के नेतृत्व में देश की सेवा की थी. वह 1943 में भारतीय राष्ट्रीय सेना (INA) में शामिल हुए थे. वह सुभाष चंद्र बोस के करीबी थे. आईएनए सिंगापुर और मलेशिया में विभिन्न प्रमुख जातीय समूहों, हिंदुओं, मुसलमानों और सिखों का एक संग्रह था.

सिंगापुर में भारतीय दूतावास ने की पुष्टि

दिवंगत ईश्वर लाल सिंह के भतीजे मेलविंदर सिंह ने पीटीआई को बताया, “हमें अपने चाचा (ईश्वर लाल सिंह) के निधन के बारे में आपको सूचित करते हुए दुख हो रहा है. 5 अगस्त, 2022 को उनका निधन हो गया. सिंगापुर में भारतीय उच्चायोग ने निधन की पुष्टि करते हुए ट्वीट किया- “हम आईएनए के दिग्गज ईश्वर लाल सिंह के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हैं. उनकी आत्मा को शांति मिले.''

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने 2019 में ईश्वर लाल सिंह से की थी मुलाकात

राजनाथ सिंह ने 2019 में की थी मुलाकात

वहीं रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने ईश्वर लाल सिंह के निधन पर शोक जताया. उन्होंने ट्वीट किया- एक अपूरणीय क्षति! INA के दिग्गज, मेजर (सेवानिवृत्त) ईश्वर लाल सिंह ने असाधारण साहस और परिश्रम के साथ भारत की स्वतंत्रता के लिए लड़ाई लड़ी. मुझे नवंबर 2019 में अपनी सिंगापुर यात्रा के दौरान उनके साथ अपनी बातचीत याद आ रही है. उनके निधन से दुखी हूं. उनके परिवार के प्रति संवेदना. शांति.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें