scorecardresearch
 

पाक की ओछी हरकत, SCO बैठक में दिखाया गलत नक्शा, भारत ने किया बहिष्कार

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, रूसी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में पाकिस्तानी सुरक्षा सलाहकार ने गलत इरादे से वह काल्पनिक मानचित्र पेश किया जो पाकिस्तान की ओर से कुछ दिन पहले आधिकारिक तौर पर जारी किया गया था.

बैठक में NSA डोभाल भाग लेने वाले थे (फाइल-पीटीआई) बैठक में NSA डोभाल भाग लेने वाले थे (फाइल-पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पाक की हरकत से नाराज भारत रूस को बताकर निकल गया
  • भारत और पाकिस्तान दोनों क्षेत्रीय समूह एससीओ के सदस्य
  • नाटो के जवाबी कार्रवाई के रूप में स्थापित किया गया था SCO

भारत ने मंगलवार को शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के सदस्य देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों (NSA) की एक अहम बैठक का यह कहते हुए बहिष्कार किया कि पाकिस्तानी प्रतिनिधि ने भारतीय क्षेत्रों को पाकिस्तान के हिस्से के रूप में दिखाने वाले 'काल्पनिक' मानचित्र का इस्तेमाल किया. इस वर्चुअल बैठक में भारत की ओर से राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भाग लेने वाले थे.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, 'रूसी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में पाकिस्तानी सुरक्षा सलाहकार ने गलत इरादे से वह काल्पनिक मानचित्र पेश किया जो पाकिस्तान की ओर से कुछ दिन पहले आधिकारिक तौर पर जारी किया गया था. उन्होंने यह भी कहा कि यह मेजबान देश की ओर से जारी सलाह का घोर असम्मान और एससीओ चार्टर के नियमों का खुला उल्लंघन है.

अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि भारतीय पक्ष उसी समय मेजबान रूसी पक्ष से सलाह-मशविरा करके बैठक से बाहर निकल गया. यह वर्चुअल तौर बुलाई गई बैठक थी. 

प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने इस मसले पर एक सवाल का जवाब देते हुए कहा, "जैसा कि उम्मीद की जा रही थी, पाकिस्तान ने इस बैठक में एक भ्रामक विचार पेश किया.

एससीओ चार्टर का सरासर उल्लंघन

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, सरकारी सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तानी कार्रवाई एससीओ चार्टर का "सरासर उल्लंघन" था और एससीओ सदस्य देशों की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की सुरक्षा के सभी स्थापित मानदंडों के खिलाफ था. उन्होंने कहा कि भारतीय पक्ष ने पाकिस्तान द्वारा अवैध मानचित्र के उपयोग पर अपनी कड़ी आपत्ति जताई और यहां तक ​​कि रूसी पक्ष ने पाकिस्तानी प्रतिनिधि को ऐसा न करने के लिए मनाने की बहुत कोशिश की.

राष्ट्रीय सुरक्षा पर पाक प्रधानमंत्री के विशेष सहायक, मोइद डब्ल्यू यूसुफ द्वारा बैठक में पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व किया गया था. सूत्रों ने कहा कि रूस के राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के सचिव निकोलाई पेत्रुशेव ने बताया कि वह भारतीय एनएसए अजीत डोभाल के प्रति व्यक्तिगत रूप से बहुत आभारी हैं. उन्होंने कहा कि रूस ने पाकिस्तान का समर्थन नहीं किया और उसे उम्मीद है कि पाकिस्तान के "उकसाने वाले" कृत्य का एससीओ में भारत की भागीदारी पर कोई असर नहीं पड़ेगा. साथ ही भारतीय एनएसए के साथ निकोलाई पेत्रुशेव के मधुर व्यक्तिगत संबंधों पर कोई असर नहीं पड़ेगा. भारत और पाकिस्तान दोनों एक प्रभावशाली क्षेत्रीय समूह एससीओ के सदस्य हैं.

नाटो को एक जवाबी कार्रवाई के रूप में स्थापित किए गए शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ), सबसे बड़े ट्रांस-क्षेत्रीय अंतरराष्ट्रीय संगठनों में से एक के रूप में उभरा, जो दुनिया की आबादी का लगभग 44 प्रतिशत आर्कटिक महासागर से हिंद महासागर और प्रशांत महासागर से बाल्टिक सागर तक फैला हुआ है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें